दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार)

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit batutomania-spb.ru
Nitin
Pro Member
Posts: 177
Joined: 02 Jan 2018 16:18

Re: दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार)

Unread post by Nitin » 27 Jan 2018 13:16

बबलू रेणु के ऊपर झुक गया और उसके एक चुचि को मुँह में लेकर चूसना चालू कर दिया बबलू बारी-2 रेणु की दोनो चुचियों को चूसने लगा रेणु का दर्द भी कम हो गया बबलू ने धीरे-2 अपना लंड अंदर बाहर करना चालू कर दिया बबलू का लंड रेणु की टाइट चूत की दीवारों से रगड़ ख़ताहुआ अंदर बाहर हो रहा था रेणु को भी अब मज़ा आने लगा था उसने अपनी जाँघो को और फैला लिया था रेणु की दर्द की चीखे अब कामुक रूप ले चुकी थी रेणु के हाथ बबलू के बालों में खेल रहे थे दोनो एक दूसरे को पागलों की तरह किस कर रहे थे अब रेणु भी मस्ती में आ चुकी थी और नीचे अपनी गान्ड को धीरे-2 ऊपर की और करने लगी रेणु अपनी चूत के अंदर बबलू का लंड महसूस करके एक दम मस्त हो चुकी थी बबलू बीच-2में रेणु की चुचि को चूस्ता और कभी मसल देता अब रेणु का दर्द एक दम ख़तम हो चुका था

धीरे-2 बबलू अपनी रफ़्तार बढ़ाने लगा रेणु भी मस्ती उम्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह सीईईईईईईईईईई कर रही थी

रेणु : अहह उम्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह मुझीईईईई कुचह हो र्हााआअ हाईईईईईईई

बबलू ने और तेज़ी के साथ धक्के लगाने शुरू कर दिए रेणु मस्ती में आकर अपने बालों को नोचने लगी
रेणु:अहह औरर्र ज़ोर सीईईईई अहह उम्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह

रेणु का सारा जिस्म ऐंठने लगा उसकी चूत अपना पहला पानी छोड़ेने वाली थी अचानक रेणु का बदन अकड़ गया और उसकी गान्ड झटके खाने लगी रेणु जैसे स्वर्ग में थी वो झड चुकी थी रेणु की टाइट चूत को बबलू भी झेल नही पाया और रेणु के साथ ही उसकी चूत में झड गया दोनो हाँफने लगे बबलू रेणु के ऊपर ही लूड़क गया रेणु बबलू के बालों में प्यार से उंगलियों को फेरने लगी आज रेणु जिंदगी मेंपहली बार झड़ी थी दोनो एक दूसरे की बाहों में समाए हुए थी बबलू का लंड सिकुड कर रेणु की चूत से बाहर आ गया बबलू खड़ा हुआ लाइट ऑन कर दी रेणु अपने आप को इस हालत में देख शरमा गये बबलू वापिस बिस्तर पर आया तो उसने देखा गधे पर खून के दाग लगे हुए थे रेणु ने जल्दी से अपने कपड़े ठीक करके पयज़ामा पहना और गद्दे को गीले कपड़े सॉफ कर दिया फिर दोनो लाइट ऑफ करके एक दूसरे की बाहों में सो गये सुबह 7 बजे रेणु की मौसी ने डोर नॉक किया तो रेणु ने उठकर अपने आप और बबलू को उठा कर दुरस्त करके डोर खोला

सीमा: उठो बेटा फ्रेश हो जाओं फिर चाइ नाश्ता कर लेना

रेणु:जी मौसी

सीमा के जाते ही रेणु ने बबलू की तरफ देखा और मुस्करा कर नज़रे नीचे कर ली फिर रेणु बाहर चली गयी उस्दिन घर पर और ज़्यादा मेहमान आ गये जिसके कारण उन दोनो को शादी के बाद तक भी मोका नही मिला आख़िर कार रेणु अमन और बबलू तीनो शादी के बाद वापिस घर आ गये शोभा तीनो को देख बहुत खुस हुई बबलू दोपहर को स्टेशन चला गया वहाँ पर बबलू के इंचार्ज ने उसेबताया कि अगर वो अपनी नाइट शिफ्ट कर ले तो बहुत अच्छा होगा क्योंकि नाइट शिफ्ट में काम करने वाले एम्प्लोयि कम है बबलू ने थोड़ी देर सोचने के बाद हामी भर दी क्योंकि बबलू जानता था कि रात को ना तो वो रेणु को चोद पाएगा और ना ही शोभा को दिन में कम से कम शोभा की चूत तो मिल जाएगी फिर वो रात को आने की बोल कर वापिस घर आ गया और आते ही उसने शोभा को नाइट शिफ्ट के बारे में बता दिया रात को खाना खाने के बाद बबलू स्टेशन पर आ गया और अपने काम पर लग गया काम करते-2 रात के 1 बजचुके थे काम ख़तम करने के बाद बबलू अपने ऑफीस के स्टाफ रूम में आ गया और साथ लाए हुए दारू के क़्वार्टर को पीने के बाद सो गया अगले दिन सुबह बबलू 9 बजे घर वापिस पहुँचा जब उसने डोर बेल बजाई तो शोभा ने गेट खोला और बबलू अंदर आ गया शोभा ने जैसे ही गेट बंद किया बबलू ने पीछे से शोभा की चुचियों को दबोच लिया और मसलने लगा


शोभा:ओह क्या कर रहे हो छोड़ो मुझे रेणु घर पर है आज उसकी तबीयत खराब है इसलिए वो स्कूल नही गयी है

बबलू मन मार कर अपने रूम में आ गया और कपड़े चेंज करने लगा

शोभा:उसके कमरे के बाहर से) ऊपर आ कर नाश्ता कर लो

और शोभा ऊपर चली गयी बबलू कपड़े चेंज करके ऊपर आ गया और नाश्ता करने लगा जब शोभा उसे नाश्ता परोस रही थी तो बबलू ने शोभा से इशारे से पूछा रेणु कहाँ है तो शोभा ने उसके रूम की तरफ इशारा कर दिया बबलू ने फिर अपने लंड को पयज़ामे के ऊपर से पकड़ शोभा को दिखाते हुए शोभा से धीमी आवाज़ में कहा इसका तो कुछ करो देखो ना तुम्हारी चूत में जाने के लिए कैसे तड़प रहा है

शोभा:धत्त कैसे गंदी बातें करते हो
और शोभा मुस्कराने लगी

बबलू: एक बार दे दो ना नही तो मुझे नींद नही आएगी

शोभा:तुम नीचे जाओ में मोका देख कर आती हूँ

और बबलू नीचे आ गया और बिस्तर पर लेट कर शोभा का इंतजार करने लगा और शोभा का इंतजार करते-2 उसे नींद आ गयी दोपहर के 12 बज रहे थे रेणु अपने रूम में मेडिसिन लेकर सोई हुई थी अचानक उसकी नींद टूटी वो उठ कर बाहर आ गयी उसने देख उसकी माँ शोभा अपने रूम में नही थी उसने किचन और बाथरूम में देखा पर शोभा उसे नही मिली वो नीचे उतार आई बबलू के रूम का डोर बंद था उसने बैठक में देखा पर शोभा वहाँ भी नही थी उसने सोचा शायद माँ ऊपर छत पर हो ये सोच कर वो धीरे से बबलू के रूम के पास आई और डोर को धकेल कर अंदर आ गयी रेणु एक पल के लिए सन्न रह गयी सामने का नज़रा देख उसके पैरों तले से ज़मीन खिसक गयी सामने बेड पर बबलू लेटा हुआ था उसके ऊपर उसकी माँ शोभा अपनी दोनो टाँगों को बबलू की कमर के दोनो तरफ करके बैठी हुई थी शोभा और बबलू चुदाई में इतने मस्त थे कि उन्हे अंदाज़ा नही हुआ कि पीछे कोई खड़ा है शोभा की पीठ रेणु जो कि डोर के पास खड़ी थी की तरफ थी शोभा का पेटिकॉट उसकी कमर के ऊपर तक चढ़ा हुआ था उसकी मोटी-2 गान्ड सॉफ दिखाई दे रही थी जो बबलू के लंड के ऊपर नीचे हो रही थी शोभा अपनी गान्ड को उठा -2 कर बबलू के लंड पे पटक रही थी और बबलू का लंड शोभा की चूत के अंदर बाहर हो रहा था जो कि रेणु सॉफ-2 देख रही थी शोभा की आँखें मस्ती में बंद थी बबलू शोभा के पीछे देख नही पा रहा था


बबलू के हाथ शोभा के चुतड़ों को मसल रहे थी शोभा झड़ने के बिल्कुल करीब थी

शोभा: अहह मेरीई रज्ज़ाआाआआअ में तुम्हारे लंड के लिए तरस रही थीईईए अहह में झड़ने वाली हूँ अपना पानी मेरी चूत में निकलल्ल्ल्ल्ल्ल्ल डीईईईई अहह और शोभा झड गइईई

अचाननक शोभा को अहसास हुआ कि उसकी पीछे कोई खड़ा है उसका दिल जोरो से धड़कने लगा जब शोभा ने पीछे देखा तो रेणु पीछे खड़ी थी जैसे कोई पुतला खड़ा हुआ हो इससे पहले कि शोभा कुछ बोलती रेणु वापिस कमरे से बाहर दौड़ गयी कदमों की आहट सुन बबलू भी एक दम होश में आया

बबलू:कॉन था

शोभा: ओह ये क्या हो गया रेणु ने सब कुछ देख लिया है अब क्या होगा

शोभा बबलू के ऊपर से खड़ी हुई लंड पुतछ की आवाज़ से बाहर आ गया शोभा ने पेटिकॉट नीचे किया और ऊपर की तरफ़ चली गयी ऊपर आकर रेणु के कमरे में चली गई रेणु बेडपर उल्टी लेटी रो रही थी शोभा धीरे से उसके पास आकर बैठ गयी और उसके सर पर हाथ रखा ही था कि रेणु ने शोभा के हाथ को झटक दिया

रेणु: तुम बाहर जाओ मुझे तुमसे कोई बात नही करनी है

रेणु का गुस्सा देख शोभा ने वहाँ से बाहर आ जाना ही ठीक समझा दोपहर को अमन भी घर आ गया घर में अजीब सा सन्नाटा फैला हुआ था रेणु अभी भी अपने कमरे में से बाहर नही आई थी शोभा ने उसे कई बार बात करने की कोशिश की पर रेणु बात सुनने को तैयार नही थी वो बस अपने कमरे मे रोती रही अगली सुबह रेणु अमन के साथ स्कूल चली गयी जब बबलू वापिस आया तो शोभा से पूछा

बबलू: क्या हुआ कोई बात हुई

शोभा: नही समझ में नही आ रहा क्या करूँ ना कुछ खाया है ना कुछ पिया है में तो उससे नज़र नही मिला पा रही हूँ

बबलू: अगर तुम कहो तो में बात करके देखूं

शोभा: मुझे नही लगता इसे कोई हल निकले गा

बबलू: तुम बस अमन को लेकर कहीं बाहर चले जाना बाकी में संभाल लूँगा

शोभा:ठीक है

दोपहर को जब अमन और रेणु वापिस आए तो दोपहर के खाने के बाद शोभा अमन को मार्केट ले गयी शोभा के जाने के बाद बबलू गेट बंद करके ऊपर आ गया और सीधा रेणु के रूम में चला गया रेणु बेड पर लेटी हुई थी बबलू को देख वो एक दम से गुस्सा होती हुई बोली निकल जाओ मेरे कमरे से क्या लेने आए हो यहाँ

बबलू: मुझे तुमसे कुछ बात करनी है

रेणु: मुझे तुम्हारी शकल तक नही देखनी तुम से बात करना तो दूर की बात है

बबलू: प्लीज़ एक बार मेरी बात सुन लो फिर जैसे तुम कहो गी वैसे ही में यहाँ से हमेशा के लिए चला जाउन्गा

रेणु बिना कुछ बोले बैठी रही वो नीचे की तरफ नज़रे झुकाए बैठी थी

बबलू: देखो रेणु कुछ भी ग़लत नही हुआ

रेणु: क्या कहा तुमने कुछ ग़लत नही हुआ माफी माँगने की बजाए तुम अपनी करतूत को सही ठहरा रहे हो मेरी ही माँ के साथ नाजायज़ सम्बन्ध बना कर तुमने कॉन सा सही काम कर लिया और मुझे भी धोखा दिया किया ये भी सही है

बबलू:देखो रेणु तुम्हारी माँ ग़लत नही है तुमने कभी अपनी माँ के बारे में सोचा है कभी

रेणु: तो तुम्हारे कहने का मतलब मुझे मेरी माँ की परवाह नही थी क्या में उनसे प्यार नही करती थी

बबलू: नही बात वो नही है

रेणु: तो क्या बात है ज़रा मुझे भी तो समझो

बबलू: थोड़ी देर चुप रहने के बाद) देखो रेणु तुम्हारी माँ ने तुम्हारे पिता के मरने के बाद तुम्हारी और अमन की ज़िमेदारी कैसे निभाई है ये तुम अच्छी तरह जानती हो तुम्हारी खातिर ही उसने दूसरी शादी नही की उसकी भी ज़रूरते है हर औरत को जिस्म के सुख का हक़ है दुनिया की नज़र में चाहे से नाजायज़ हो पर उसे भी अपनी जिंदगी जीने का हक़ है आख़िर वो भी एक औरत है उसकी भी कुछ ज़रूरतें है क्या वो अपनी जिंदगी यूँ ही अपनी तमन्नाओ को मार कर जीती रहे उसे अपनी ख़ुसी के लिए जीने का कोई हक़ नही है


रेणु: पर तुम ही क्यों अपनी से आधे उम्र के लड़के के साथ च्ीईीईईईई मुझे तो कहते हुए शर्म आती है

बबलू: मेरा यकीन करो हालात ही कुछ ऐसे बन गये थे पर में तुमसे सच में प्यार करता हूँ

रेणु खामोश हो गयी बबलू वहाँ से चला आया रात को रेणु ने सब के साथ खाना खाया तो ज़रूर पर अब भी वो किसी से बात नही कर रही थी धीरे- 2 रेणु को नॉर्मल होते देख शोभा ने राहत की साँस ली खाने के बाद जब बबलू छत पर टहल रहा था तो शोभा ऊपर आ गई

शोभा: लगता है अब रेणु नॉर्मल हो रही है

बबलू:मुझे लगता है अब मुझे यहाँ से चले जाना चाहिए

शोभा: क्या कहाँ जाना है

बबलू: मुझे ये घर छोड़ देना चाहिए यही ठीक रहेगा

शोभा: प्लीज़ ऐसे ना कहो पहली बार मेने किसे से प्यार किया है में तुम्हें खोना नही चाहती रेणु को में संभाल लूँगी

बबलू:बात वो नही आख़िर कब तक में तुम्हारे साथ रह सकता हूँ मेरी भी जिंदगी है मेरा फ्यूचर है मुझे भी शादी करनी है

शोभा की आँखों में आँसू आ गये वो नीचे घुटनो के बल बैठ गयी और बबलू की कमर को बाहों में भर लिया प्लीज़ मुझे छोड़ कर ना जाना में तुम्हारे बिना नही रह पाउन्गी में तुम्हारी शादी में कोई रुकावट खड़ी नही करूँगी

बबलू:कुछ देर सोचने के बाद बबलू ने अपना आख़िरी दाँव चला अगर तुम मेरी बात मानो तो में तुमहरे साथ हमेशा रह सकता हूँ और जो तुम्हे चाहे वो सब सुख में तुम्हे दे सकता हूँ

शोभा: तुम बताओ तो सही में तुम्हारी हर बात मानने के लिए तैयार हूँ

बबलू: में तुम्हारी लड़की रेणु के साथ शादी करना चाहता हूँ अगर तुम चाहो तो फिर में तुम्हारे साथ हमेशा रहूँगा और रेणु भी हमारा साथ देगी

शोभा: नही ये नही हो सकता

बबलू: क्यों तुम नही चाहती

शोभा:रेणु कभी नही मानेगी

बबलू: वो तुम मुझ पर छोड़ दो तुम ये बताओ कि तुम क्या चाहती हो

शोभा: लेकिन कैसे

बबलू: तुम्हे कोई एतराज तो नही

शोभा: अगर ऐसे हो सकता है तो कोशिश करके देख लो

अगली सुबह जब रेणु स्कूल में गयी तो उसका मन पढ़ाई में नही लग रहा था हाफ टाइम में रेणु बाहर पार्क में आकर बेंच पर बैठ गयी तभी उसकी एक सहेली जो कि उसकी बेस्ट फ्रेंड थी उसका नाम महक था उसे उदास देख कर उसके पास आकर बैठ गयी

महक:क्या बात है रेणु बहुत उदास दिख रही हो

रेणु: नही कुछ नही बस ऐसे ही

महक:नही कुछ तो है जो तुम मुझ से छुपा रही है

रेणु: एक बता क्या किसी 35 साल की उम्र की औरत का किसी 18 साल के लड़के के साथ अफेर हो सकता है

महक: क्यों ऐसे क्यों पूछ रही है

रेणु: बस ऐसे ही वो में मौसी जी की घर शादी में गयी थे वहाँ पर कुछ औरतें आपस में बात कर रही थी तब उनकी ये बात मेरे कान में पड़ गयी लेकिन मुझे यकीन नही होता

महक: चाहे यकीन कर ना कर पर सच यही है कि कोई भी औरत अपने जिस्म की भूक मिटाने के लिए किसी भी हद तक जा सकती है और तूने तो सुना है पर मैने अपने आँखों से देखा है

रेणु: हैरान होते हुए) क्या देखा है तूने

महक:बताती हूँ मेरी जान चल पीछे की तरफ जाकर बैठते हैं

दोनो पार्क के पीछे की तरफ आकर बैठ गयी

रेणु:हां जल्दी बता ना टाइम हो रहा है

महक:एक बार में अपने चाचा के घर देल्ही गयी हुई थी मेरे चाचा जी मल्टिनॅशनल कंपनी में जॉब करते हैं और चाची जी स्कूल में टीचर हैं जब में उनके घर गयी हुई थी तब चाचा जी काम के सिलसिले में आउट ऑफ स्टेशन थे चाचा जी के घर में दो बेडरूम एक ड्रॉयिंग रूम किचन और हाल है रात को खाना खाने के बाद में और चाची जी हाल में टीवी देख रहे थे मुझे नींद आने लगी तो मेने चाची जी से कहा मुझे नींद आ रही है में आप के साथ ही आपके रूम में सो जाउन्गी इसपर चाची एक दम हड़बड़ाते हुए बोली

चाची:नही बेटा मुझे अकेले सोने की आदत है तुम दूसरे रूम में सो जाओ

में वहाँ से चली आई और दूसरे रूम में आकर सो गयी में काफ़ी थकि हुई थी इसलिए मुझे नींद आगयी में जल्दी सो गयी थी इसलिए में 5 बजे उठ गयी मुझे नींद नही आ रही थी में पानी पीने के लिए रूम से बाहर आकर किचन की तरफ जाने लगी तभी मुझे सीडीयों की तरफ से कुछ आवाज़ आई जब में सीडीयों की तरफ गयी तो चाची जी वहाँ सीडयों पर छत के पास खड़ी थी और हाथ से कुछ इशारा कर रही थी फिर चाची ने सीडीयों का डोर बंद किया जो छत पर खुलता था में जल्दी से अपने रूम में आ गयी मुझे समझ मे नही आ रहा था कि चाची जी इस समय छत पर क्या कर रही थी और किसे इशारा कर रही थी खैर सुबह नाश्ते के बाद चाची जी स्कूल चली गयी और में घर पर अकेली रह गयी दिन बार में घर पर बोर होती रही


जब चाची घर पर आई तो वो काफ़ी खुश लग रही थी पर मेने उनसे कुछ नही पूछा दोपहर के वक़्त खाना खाते टाइम मेने चाची से चाचा के आने के बारे में पूछा तो उन्होने बताया कि वो मंडे को आएँगे उस्दिन सॅटर्डे था अगले दिन सनडे उनका स्कूल क्लोज़ था इसलिए हम काफ़ी रात तक बातें करते रहें हम जिस कमरे में सोती थी वहीं बेड पर लेटी हुई थी अचानक चाची बोली मुझे नींद आ रही है में सोने जा रही हूँ मैने चाची से कहा कि आप मेरे साथ ही सो जाओ पर चाची ने मना कर दिया मेरा शक बढ़ने लगा मैने दोपहर को घर की छान बीन कर ली थी चाची का रूम सीडीयों के बिल्कुल पास था और सीडीयों पर चाची के रूम की दीवार पर एक छेद सा था जो बिजली की वायरिंग का था जिसमे से चाची के रूम सारा नज़ारा सॉफ दिखता था रात के 12 बजे के करीब मुझे दरवाजा बंद होने की आवाज़ आई में सो नही पा रही थी में आवाज़ सुन कर धीरे से अपने कमरे से बाहर आई तो दबे पाँव चाची के रूम के पास चली गयी डोर बंद था अंदर से हल्की आवाज़ आ रही थी पर में सही से सुन नही पा रही थी में धीरे-2 सीडीयों पर चढ़ गयी और उसी छेद के अंदर से देखने लगी अंदर लाइट जल रही थी चाची बेड पर बैठी हुई थी उन्होने नाइटी पहनी हुई थी वो कुछ बोल रही थी ऑर मुझे समझ में नही आ रहा था और ना ही रूम में कोई और दिखाई दे रहा था अचानक बेडरूम के अटॅच बाथरूम का डोर खुला मेरा दिल की धड़कने बढ़ गयी और जो मैने देखा उसे देख मेरे पैरों तले से ज़मीन खिसक गयी सामने विक्रम खड़ा था

रेणु:विक्रम कों विक्रम

महक: वो पड़ोस के घर में रहता था और जिस स्कूल में चाची जी पढ़ाती थी उसी स्कूल में था मालूम है उसकी उमर क्या थी
रेणु: कितनी

महक :ज़्यादा से ज़्यादा **** साल और वो 9थ क्लास में पढ़ता था मुझे यकीन नही हो रहा था जो में देख रही थी फिर वो आकर चाची के सामने खड़ा हो गया चाची बेड से खड़ी हो गयी चाची की हाइट 5,5इंच थी जो उससे ज़्यादा लंबी थी वो मुस्किल से उनकी आँखों तक ही पहुँच पा रहा था चाची ने उसके गले में बाहें डाल दी और बिना एक पल देर किए दोनो एक दूसरे के होंठो को चूसने लगे दोनो एक दूसरे से चिपके हुए थे और पागलो की तरह चाची उसके होंठो को चूस रही थी अचानक चाची अलग हुई और एक झटके में अपनी नाइटी को अपने गले से उतार कर नीचे फेंक दिया अब चाची उसके सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी उसकी बड़ी-2 चुचियाँ ऊपर नीचे हो रही थे विक्रम ने बिना देर किए एक चुचि को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा चाची बेड पर गिर गयी और उसके ऊपर विक्रम भी गिर गया चाची ने उसके कान में कुछ कहा और विक्रम खड़ा हो गया और अपनी टीशर्ट और शॉर्ट उतारने लगा जैसे ही उसने अपना शॉर्ट्स उतारा मेरे पैर काँपने लगे कुछ ही देर में उसका बड़ा लंड हवा में झटके खा रहा था चाची ने बेड पर लेटे हुए उसके लंड को मुँह में ले लिया और चूसने लगी उसके बाद विक्रम ने कमरे की लाइट ऑफ कर दी मुझे कुछ दिखाई नही दे रहा था पर चाची की सिसकारियाँ सॉफ सुनाई दे रही थी में अपने रूम में आ गयी बाद में मुझे पता चला कि चाचा जी चाची को कभी खुश नही कर पाए थे अगर कर पाते तो शायद चाची इस हद तक ना जाती


bablu Renu ke oopar jhuk gaya aur uske ek chuchi ko munh mein lekar chusna chalu kar diya bablu bari-2 Renu ki dono chuchiyon ko chusnee laga Renu ka dard bhee kam ho gaya bablu ne dheere-2 apna lund andar bahar karma chalu kar diya bablu ka lund Renu ke tight choot ki diwaron se rgar khatahua andar bahar ho raha tha Renu ko bhee ab maja aane laga tha usne apni jaangho ko aur phailla liya tha Renu ki dard kea hen ab kamuk roop le chuki thee Renu ke hath bablu ke balon mian khel rahe thee dono ek doosre ko pagalon ki tarah kiss kar rahe thee ab Renu bhee masti mein aa chuki thee aur neeche apni gaanD ko dheere-2 oopar ki aur Karne lagi Renu apni choot ke andar bablu ka lund mahsoos karke ek dam mast ho chuki thee bablu beech-2mein Renu ke chuchi ko chusta aur kabhi masal deta ab Renu ka dard ek dam khatam ho chukka tha
dheere-2 bablu apni rafter badhane laga Renu bhee masti umhhhhhhhhhh siiiiiiiiiiii kar rahi thee
Renu : ahhhhhhhhhhh umhhhhhhhhhhhh mujheeeeeeeeee kuchhhh ho rhaaaaaaa haiiiiiiii
bablu neaur teji ke sath dhakke lagaen shuru kar diye Renu masti mein aakar apne balon ko nochane lagi
Renu:ahhhhhhhhh aurrr jor seeeeeeeeeee ahhhhhhhhhhhhhhhhhhhh umhhhhhhhhhhhhhhhhhhh
Renu ka sara jism ainthne laga uski choot apna pehali pani chodeni wali thee achank Renu ka badan akad gya aur uski gaanD jhatke kahne lagi Renu jaise swarg mein thee wo jhad chuki thee Renu ki tight chootko bablu bhee jhel nahi paya aur Renu ke sath hee uski choot mein jhad gaya dono hanfane lage bablu Renu ke oopar hee ludak gaya Renu bablu ke balon mein pyaar se ungliyon ko pherane lagi ajj Renu jindgi meinpahli baar jhadi thee dono ek doosre ke bahon mein samaye hue thee bablu ka lund sikud kar Renu ki choot sebahar aa gaya bablu khada hua light on kar dee Renu apne aap ko ishalat mein dekh sharma gaye bablu wapis bistar par aya to usne dekha gadhe par khoon ke daag lage hue thee Renu ne jaldi se apne kapde theek karke payjam pahna aur gadde ko geele kapde saaf kar diya phir dono light off karke ek doosre ke bahon mein so gaye subah 7 baje Renu ki mousi ne door knock kiya to Renu ne uthkar apne aap aurbablu ko utha kar durast karke door khola

seema: utho beta fresh ho jaon phir chai nasta kar lena
Renu:jee mousi
seema ke jate hee Renu ne bablu ke taraf dekha aur muskra kar nazre neeche kar lee phir Renu bahar chali gaye usdin ghar par aur jyada mehamanaa gaye jiske karan un dono ko shadi ke baad tak bhee moka nahi mila akhir kaar Renu aman aurr bablu teeno shadi ke baad wapis ghar aa gaye shobha teeno ko dekh bahut khus hui bablu dopahar ko station chala gaya wahan par bablu ke incharge ne usebataayaa ki agar wo apni night shift kar le to bahut achhahoga kyonki night shift mein kaam Karne wale employes kam hai bablu ne thodi der sochane ke baad hami bhar dee kyonki bablu janta tha ki raat ko na to wo Renu ko chod payega aur na hee shobha ko din mein kam se kam shobha ke choot to mil jayegee phir wo raat ko aane ke bol kar wapis ghar aa gaya aur ate hee usne shobha konight shift ke bare mein bata diya raat kokhana khan ke baad bablu station par aa gaya aur apne kaam par lga gaya kaam karte-2 raat ke 1 bajchuke the kaam khatam Karne ke baad bablu apne office ke staff room mein aa gaya aur sath laye hue daru ke quter ko peene ke baad sogaya agle din subah bablu 9 baje ghar wapis pahuncha jab usne door bell bajai to shobha ne gate khola aur bablu andar aa gaya shobha ne jaise hee gate band kiya bablu ne peeche se shobha ke chuchiyon ko dobach liya aur maslane laga
shobha:ohhhhhhhhh kiya kar raho ho chodo mujhe Renu ghar par hai aaj uski tabyat kharab hai isliye wo school nahi gaye hai
bablu man maar kar apne room mein aa gaya aur kapde change Karne laga
shobha:uske kamre ke bahar se) oopar aa kar nasta kar lo
aur shobha oopar chali gaye bablu kapde change karke oopar aa gaya aur nasta Karne laga jab shobha use nasta paros rahi thee to bablu ne shobha se ishare se poocha Renu kahan hai to shobha ne uske room ke taraf ishara kar diya bablu ne phir apne lund ko payjame ke oopar se pakad shobha ko dikhate hue shobha se dheeme awaz mein kaha iska to kuch karo dekho na tumhari choot mein jane ke liye kaise tadhp raha hai
shobha:dhat kaise Gandhi baten karte ho
aur shobha muskrane lagi
bablu: ek baar de do na nahi to mujhe neend nahi ayegee
shobha:tum neeche jao mein moka dekh kar ati hun
aur bablu neeche aa gaya aur bistar par let kar shobha ka intjaar Karne laga aur shobha kaintjaar karte-2 use neend aa gaye dopahar ke 12 baj rahe thee Renu apne room mein medicine lekar so hui thee achank uski neend tooti wo uth kar bahar aa gaye usne dekh uski maa shobha apne room mein nahi thee usne kitchen aur bathroom mein dekha par shobha use nahi mili wo neeche utar aye bablu ke room ka door band tha usne baithak mein dekha par shobha wahan bhee nahi thee usne socha shayad maa oopar chat par ho ye soch kar wo dheere se bablu ke room ke pass aye aur door ko dhakkel kar andar aa gaye Renu ek pal ke liye san rah gaye samane ka nazra dekh uske pairon tale se jameen khisak gaye samane bed par bablu leta hua tha uske oopar uski maa shobha apni dono tangon ko bablu ke kamar ke dono taraf karke baithi hui thee shobha aur bablu chudai mein itne mast the ki unhe andazz nahi hua ki peeche koi khada hai shobha ki peeth Renu jo ki door ke pass khadi thee ki taraf the shobha ka peticote uski kamar ke oopar tak chadha hua tha uski moti-2 gaanD saaf dikahi de rahi thee jo bablu ke lund ke oopar neeche ho rahi thee shobha apni gaanD ko utha -2 kar bablu ke lund pe patak rahi thee aur bablu ka lund shobha ke choot ke andar bahar ho raha tha jo ki Renu saaf-2 dekh rahi thee shobha ki ankhen masti mein band thee bablu shobha ke peeche dekh nahi paa raha tha bablu ke hath shobha ke chutron ko masal rahe thee shobha jhaden keblikul kareeb thee
shobha: ahhhhhhhhhhhhhh mereeee rajjaaaaaaaaaaa mein tumhare lund ke liye taras rahi theeeeeee ahhhhhhhhh mein jhaden wali hoon apna pani mere choot mein nikallllllll deeeeeeeeee ahhhhhhhhh aur shobha jhad gayeeeeeee
achannk shobha ko ahsaas hua ki uski peeche koi khada hai uska dil joro se dhadken laga jab shobha ne peeche dekha to Renu peeche khadi thee jiase koi putla khada hua ho ise pahle ki shobha kuch bolti Renu wapis kamre se bahar doud gaye kadmon ki ahaht sun bablu bhee ek dam hosh mein aya
bablu:kon tha
shobha: ohhhhhh ye kiya ho gaya Renu ne sab kuch dekh liya hai ab kiya hoga
shobha bablu ke oopar se khadi hui lund putch ke awaz se bahar aa gaya shobha ne peticote neeche kiya aur oopar ke tarf chali gaye oopar aakar Renu ke kamre mein chaligaye Renu bedpar ulti leti ro rahi thee shobha dheere se uske pass akar baith gaye aur uske sar par hath rakha hee tha ka Renu ne shobha ke hath ko jhatak diya
Renu: tum bahar jao mujhe tumse koi baat nahi karni hai
Renu ka guss dekh shobha ne wahan se bahar aa jana hee theek samja dopahar ko aman bhee ghar aa gaya ghar mein ajeeb sa santa phailla hua tha Renu abhee bhee apne kamre mein se bahar nahi aye thee shobha ne use kai baar baat Karne ki koshish kee par Renu baat sunane ko taiyaar nahi thee wo bus apne kamre mian roti rahi agli subah Renu aman ke sath school chali gaye jab bablu wapis aya to shobha se poocha
bablu: kiya hua koi baat hui
shobha: nahi samajh mein nahi aa raha kiya karoon na kuch khya hai na kuch pya hai mein to use nazar nahi mila paa rahi hun
bablu: agar tum kaho to mein baat karke dekhon
shobha: mujhe nahi lagta ise koi haal nikale ga
bablu: tum bus aman ko lekar kahin bahar chale jana baki mein sambhal loonga
shobha:theek hai
dopahar ko jab aman aur Renu wapis aye to dopahar ke khane ke baad shobha aman ko market le gaye shobha ke jane ke baad bablu gate band karke ooparaa gaya aur seedha Renu ke room mein chala gaya Renu bed par leti hui thee bablu ko dekh woe k dam se gussa hoti hue boli nikal jao mere kamre se kiya lene aye ho yahan
bablu: mujhe tumse kuch baat karni hai
Renu: mujhe tumhari shakal tak nahi dekhani tum se baat karma to door ki baat hai
bablu: please ek baar mere baat sun lo phir jaise tum kaho gee waie hee mein yahan se hamesha ke liye chala jaonga
Renu bina kuch bole baithi rahi wo neeche ki taraf nazre jhukai baithi thee
bablu: dekho Renu kuch bhee galat nahi hua
Renu: kiya kaha tumne kuch galat nahi hui maffi mangen ki bajae tum apni kartoot ko sahi tehra rahe ho mere hee maa ke sath nazyaz sambndh bana kar tumne kon sa sahi kaam kar liya aur mujhe bhee dokha diya kiya ye bhee sahi hai
bablu:dekho Renu tumhari maa galat nahi hai tumne kabhi apni maa ke bare mein socha hai kabhi
Renu: to tumhare kehane ka matlab mujhe mere maa ki parwah nahi thee kiya mein unse pyar nahi karti thee
bablu: nahi baa two nahi hai
Renu: to kiya baat hai jara mujhe bhee to samjo
bablu: thodi der chup rehane ke baad) dekho Renu tumhari maa ne tumhare pita ke maare ke baad tumhari aur aman ke jimedari kaise nibhai hai ye tum achhi tarah janti ho tumhari khatir hee usne doosri shadi nahi kee uski bhee jarooten hai har aurat ko jism ke sukh ka haq hai dunya ke a\nzar mein chahe se nazyaz ho par use bhee apni jindgi jeene ka haq hai akhir wo bhee ek aurat hai uske bhee kuch jaroorten hai kiya wo apni jindgi jhun hee apni tamnon ko maar kar jeeti rahe use apni khusi ke liye jeene ka koi haq nahi hai
Renu: par tum hee kyon apni se adhe umr ke ladke ke sath chiiiiiiii mujhe to kahte hue sharm ati hai
bablu: mera yakeen karon haalat hee kuch aise ban gaye thee par mein tumse sach mein pyar karta hun
Renu khomash ho gaye bablu wahan se chala aya raat ko Renu ne sab ke sath khana khya to jaroor par ab bhee wo kisi se baat nahi kar rahi thee dheere- 2 Renu ko normal hote dekh shobha ne rahar ke saans lee khane ke baad jab bablu chat par tehal raha tha to shobha oopar aagaye
shobha: lagata hai ab Renu normal ho rahi hai
bablu:mujhe lagta hai ab mujhe yahan se chale jana chahe
shobha: kiya kahan jana hai
bablu: mujhe ye ghar chod dena chahe yahi theek rahega
shobha: please aise naa kaho pehali baar meine kise se pyar kiya hai mein tumhen khona nahi chathi Renu ko mein sambhal loongi
bablu:baat wo nahi akhir kab tak mein tumhare sath reh sakta hun mere bhee jindgi hai mere futre hai mujhe bhee shadi karnei hai
shoab ke ankhon mein ansoo aa gaye wo neeche ghutno ke bal baith gaye aur bablu ke kamar ko bahon mein bhar liya please mujhe chod kar na jana mein tumhare bina nahi reh panogee
mein tumhari shadi mein koi rukawat khado nahi karoongee
bablu:kuch der sochane ke baad bablu ne apna akhiri daavn chala agar tum mere baat mano to mein tumahre sath hamesh reh sakta hun aur jo tumhe chahe wo sab sukh mein tmuhen de sakta hun
shobha: tum bato to shahi mein tumhari har baat manane ke liye taiyaar hun
bablu: mein tumhari ladaki Renu ke sath shadi karma chatha hun agar tum chaho to phir mein tumahre sath hamesha rahunga aur Renu bhee hamra sath degee
shobha: nahi ye nahi ho sakta
bablu: kyon tum nahi chathi
shobha:Renu kabhi nahi manegi
bablu: wo tum muj par chi\or do tum ye baton ki tum kiya chathi ho
shobha: lekin kaise
bablu: tumhe koi etraj to nahi
shobha: agar aise ho sakta hai to koshish karke dekh lo
agli subah jab Renu school mein gaye to uska man padi mein nahi lag raha tha half time mein Renu bahar parak mein aakar bench par baith gaye tabhi uski ek saheli jo ki uski best friend thee uska naam mehak tha use udass dekh kar uske pass aakar baith gaye
mehak:kiya baat hai Renu bahut udass dikh rahi ho
Renu: nahi kuch nahi bus aise hee
mehak:nahi kuch to hai jot un muj se chupa rahi hai
Renu: ek baata kiya kisi 35 saal ki umr ki aurat ka kisi 18 saal ke ladke ke sath affair ho sakta hai
mehak: kyon aise kyon pooch rahi hai
Renu: bus aise hee wo mein mousi jee ki ghar shadi mein gaye the wahan par kuch aurten aapas mein baat kar rahi thee tab unki ye baat mere kaan mein pad gaye lekin mujhe yakeen nahi hota
mehak: chahe yakeen kar na kar par sach yahi hai ki koi bhee aurat apne jism ke bhook mitane ke liye kisi bhee had tak ja sakti hai aur tune to suna hai par maine apne ankhon se dekha hai
Renu: hairaan hote hue) kiya dekha hai tune
mehak:batati hun mere jaan chal peeche ke taraf jakar baithate haim
dono park ke peeche ke taraf aakar baith gaye
Renu:haan jaldi bata na timeho raha hai
mehak:ek baar mein apne chacha ke ghar delhi gaye hui thee mere chacha jee multinational company mein job karte hain aur chachi jee school mein teache hain jab mein uke ghar gayehue thee tab chacha jee kaam ke silsle mein out of station the chacha jee ghar mein do bedroom ek drawing room kitchen aur haal hai raat ko khana khan ke baad mein aur chachi jee haal mein tv dekh rahe thee mujhe neend ane lagi to meine chachi jee kaha mujhe neend aa rahi hai mein aap ke sath hee aapke room mein so jaaungee ispar chachi ek dun hadbadte hue boli
chachi:nahi beta mujhe akele sone ke adaat hai tum doosre room mein so jao
mein wahan se chali aye aur doosre room mein aakar so gaye mein kafi thaki hui thee isliye mujhe neend aa gayee mein jaldi so gayee thee isliye mein 5 baje uth gaye mujhe neend nahi aa rahi thee mein pani peen ke liye room se bahar aakar kitchen ki taraf jane lagi tabhi mujhe seediyon ke taraf se kuch awazaye jab mein seediyon ke taraf gaye to chachi jee wahan seediyon par chat ke pass khadi thee aur hath se kuch ishara kar rah thee phir chachi ne seediyon ka door band kiya jo chat par khulta tha mein jaldi se apne room mein aa gaye mujhe samajh mian nahi aa raha tha ki chachi jee is samay chat par kiya kar rahi thee aur kise ishara kar rahi thee khair subah naste ke baad chachi je school chali gaye aur mein ghar par akeli reh gaye din bar mein ghar par bore hoti rahi jab chachi ghar par aye to wo kafi kush lag rahi thee par mein unse kuch nahi pooncha dopahar ke waqt khanaa khate time meine chachi se chacha ke an ke bare mein poocha to unhone ne bataayaa ki wo Monday ko ayengee usdin Saturday tha agle din Sunday unka school close tha isliye hum kafi raat tak baten karte rahen hum jis kamre mein soti thee wahin bed par lete hue the achank chachi boli mujhe neend aa rahi hai mein sone ja rahi hoon maine chachi se kaha ki aap mere sath hee so jao par chachi ne manna kar diya mere shak badhane laga maine dopahar ko ghar ki chaan been kar lee thee chachi ka room seediyon ke bilkul pass tha aur seediyon par chachi ke room ki diwar par ek ched sat ha jo bijli ki waring ka tha jisme se chachi ke room sara najara saaf dikhta tha raat ke 12 baje ke kareeb mujhe darwaja band hone ke awaz aye mein so nahi paa rahi thee mein awaz sun kar dheere se apne kamre se bhar aye to dabe paanv chachi ke room ke pass chali gaye door band tha andar se hallki awaz aa rahi thee par mein sahi se sun nahi paa rahi thee mein dheere-2 seediyon par chadh gaye aur usi ched ke andar se dekhane lagi andar light jal rahi thee chachi bed par baithi hui thee unhone nighty pehani hui thee wo kuch bol rahi thee oar mujhe samajh mein nahi aa raha tha aur naa hee room mein koi aur dikhai de raha tha achank bedroom ke attach bathroom ka door khula mera dil ki dhadken badh gaye aur jo maine dekha use dekh mere pairon tale se jammen khisk gaye samane vikram khada tha
Renu:vikram kon vikram
mehak: wo pados ke ghar mein rehtha tha aur jis school mein chachi jee padati thee use school mein tha maloom hai uski umar kiya the
Renu: kitni
mehak :jyada se jyada **** saal aur wo 9th class mein padta tha mujhe yakeen nahi ho raha tha jo mein dekh rahi thee phir wo aakar chachi ke samane khada ho gaya chachi bed se khadi ho gaye chachi ke height 5,5inch thee jo use jayada lambi thee wo muskil se unki ankhon tak hee pahunch paa raha tha chachi ne uske gale mein bahen daal dee aur bina ek pal der kiye dono ek doosre ke hontho ko chusne lage dono ek doosre se chipake hue the aur paglo ke tarah chachi uske hontho ko chuss rahi thee achank chachi alag hui aur ek jhatke mein apni nighty ko apne gale se utar kar neeche phenk diya ab chachi uske samane bilkul nangi khadi thee uski badi-2 chuchiyaan oopar neeche ho rahi the vikram ne bina der kiye ek chuchi ko apne munh mein le liya aur chusne laga chachi bed par gir gaye aur uske oopar vikram bhee gir gaya chachi ne uske kaan mian kuch kaha aur vikram khada ho gaya aur apni tshrit aur short utaren laga jaise hee usne apna shorts utra mere pair kanmpane lage kuch hee der mein uska bada lund hawa mein jhatke kha raha tha chachi ne bed par lete hue uske lund ko munh mein le liya aur chusane lagi uske baad vikram ne kamre ke light off kar dee mujhe kuch dikhaai nahi de raha tha par chachi ki siskaryan saaf sunai de rahi thee mein apne room mein aa gaye baad mein mujhe pata chala ki chacha jee chachi ko kadbi khus nahi kar paye the agar kar pate to shaayad chachi is had tak na jati
page 4

Nitin
Pro Member
Posts: 177
Joined: 02 Jan 2018 16:18

Re: दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार)

Unread post by Nitin » 27 Jan 2018 13:16

महक की बातें सुन के रेणु का मन थोड़ा सा हलका हो गया स्कूल के बाद जब रेणु घर आई तो शोभा ने उसके बर्ताव में कुछ परिवर्तन महसूस किया पर वो अभी भी शोभा से बात नही कर रही थी जब शोभा दोपहर के खाने के लिए कहने गयी तो बबलू ने उसे अगले प्लान के बारे में बताया



बबलू: देखो अगर रेणु को अपने इस रिश्ते के लिए सहमत करना है तो मुझे उसके साथ कुछ टाइम चाहिए और इस बात ख़याल तुम्हें रखना है अब तुम अमन को लेकर थोड़ी देर के लिए कहीं जाओ मुझे उसे मनाना ही पड़ेगा

शोभा: वो तो ठीक लेकिन कुछ गड़बड़ हो गयी तो

बबलू:मुझे पर भरोसा करो कुछ नही होगा में संभाल लूँगा

शोभा:ठीक है ( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम )
और दोपहर के ख़ान के बाद शोभा अमन को साथ लेकर मार्केट चली गयी उनके जाने के बाद बबलू गेट बंद करके के ऊपर रेणु के रूम में आ गया रेणु पहले से महक की कहानी सुन कर काफ़ी गरम हो चुकी थी वो अभी भी उसे बारे में सोच-2 काफ़ी गर्म हो रही थी इसी चक्कर में अभी तक उसने अपनी यूनिफॉर्म चेंज नही की थी आज उसने वाइट कलर की शर्ट और ब्लू स्कर्ट पहन रखी थी बबलू ने रेणु के डोर को नॉक किया जो कि खुला था रेणु ने बबलू की तरफ देखा और फिर अपनी नज़रें नीचे कर ली

बबलू: मे आइ कम इन

रेणु कुछ नही बोली और बिना कोई जवाब सुने बबलू अंदर आ गया और रेणु के पास आकर बेड पर बैठ गया

बबलू: अपना हाथ रेणु की जाँघ पर रखते हुए ) अब भी नाराज़ हो

रेणु: बबलू का हाथ हटाते हुए) मुझे तुमसे कोई बात नही करनी

बबलू ने एक बार ऊपर से नीचे तक रेणु के बदन पर नज़र दौड़ाई उसकी स्कर्ट उसकी जाँघो तक आ रही थी
बबलू ने फिर से अपना हाथ उसकी जाँघ पर रख दिया

बबलू: आइ रीयली लव यू जान में तुमसे सच में प्यार करता हूँ (और धीरे-2 रेणु की जाँघो को सहलाने लगा) अगर तुम मुझसे नही बोलना चाहती तो ठीक है में कल यहाँ से चला जाउन्गा

रेणु: अगर तुम मुझे इतना ही प्यार करते हो तो मुझे धोका क्यों दिया( बबलू का हाथ अभी भी उसकी जाँघ पर था और रेणु चाहते हुए भी उसके हाथ को हटा नही पाई)

बबलू: मैने कोई धोका नही दिया है तुम्हें समझना चाहिए कि तुम्हारी माँ ने क्या कुछ सहा है हर दिन अपने अरमानो का खून किया तुम्हारे लिए अब अगर उन्होने ने अपने लिए कुछ पल जी लिए तो उसमे क्या पहाड़ टूट पड़ा

रेणु: हां और उनकी तुमने बहुत अच्छे से मदद की

बबलू : रेणु की जाँघो से हाथ हटा कर उसके चेहरे को अपने हाथों में लेता हुआ) में ये सब नही जानता बस इतना जानता हूँ कि में तुम्हें सच में प्यार करता हूँ

रेणु बबलू की आँखों में देखने लगती है बबलू के हाथ के अंगूठे रेणु के होंठो पर खेलने लगते हैं रेणु पिघलने लगती है रेणु की आँखें नम हो जाती है इससे पहले कि रेणु कुछ बोलती बबलू ने अपने होंठो को रेणु के होंठो पर रख दिया रेणु ने अपनी आँखें बंद कर लेती है रेणु की चूत दोपहर हाफ टाइम से पानी छोड़ रही थी बबलू रेणु को होंठो को चूस्ता हुआ धीरे-2 उसे बेड पर लेटा देता हैं और खुद उसके ऊपर लेट जाता हैं रेणु की बाहें अपने आप ही बबलू की कमर पर कसने लगती हैं रेणु अपने होंठो को ढीला छोड़ देती हैं और अपना मुँह खोल देती हैं बबलू इसका पूरा फ़ायदा उठाता है और रेणु के होंठो को जी भर के चूस्ता है बबलू अपना एक हाथ नीचे लेजाता है और रेणु की जाँघो को सहलाने लगता है जाँघो को सहलाते हुए धीरे-2 उसकी स्कर्ट को ऊपर करने लगता है और अंत में उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को रगड़ने लगता है रेणु के मुँह से अहह निकल जाती है रेणु बबलू को अपनी बाहों में कस लेती है दोनो एक दूसरे को पागलो की तरह किस कर रहे होते हैं कि तभी डोर बेलबज उठती है बबलू जल्दी से नीचे आता है और गेट खोलता है सामने शोभा और अमन खड़े होते हैं बबलू को बहुत गुस्सा आता हैं और शोभा की तरफ देखता है शोभा अमन की तरफ इशारा कर देती है जैसे कह रही हो ये पीछे पड़ गया था इसलिए आना पड़ा

शोभा: जाओ बेटा ऊपर जाओ में अभी आती हूँ

अमन: जी मम्मी

शोभा; ये मान ही नही रहा था बाहर बहुत गर्मी थी इसलिए आना पड़ा

बबलू: रेणु काफ़ी हद तक मान गयी है बस अब सब तुम पर है रात को तुम्हें मुझे और रेणु को अकेले में मिलने का इंतज़ाम करना होगा

शोभा:क्यों तुम कुछ ग़लत तो नही करने वाले

बबलू: देखो अगर तुम चाहती हो कि हम खुल कर अपने खेल को अंजाम दे तो ये ज़रूरी है

शोभा: ठीक है लेकिन तुम हमें धोखा तो नही दोगे

बबलू: मेरी जान तुम्हें मुझ पर विश्वास नही है क्या में रेणु को अपनी पत्नी और तुम्हें अपनी रखेल बना कर रखूँगा और मेरे इस लंड पर तुम दोनो का हक़ होगा

शोभा बेचारी बबलू के मोहज़ाल में बुरी तरहा फँस चुकी थी और मुस्करा कर ऊपर चली गयी

शाम के 5 बज रहे थे बबलू सो रहा था तभी उसे बाहर से कुछ आवाज़ सुनाई दी बबलू उठ कर बैठ गया शोभा किसी औरत से हँस कर बात कर रही थी और उस औरत की आवाज़ उसे जानी पहचानी लग रही थी बबलू ने बाहर आकर देखा तो सामने सीमा खड़ी थी शोभा की छोटी बेहन जिसके घर बबलू शादी में गया था सीमा को देख बबलू का सारा प्लान खराब हो गया रात के वक़्त शोभा बबलू को खाना नीचे ही दे गयी बबलू खाना खा कर स्टेशन ड्यूटी पर चला आया बबलू मन ही मन में सीमा को गालियाँ दे रहा था खैर रात के 12 बजे काम ख़तम कर बबलू स्टाफ रूम में आ गया और साथ लाई हुई शराब को पीने लगा शराब पीने के बाद उसका दिल और तड़पने लगा उसे नींद तो आ नही रही थी इसलिए वो बाहर आकर प्लॅटफॉर्म पर घूमने लगा छोटे शाहर के स्टेशन होने के कारण लगभग खाली था इक्का दुक्का लोग ही बैठे थी बबलू चलता हुआ प्लॅटफॉर्म के अंत तक आ गया लेकिन बेखयाली में वो आगे बढ़ता रहा अब वो प्लॅटफॉर्म से उतर कर आगे बढ़ने लगा स्टेशन की लाइट्स अब धीमे होने लगी थी और रेलवे लाइन्स के आर पार खेत शुरू हो चुके थे वहाँ दूसरा और कोई ना था अचानक चलते हुए बबलू को पेशाब आ गया और वो खड़ा हो कर पेंट की ज़िप खोल कर लंड को बाहर निकाल कर मूतने लगा तभी उसे दूसरी तरफ से किसी के कदमों के आहट सुनाई दी दूर स्टेशन के बल्ब जल रहे थे जिसकी हल्की रोशनी वहाँ तक नाममात्र ही पहुँच रही थी बबलू ने देखा दो औरतें उसकी तरफ आ रही थी जब बबलू ने ध्यान से देखा तो उसे याद आया कि ये दोनो औरतें उसी स्टेशन पर रुकने वाली ट्रेनो में खाने का समान बेचती है और वहीं स्टेशन पर इधर उधर सो जाती थी बबलू ने पहले तो मूतने के बाद अपना लंड अंदर करना चाहा पर सोचा चलो कुछ इनसे ही मज़ा लूटा जाए और बबलू अपने लंड को ऐसे ही हिलाने लगा जैसे अक्सर मूतने के बाद आदमी हिलाते हैं बबलू के लंड में तनाव आने लगा और एक दम तन कर खड़ा हो गया वो दोनो औरतें बिल्कुल पास आ चुकी थी पास आते हुए एक औरत ने धीरे-2 से बोला
औरत: अरी सुषमा ये कॉन खड़ा अपना लंड हिला रहा है

सुसमा: अरे ये तो यहाँ के छोटे साहिब है दिन में कई बार देखा है

बबलू को उनकी बातें सुनाई पड़ गयी जब दोनो औरतें बिल्कुल पास से गुज़री तो उनकी नज़र बबलू के खड़े लंड पर गढ़ गयी और धीरे -2 आगे निकल गयी थोड़ी आगे जाते ही सुसमा ने दूसरी औरत के कान में कुछ कहा और उस औरत ने उसे धीरे से धक्का देते हुए बोला चल हॅट फिर दोनो में कुछ ख़ुसर फुसर हुई जो बबलू देख रहा था बबलू अपना लंड पेंट के अंदर कर चुका था और वहीं खड़ा देख रहा था तभी सुसमा थोड़ा धीरे-2 चलने लगी और कोई 15-20 फुट की दूरी पर रुक गयी वहाँ से वो बिल्कुल भी ठीक से दिखाई नही दे रही थी बस जैसे कोई साया दिख रहा हो बबलू ने सोचा चल बेटा लगता है चूत का इंतज़ाम हो गया बबलू उसकी ओर बढ़ने लगा सुषमा बाजरे के खेत के किनारे खड़ी हो गयी और अपना सलवार का नाडा खोल कर सलवार घुटनो तक नीचे कर ली और मूतने लगी बबलू अब करीब आ चुका था सुसमा पेशाब करने के बाद खड़ी हुई तो बबलू उसके पीछे कोई 5 फुट की दूरी पर खड़ा था और सुसमा खड़ी हो चुकी थी उसकी मोटी गोरी गान्ड बबलू को सॉफ दिखाई दे रही थी सुसमा कुछ पलों के लिए वैसे ही खड़ी रही जैसे वो अपनी गान्ड को बबलू को दिखा रही हो और फिर उसने अपनी सलवार ऊपर कर ली और फेस घुमा कर पीछे की ओर देखा और एक कामुक मुस्कान उसके फेस पर थी

फिर उसने झुक कर अपनी गठरी उठाई और सामने के बाजरे के खेत में घुस गयी बबलू भी उसके पीछे खेत में घुस गया खेत के थोड़ा अंदर जाने के बाद सुसमा रुक गयी और अपनी गठरी नीचे रख कर उसमे से एक पुरानी सी चादर निकाल कर नीचे बिछा दी इतने में बबलू भी वहाँ पहंच गया सुसमा चादर के ऊपर खड़ी थी बबलू को देख कर मुस्कुराने लगी

सुसमा: क्या छोटे बाबू जी मेरा पीछा क्यों कर रहे हो

बबलू को कोई जवाब नही सूझा और कुछ देर चुप रहने के बाद हिम्मत करके बबलू ने अपनी पेंट को खोल कर अंडरवेर समेत घुटनो तक सरका दिया सुसमा फटी आँखों से बबलू के विकराल लोड्‍े को देख रही थी

सुसमा:आरीईई बाप रीईए इतना बड़ा

और सुसमा घुटनो के बल नीचे बैठ गयी और बबलू के लंड पर अपना हाथ कस लिया और आगे पीछे करने लगी फिर उसने सुसमा के लंड के सुपाडे की चमड़ी को पीछे किया और लंड को मुँह में ले लिया और चूसने लगी बबलू एक दम मस्त हो चुका था आज तक उसे लंड चुसवाने में इतना मज़ा नही आया था उसकी ज़ुबान बबलू के लंड के सुपाडे पर थिरक रही थी बबलू को ऐसा लगा जैसे वो झड़ने वाला है बबलू ने अपना लंड बाहर खींच लिया

सुसमा:क्या हुआ बाबू जी अच्छा नही लगा

बबलू: नही अगर थोड़ी देर और रुकता तो तेरे मुँह में पानी छोड़ देता

सुसमा: हां बाबू जी अपना पानी मेरे मुँह में निकाल दो मेरी प्यास बुझा दो में नज़ाने कब से तरस रही हूँ मेरा मर्द साला किसी और की जोरू के चक्कर में पड़ कर उसे भगा ले गया

ये कहते ही सुसमा ने फिर से बबलू का लंड मुँह में ले लिया और ज़ोर-2 से चूसने लगा सुसमा का सर तेज़ी से आगे पीछे हो रहा था बबलू ने सुसमा के बालों को पकड़ लिया और उसके मूँह को चोदने लगा कुछ ही देर में बबलू के लंड से वीर्य का फुआरा छूट पड़ा बबलू एक दम शांत पड़ गया लेकिन सुसमा ने बबलू का लंड चूसना चालू रखा ( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम )थोड़ी देर में बबलू का लंड फिर से खड़ा होने लगा और 5मिनट के बाद एक दम तन गया सुसमा ने मूँह से लंड निकाला और खड़ी हो गयी और अपनी सलवार का नाडा खोल कर सलवार को निकाल कर गठरी के ऊपर फेंक दिया और चादर पर लेट गयी लेटने के बाद सुसमा ने अपनी टाँगों को मोड़ लिया और अपनी चूत की फांकों को अपने हाथों से फैला लिया

सुसमा; जल्दी करो बाबू जी डाल दो लोड्‍ा मेरी बुर में फाड़ डालो

बबलू भी बिना देर किए घुटनो के बल बैठ गया और अपने लंड के सुपाडे को पकड़ कर चूत के छेद पर लगा दिया

सुसमा: अहह बबुउुुुुउउ इतना कस के चोदना कि 2-3 दिन चुदाई की ज़रूरत महसूस ना हो एक ही बार में पूरा अंदर डाल दो

बबलू ने सुसमा की जाँघो को पकड़ कर पूरी ताक़त के साथ धक्का मारा लंड चूत के दीवारों को चीरता हुआ पूरा का पूरा अंदर घुस गया

सुसाम:अहह मररर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर गाईईईईईई

बबलू ने बिना रुके धक्के लगाने चालू कर दिए सुसमा अहह ओह सीईईईईईईईईईई कर रही थीईईईए

सुसमा:ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह उईईईईईइमाआआआ अहह मररर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर और जूऊऊऊऊओर सीईईईईई अहह छोड़ूऊऊऊऊओ फद्द्द्दद्ड दूऊऊऊऊ

बबलू की जंघे सुसमा की जाँघो से टकरा कर हॅप-2 की आवाज़ कर रही थी सुषमा नीचे अपनी गान्ड को ऊपर की तरफ उछाल रही थी जैसे ही लंड चूत के अंदर जड तक घुसता थप की आवाज़ गूँज जाती सुमा पागलो की तरह अपने बाल नोच रही थी और पूरी ताक़त के साथ अपनी चूत को जाँघो को फैला कर ऊपर की ओर उछाल रही थी बबलू उसे देख और जोश में आ गया और धना-धन धक्के लगाने लगा 10 मिनट की चुदाई में सुसमा दो बार झड चुकी थी और बबलू भी झड कर हाँफने लगा बबलू सुसमा के ऊपर लेटा हुआ था

सुसमा; बाबू जी आज अपने मेरी चूत की खुजली मिटा कर मुझे जीत लिया है

बबलू खड़ा हुआ और अपनी पेंट पहनने लगा सुसमा ने भी अपनी सलवार पहन ली

सुसमा : बाबू जी आप जब याद करेंगे में आ जाउन्गी मेरी चूत आप के लंड के दासी हो गयी है
बबलू मुस्करा कर बिना कुछ बोले वहाँ से आ गया और स्टाफ रूम में आकर सो गया अगले दिन सुबह जब बबलू घर पहुँचा और नहा धो कर फ्रेश हो गया शोभा उसके लिए नाश्ता ले आई


बबलू: कब जा रही है तुम्हारी बेहन

शोभा:बस दोपहर को जा रही है

और शोभा नाश्ता देकर ऊपर चली गयी दोपहर को जब बबलू उठा तो शोभा उसके रूम में आई

शोभा: सीमा चली गयी है और मुझे तुमसे कुछ बात करनी है

बबलू:हां बोलो

शोभा: मुझे अच्छा नही लग रहा जो तुम करने जा रहे हो

बबलू:क्या अच्छा नही लग रहा

शोभा: एक अगले साल मार्च में रेणु की 12थ क्लास पूरी हो जाएगी में चाहती हूँ कि उसके बाद उसकी शादी तुमसे हो जाए लेकिन तब तक तुम और रेणु कुछ ग़लत ना करो में तुम्हारे लिए इतना सब करने को तैयार हूँ बस मेरी खातिर मेरी ये बात मान लो

कुछ देर सोचने के बाद बबलू ने हामी भर दी

शोभा: कसम खाओ कि तुमने मेरे बात मान ली

बबलू: (मन में चलो 7-8 महीनो की बात है) कसम से पर तब तक तुम तो हो ना

शोभा: धत्त

बबलू:तुम ज़रा ऊपर जाकर अमन को देखो में थोड़ी देर बाद रेणु के पास जाकर बात करता हूँ

शोभा ऊपर चली गयी शोभा के ऊपर आने के 15 मिनट बाद बबलू भी ऊपर आ गया बबलू ने शोभा से इशारे से पूछा कि अमन कहाँ हैं शोभा ने अपने रूम की तरफ इशारा कर दिया कि वो उसी के रूम में सो रहा है बबलू रेणु के कमरे में चला गया और रेणु को सारी बात बता दी जो कुछ देर पहले शोभा से हुई थी

रेणु:चलो ठीक हैं में आप की सब बातें मानती हूँ पर आप दोनो को मेरी बात भी माननी पड़े गी

बबलू:बताओ तो सही में तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकता हूँ

रेणु: पहले माँ को भी यहाँ बुला लो

बबलू बाहर चला गया और शोभा को साथ ले आया

बबलू: हां बोलो क्या बात हैं हम दोनो तुम्हारी बात मानने को तैयार हैं

रेणु:तो आप दोनो ने जैसे कि फैंसला किया है कि हमारी शादी मेरे 12थ करने के बाद होगी तो में चाहती हूँ कि (बबलू की तरफ इशारा करते हुए) आप पे सब से पहला हक़ मेरा होगा और जब तब हमारी सुहागरात नही हो जाती तब तक आप भी कोई संबंध नही रखेंगी

बबलू और शोभा दोनो कभी एक दूसरे को देखते तो कभी रेणु को

रेणु: बोलो माँ है मेरी बात मंजूर तो खाओ मेरी कसम

अब शोभा के बॅस की बात नही थी और ना ही बबलू कुछ कर सकता था हार कर शोभा को रेणु की कसम खानी पड़ी


तो दोस्तो उस दिन से लेकर अगले 8 महीनो तक घर में बबलू को चूत नही मिलने वाली और यहाँ से कहानी एक नया मोड़ ले रही है टाइम अपनी रफ़्तार से चल रहा था अमन के 10थ क्लास के प्री बोर्ड के एग्ज़ॅम हो चुके थे दिसंबर का महीना चल रहा था अमन भी जवानी की दहलीज पर कदम रख चुका था पर अमन बहुत ही सरीफ़ किस्म का लड़का था लड़कियों से बात करना तो दूर वो लड़कियों को देखता तक नही था और ना ही उसे सेक्स की कुछ जानकारी थी तो दोस्तो अमन के प्रीबोर्ड के एग्ज़ॅम ख़तम हो चुके थे सर्दी अपने पूरे शबाब पर थी और अमन के एग्ज़ॅम के बाद क्लास 10 दिनो के लिए बंद हो गयी थी जिस दिन अमन आख़िरी एग्ज़ॅम था उस्दिन शोभा की बहन का फोन आया

सीमा: हेलो दीदी कैसी हो

शोभा: में बिल्कुल ठीक हूँ तुम कैसी हो

सीमा: में भी ठीक हूँ और बच्चे कैसे हैं

शोभा:हां दोनो ठीक हैं अमन के आज ही एग्ज़ॅम ख़तम हुए हैं और 10 दिन की छुट्टियाँ हैं बस अब सारा दिन घर में उधम मचाता फ़िरेगा

सीमा: दीदी आप अमन को मेरे पास भेज दो मेरा मन भी लग जाएगा

शोभा:ठीक में कल उसे भेज देती हूँ

सीमा की अपनी कोई औलाद नही थी शादी के 8 साल हो चुके थे और सीमा 30 साल की हो चुकी थी सीमा का पति आर्मी में था इसलिए सीमा का अमन से बहुत लगाव था सीमा के देवर की शादी के बाद उसका देवर जो कि आर्मी में था अपनी नयी दुलहन को साथ ही लेगया था सीमा का पति भी आर्मी में ही था इसलिए घर पर वो और उसके सास ससुर अकेले रहते थे जब उसने ये बात अमन को बताई तो अमन झट से राज़ी हो गया क्यों कि सीमा उसे बहुत प्यार करती थी और उसकी हर बात मानती थी

शोभा: पर तू जाएगा कैसे
( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम )
अमन: माँ में अकेला चला जाउन्गा आप फिकर ना करो आप बस मुझे ट्रेन में बैठा देना और मुझे मौसी आकर ले जाएगी

शोभा: ये ठीक रहेगा

अगले दिन अमन बबलू के साथ ही स्टेशन पर आ गया और बबलू ने उसे ट्रेन में बैठा दिया करीब 2 घंटे के सफ़र के बाद अमन अपनी मौसी के शाहर पहुँच गया यहाँ उसे लेने उसकी मौसी पहले से आई हुई थी वो अमन को देख कर बहुत खुश हुई अमन ने सीमा के पैर छुए सीमा ने अमन को गले से लगा लिया सीमा की मोटी नरम चुचियाँ अमन की चेस्ट में धँस गयी और रगड़ खाने लगी आज पहली बार अमन को कुछ अजीब सा अहसास हुआ

सीमा:अरे वाह अमन तू तो बड़ा हो गया

अमन शरमाते हुए) जी मौसी
फिर दोनो ने स्टेशन से बाहर आकर ऑटो पकड़ा और घर आ गये घर पहुँच कर अमन ने सीमा के सास ससुर के पाँव छुए बैठ कर उनसे बातें करने लगा इतने में सीमा चाइ नाश्ता लेकर आ गयी चाइ पीने के बाद सीमा ने अमन से कहा चलो में तुम्हें तुम्हारा रूम दिखा दूं और सीमा उसका बॅग उठा कर चल पड़ी अमन सीमा के पीछे -2 रूम में आ गया
सीमा:ये लो ये तुम्हार कमरा है तुम यहाँ आराम करो

अमन:मौसी मुझे नहाना है में सुबह भी नहा कर नही आया बहुत सर्दी थी सुबह

सीमा: हां नहा लो में गीजर ऑन कर देती हूँ हां और नहाने से पहले सरसो के तेल की मालिश कर लेना नही तो गरम पानी से नहाने से स्किन रूखी हो जाएगी तेल वहाँ ड्रेसिंग टेबल पर पड़ा है में टवल लेकर आती हूँ सीमा के जाने के बाद अमन ने अपने कपड़े उतार दिए और सिर्फ़ छोटे से अंडरवेर में खड़ा होकर अपने जिस्म पर सरसो के तेल से मालिश करने लगा थोड़ी देर बाद सीमा टवल लेकर आई और रूम के डोर पर खड़ी होकर अमन को देखने लगी अमन की पीठ सीमा की तरफ थी और अमन अपने हाथ पीछे करके पीठ पर तेल लगाने की कोशिश कर रहा था

सीमा: अंदर आते हुए) लाओ में लगा देती हूँ पीठ पर

अमन को जब पता चला कि वो सिर्फ़ अंडरवेर में अपनी मौसी के सामने खड़ा है तो वो एक दम से शर्मा गया और अपना सर झुका लिया सीमा अमन की हालत देख कर मुस्कुराने लगी

सीमा: अरे ऐसे क्यों शर्मा रहा हैं याद नही बचपन में तू मेरे सामने ही नंगा घूमता रहता था और अब ऐसे शरमा रहा है जैसे तू सच में जवान हो गया है

अमन: नही मौसी वो बात नही है पर अब में बड़ा हो गया हूँ

सीमा; चल कोई बात नही ला तेल की बॉटल मुझे दे

और सीमा तेल की बॉटल लेकर उसमे से कुछ तेल अपने हाथ में डाल कर उसकी पीठ पर मालिश करने लगी पीठ की मालिश करने के बाद सीमा घूम कर अमन के सामने की तरफ आ गयी

सीमा; ये देखो कहते हैं कि बढ़ा हो गया हूँ पर सामने तो ठीक से मालिश नही की जगह-2 तेल नही लगा
और सीमा हाथ में तेल लेकर उसकी छाती की मालिश करने लगी मालिश करते सीमा नीचे पंजो के बल बैठ गयी और अमन के पैरो की मालिश करने लगी ( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम )

अमन: रहने दो मौसी में कर लूँगा
सीमा: कोई बात नही शर्मा क्यों रहा हैं में कर देती हूँ

mehak ki baten sun ke Renu ka man thoda sa halaka ho gaya school ke baad jab Renu ghar ayee to shobha ne uske bartav mein kuch pariwartan mahsoos kiya par wo abhee bhee shobha se baat nahi kar rahi thee jab shobha dopahar ke khane ke liye kehane gayee to bablu ne use agle plaan ke bare mein bataya

bablu: dekho agar Renu ko apne is rishte ke liye sehamat karma hai to mujhe uske saath kuch time chahe aur is baat ka khayal tumhen rakhana hai ab tum aman ko lekar thodi der ke liye kahin jao mujhe use manana hee padega

jab shobha dopahar ke khane ke liye kehane gayee to bablu ne use agle plaan ke bare mein bataya

bablu: dekho agar Renu ko apne is rishte ke liye sehamat karma hai to mujhe uske saath kuch time chahe aur is baat khayal tumhen rakhana hai ab tum aman ko lekar thodi der ke liye kahni jao mujhe use manana hee padega
shobha: wo to theek lekin kuch gadhbad ho gaye to
bablu:mujhe par barosa karo kuch nahi hoga mein sambhal loonga
shobha:theek hai
aur dopahar ke khan ke baad shobha aman ko sath lekar market chali gaye unke jane ke baad bablu gate band karke ke oopar Renu ke room mein aa gaya Renu pahle se mehak ke kahani sum kar kafi garam ho chuki thee wo abhee bhee use bare mein soch-2 kae garm ho rahi thee isi chakar mein abhee tak usne apni uniform changenahi ki thee aaj usne white colour ke shrit aur blue skirt pehan rakhi thee bablu ne Renu ke door ko knock kiya jo ki khulatha Renu ne bablu ke taraf dekha aur phir apni nazren neeche kar lee
bablu: may I come in
Renu kuch nahi boli aur bina koi jawab sune bablu andar aa gaya aur Renu ke pass aakar bed par baith gaya
bablu: apna hath Renu ke jhang par rakhte hue ) ab bhee naraz ho
Renu: bablu ka hath hatate hue) mujhe tumse koi baat nahi karni
bablu ne ek baar oopar se neeche tak Renu ke badan par nazar doudai uski skirt uski jaangho taka a rahi thhe
bablu ne phir se apna hath uski jhang par rakh diya
bablu: I realy love u jaan mein tumse sach mein pyaar karta hun (aur dheere-2 Renu ke jaangho ko sahalaane laha) agar tum mujhe nahi bolna chathi to theek hai mein kal yahan se chala jaonga
Renu: agar tum mujhe itna hee pyaar karte ho to mujhe dokha kyon diya( bablu ka hath abhee bhee uski jhang par tha aur Renu chahte hue bhee uske hath ko hata nahi paye)

bablu: maine koi dokha nahi diya hai tumhen samjana chahe ki tumhari maa ne kiya kuch saha hai har dim apne armoono ka khoon kiya tumhare liye ab agar unhone ne apne liye kuch pal jee liye to usme kiya pahaad toot pada

Renu: haan aur unki tumne bahut achhe se madad kee

bablu : Renu ke jhange se hath hata kar uske chahre ko apne hathon mein leta hua) mein ye sab nahi janta bus ithna janata hun ki mein tumhen sach mein pyaar karta hun

Renu bablu ki ankhon mein dekhane lagti hai bablu ke hath ke angoothe Renu ke hontho par khelane lagte hain Renu pighalne lagti hai Renu ke ankhen naam ho jati hai ise pahle ki Renu kkuch bolti bablu ne apne hontho ko Renu ke hontho par rakh diya Renu ne apni ankhen band kar leti hai Renu ke choot dopahar half time se pani chod rahi thee bablu Renu ko hontho ko chusta hua dheere-2 use bed par leta deta hain aur khud uske oopar let jata hain Renu ke bahaen apne aap hee bablu ke kamar par kasen lagte hain Renu apne hontho ko dheela chod deti hain aur apna munh khol deti hain bablu iska poora fayda uthata hai aur Renu ke hontho ko jee bhar ke chusta hai bablu apna ek hath neeche lejata hai aur Renu ke jaangho ko sahalaane lagat hai jhanon ko sehalte hue dheere-2 uski skirt ko oopar Karne lagat hai aur ant mein uski painty ke oopar se uski choot ke ragden lagata hai Renu ke mooahn se ahhhhhhhh nikal jati hai Renu bablu aur apni bahon mein kas leti hai dono ek doosre ko paglo ki tarah kiss kar rahe hote hain ki tabhi door bellbaj uthati hai bablu jaldi se neeche ata hai aur gate kholta hai samane shobha aur aman khade hote hain bablu ko bahut gussa ata hain aur shobha ki taraf dekhta hai shobha aman ki taraf ishara kar deti hai jaise keh rahi ho ye peeche pad gaya tha isle anna pada
shobha: jao beta oopar jao mein abhee ati hun
aman: jee mummy
shobha; ye man hee nahi raha tha bahar bahut garmi thee isliye anna pada
bablu: Renu kafi had tak man gaye hai bus ab sab tum par hai raat ko tumhen mujhe aur Renu ko akele mein milane ka intjaam karna hoga
shobha:kyon tumkuch galat to nahi Karne wale
bablu: dekho agar tum chathi ho ki hum khul kar apne khel ko anjaam de to je jaroori hai
shobha: theek hai lekin tum hamen dokha to nahi dogee
bablu: mere jaan tumhen muj par vishwas nahi hai kiya mein Renu ko apni patni aur tumhen apni rakhel bana kar rakhunga aur mere is lund par tum dono ka haq hoga
shobha bechari bablu ke mohjaal mein buri tarhan phans chuki thee aur muskrat kar oopar chali gaye
shaam ke 5 baj rahe thee bablu so raha tha tabhi use bahar se kuch awaz sunai dee bablu uth kar baith gaya shobha kisi aurat se has kar baat kar rahi thee aur us aurat ke awaz use jani pehchani lag rahi thee bablu ne bahar aakar dekha to samane seema khadi thee shobha ki choti behan jiske ghar bablu shadi mein gaya tha seema ko dekh bablu ka sara plaan kharab ho gaya raat ke waqt shobha bablu ko khana neeche hee de gaye bablu khana kha kar station duty par chala aya bablu man he man mein seema ko galiyan de raha tha khair raat ke 12 baje kaamkhatam kar bablu staff room mein aa gaya aur sath laye hui sharb ko peene laga sharab peene ke baad uska dil aur tadpane laga use neend to aa nahi rahi thee isliye wo bahar aakar platform par ghumane laga chote shahr ke station hone ke karan lagbhag khali tha ika duka log hee baithe thee bablu chalta hua platform ke ant taka a gaya lekin bekhayali mein wo age badhta raha ab wo platform se utar kar age badhane laga station ke lights ab dheme hone lagi thee aur railway lines ke aar paar khet shuru ho chuke thee wahan doosra aur koi na tha achank chalte hue bablu ko peshab aa gaya aur wo khada ho kar pent ki zipp khol kar lund ko bahar nikal kar mooten laga tabhi use doosri taraf se kisi ke kadmon ke ahat suni dee door station ke bul jal rahe thee jiske halki roshani wahan tak namatr hee phunch rahi thee bablu ne dekha do aurten uski taraf aa rahi thee jab bablu ne dhyan se dekha to use yaad aya ki ye dono aurten usi station par ruken wali traino mein khane ka samman bechti hai aur wahin station par idhar udhar so jatti thee bablu ne pahle to mooten ke baad apna lund andar karna chaha par socha chalo kuch inse hee majja loota jaye aur bablu apne lund ko asie hilane laga jiase aksar mooten ke baad admi hilet hain bablu ke lund mein tannav ane laga aur ek dam tan kar khada ho gaya wo dono aurten bilkul pass aa chuki thee pass ate hui ek aurat ne dheere-2 se bola
aurat: aree susham ye kon khada apna lund hila raha hai
susma: are ye to yahan ke chot sahib hai din mein kai baar dekha hai
bablu ko unki baten sunai pad gaye jab dono aurten bilkul pass se gujri to unki nazar bablu ke khade lund par gadh gaye aur dheere -2 age nikal gaye thodi age jate hee susma ne doosri aurat ke kaan mein kuch kaha aur us aurat ne use dheere sedhakka dete hue bola chal hatt phir dono mein kuch khusar phusar hui jo bablu dekh raha tha bablu apna lund pent ke andar kar chukka tha aur wahin khada dekh raha tha tabhi susma thoda dheere-2 chalne lagi aur koi 15-20 foot ke duri par ruk gaye wahan se wo bilkul bhee theek se dikhai nahi de rahi thee bus jise koi saya dikh raha ho bablu ne socha chal beta lagta hai choot ka intjaam ho gaya bablu uske aur badhane laga sushma bajre ke khet ke kinare khadi ho gaye aur apna salwar ka nada khol kar salwar ghutno tak neeche kar lee aur mooten lagi bablu ab kareeb aa chukka tha susma peshab Karne ke baad khadi hui to bablu uske peeche koi 5 foot ki auri par khada tha aur susma khadi ho chuki thee uski moti gori gaanD bablu ko saaf dikhai de rahi thee susma kuch palon ke liye wasie hee khadi rahi jaise wo apni gaanD ko bablu ko dikha rahi ho aur phir usne apni salwar oopar kar lee aur face ghuma kar peeche ki aur dekha aur ek kamuk muskaan uske face par thee phir usne jhuk kar apni ghatri uthai aur samane ke bajre ke khet mein ghus gaye bablu bhee uske peeche khet mein ghus gaya khet ke thoda andar jane ke baad susma ruk gaye aur apni gadhari neeche rakh kar usme se ek purani se chhadar nikal kar neeche bicha dee iten mein bablu bhee wahan puhnch gaya susma chadar ke oopar khadi thee bablu ko dekh kar muskarne lagi
susma: kiya chahebabu jee mera peecha kyon kar rahe ho
bablu ko koi jawab nahi suja aur kuch der chup rehane ke baad himmat karke bablu ne apni pent ko khol kar underwear samet ghutno tak sarka diya susma fati ankhon se bablu ke vikral lode ko dekh rahi thee
susma:areeeeee baap reeeee itna bada
aur susma ghutnon ke bal neeche baith gaye aur bablu ke lund par apna hath kas liya aur age peeche Karne lagi phir usne susma ke lund ke supaaDaa ki chamdi ko peeche kiya aur lund ko munh mein le liya aur choosen lagi bablu ek dam mast ho chukka tha aaj tak use lund chuswane mein itna maja nahi aaya tha uski juban bablu ke lund ke supaaDaa par thirak rahi thee bablu ko asia laga jaise wo jhaden wala hai bablu ne apna lund bahar kheench liya
susma:kiya hua babu jee achha nahi laga
bablu: nahi agar thodi der aur rukta to tere mooahn mein pani chod deta
susma: haan babu jee apna pani mere munh mein nikal do mere pyass buja do mein najane kab se taras rahi hoon mera mard sala kisi aur ki juru ke chakar mein pad kar use bhaga le gaya
ye kahte hee susma ne phir se bablu ka lund munh mein le liya aur jor-2 se chusne laga susma ka sar teji se aage peeche ho raha tha bablu ne susma ke balon ko pakad liya aur uske mooahn ko choden laga kuch hee der mein bablu ke lund se veery ka phuara choot pada bablu ek dam shaant pad gaya lekin susma ne bablu ka lund choosna chalu rakha thodi der mein bablu ka lund phir se khada hone laga aur 5min ke baad ek dam tan gaya susma ne mooahn se lund nikala aur khadi ho gaye aur apni salwar ka nada khol kar salwar ko nikal kar gahtri ke oopar phenk diya aur chhadar par let gaye letane ke baad susma ne apni tangon ko mmod liya aur apni choot ko phankon ko apne hathon se phaila liya
susma; jaldi karo babu jee daal do loda mere bur mein phaad dalo
bablu bhee bina der kiye ghutnon ke baal baith gaya aur apne lund ke supaaDaa ko pakad kar choot ke ched par laga diya
susma: ahhhhhhhhhhhhhhhhhhhh babuuuuuuuu itna kas ke chodna ki 2-3 din chudi ki jaroort mahsoos na ho ek hee baar mein poora andar daal do
bablu ne susma ki jaangho ko pakad kar poori takat ke sah Dhakka mara lund choot ke diwaron ko cheerta hua poora ka poora andar ghus gaya
susam:ahhhhhhhhhhhhhhh marrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrr gaeeeeeeeeeeee
bablu ne bina ruke dhakke lagane chalu kar diye susma ahhhhhhhh ohhhhhhhhhhhh siiiiiiiiiiii kar rahi theeeeeeeee
susma:ohhhhhhhhhhh uiiiiiiiimaaaaaaaa ahhhhhhhhhhhhhhhh marrrrrrrrrrrrrrr aur jooooooooooor seeeeeeeeeeeee ahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh chodooooooooooo phadddddd doooooooooo
bablu ke jahngen susma ki jaangho se takra kart hap-2 kiawaz kar rahi thee suma neeche apni gaanD ko oopar ki taraf uchal rahi thee jaise hee lund choot ke andar jhad tak ghusta thap ki awaz gunj jati suma paglo ki tarah apne baal noch rahi thee aur poori takat ke sath apni choot ko jaangho ko phaila kar oopar ki aur uchal rahi thee bablu use dekh aur josh mein aa gaya aur dhana-dhan dhakke lagane laga 10 min ki chudai mein susma do baar jhad chuki thee aur bablu bhee jhad kar hanfane laga bablu susma ke oopar leta hua tha
susma; babu jee aaj apne mere choot ki khujlimita kar mujhe jeet liya hai
bablu khad a hua aur pane pent pehane laga susma ne bhee apni salwar pehani lee
susma : babu jee aap jab yaad karnege mein aajongee mere choot aap ke lund ke dassi ho gaye hai
bablu muskrat kar bina kuch bole wahan se aa gaya aur staff room mein aakar so gaya agle din sibhe jab bablu ghar phucha aur naha dho kar fresh ho gaya shobha uske liye nasta le aye

bablu ghar phucha aur naha dho kar fresh ho gaya shobha uske liye nasta le aye
bablu: kab ja rahi hai tumhari behan
shobha:bus dopahar ko ja rahi hai
aur shobha nasta dekar oopar chali gaye dopahar ko jab bablu utha to shobha uske room mein ayes
shobha: seema chali gaye hai aur mujhe tumse kuch baat karni hai
bablu:haan bolo
shobha: mujhe achha nahi lag raha jot um Karne ja rahe ho
bablu:kiya acha nahi lag raha
shobha: ek agle saal march mein Renu ke 12th class porri ho jaygee mein chathi hun ki uske baad uski shadi tumse ho jaye lekin tab tak tum aur Renu kuch galat na karo mein tumhare liye itna sab akren ko taiyaar hun bus meri khatir mere ye baat man lo
kuch der sochane ke baad bablu ne hami bhar dee
shobha: kasam khao ki tumne mere baat man lee
bablu: (man mein chalo 7-8 mahino ke baat hai) kasam se par tab tak tum to ho na
shobha: dhat
bablu:tum jara oopar jakar aman ko dekho mein thodi der baad Renu ke pass jakar baat karta hun
shobha oopar chali gaye shobha ke oopar aane ke 15 min baad bablu bhee oopar aa gaya bablu ne shobha se ishare se poocha ki aman kahan hain shobha ne apne room ki taraf ishara kar diya ki wo usi ke room mein so raha hai bablu Renu ke kamre mein chala gaya aur Renu ko sari baat bata dee jo kuch der pahle shobha se hui thee
Renu:chalo theek hain mein aap ke sab baten manti hun par aap dono ko meri baat bhee manani pade gee
bablu:baton to sahi mein tumhare liye kuch bhee kar sakta hun
Renu: pahle maa ko bhee yahan bula lo
bablu bahar chala gaya aur shobha ko sath le aya
bablu: haan bolo kiya baat hain hum dono tumhari baat manane ko taiyaar hain
Renu:to aap dono ne jaise ki phainsla kiya hai ki hamri shadi mere 12th Karne ke baad hogee to mein chathi hun ki (bablu ki taraf ishara karte hue) aap pe sab se pehala haq mera hoga aur jab tab hamri suhagraat nahi ho jati tab tak aap bhee koi sambandh nahi rakhengee
bablu aur shobha dono kabhi ek doosre ko dekhte to kabhi Renu ko
Renu: bolo maa hai mere baat manjoor to khao mere kasam
ab shobha ke bass ki baat nahi thee aur naa hee bablu kuch kar sakta tha haar kar shobha ko Renu ki kasam khani padi
to dosto us din se lekar agle 8 mahino tak gahr mein bablu ko choot nahi milane wali aur yahan se kahani ek naya mod le rahi hai time apni rafter se chal raha tha aman ke 10th class ke pre board ke exam ho chuke the decmber ka mahina chal raha tha aman bhee jawani ki dhaleej par kadam rakh chukka tha par aman bahut hee sareef kisam ka ladka tha ladkyon se baat karan to door wo ladkyon ko dekhta tak nahi tha aur na hee use sex ki kuch jankai thee to dosto aman ke preboard ke exam khatam ho chuke the sardi apne poore shbab par thee aur aman ke classres exam ke baad 10 dino ke liye band ho gaye thee jis din aman akhir exam tha usdin shobha ke bahan ka phone aya
seema: hello didi kaise ho
shobha: mein bilkul theek hun tum kaise ho
seema: mein bhee theek hun aur bachhe kaise hain
shobha:haan dono theek hain aman ke aaj hee exam khatam hui hain aur 10 din ki chutya hain bas ab sara din ghar mein udham machta phirega
seema: didi aap aman ko mere pass bej do mera man bhee lag jayega
shobha:theek mein kal use bej deti hun
seema ki apni koi aulad nahi thee shadi ke 8 saal ho chuke thee aur seema 30 saal ki ho chuki thee seema ka pati army mein tha isliye seema ka aman se bahut lagav tha seema ke devar ki shadi ke baad uska devar jo ki army mein tha apni naye dhulan ko sath hee legaya tha seema ka pati bhee army mein hee tha isliye ghar par wo aur uski saas sasur akele rehthe the jab usne ye baat aman ko batyi to aman jhat se raji ho gaya kyon ki seema use bahut pyar karti thee aur uski har baat manati thee
shobha: par tun jayega kasie
aman: maa mein akela chala jaonga aap phikar na karo aap bus mujhe train mein baitha dena aur mujhe mousi aakar le jayegee
shobha: ye theek rahega
agle din aman bablu ke sath hee station par aa gaya aur bablu ne use train mein baitha diya kareeb 2 ghante ke safar ke baad aman apni mousi ke shahr phunch gaya yahan use lene uski mousi pahle se aye hui thee wo aman ko dekh kar bahut khus hui aman ne seema ke pair chue seema ne aman ko gale se laga liya seema ki moti naram chuhyan aman ke chest mein dhas gaye aur ragadn khane lagi aaj pehali baar aman ko kuch ajeeb sa ahsaas hua
seema:are wah aman tun to badha ho gaya
aman sharmte hue) jee mousi
phir dono ne station se bahar aakar auto pakada aur ghar aa gaye ghar phunch kar aman se seema ke saas sasur ke paanv chue baith kar unse baten Karne laga iten mein seema chai nasta lekar aa gaye chai peene ke baad seema ne aman se kaha chalo mein tumhen tumhara room dikha doon aur seema ne usks bag uth kar chal padi aman seema ke peeche -2 room mein aa gaya
seema:ye lo ye tumhar kamran hai tum yahan aram karo
aman:mousi mujhe nahana hai mein subah bhee naha kar nahi aya bahut sardi thee subhbe
seema: haan naha lo mein geejar on kar deti hun haan aur nahane se pahle sarso ke tel ki malsih kar lena nahi to garam pani se nahane se skin rukhi ho jaygee tel wahan dressing table par pada hai mein towel lekar ati hun eeema ke jane ke baad aman ne apne kapde utar diye sur sifr chote se underwear mein khadao hokar apne jism par sarso ke tel se malish Karne laga thodi der baad seema towel lekar aye aur room ke door parkahadi hokar aman ko dekhane lagi aman ke peeth seema ke taraf thee aur aman apne hath peeche karke peeth par tel lagane ki koshish kar raha tha
seema: andar ate hue) lao mein laga deti hun peetha par
aman ko jab pata chala ki wo sirf underwear mein apni mousi ke samane khada hai to woe k dam se sharma gaya aur apna sar jhuka liya seema aman ke halat dekh kar muskarne lagi
seema: are aise kyon sharma raha hain yaad nahi bachapan mein tun mere samane hee nanga ghoomta rehta tha aur ab aise sharma raha hai jaise tun sach mein jawan ho gaya hai
aman: nahi mousi wo baat nahi hai par ab mein badha ho gaya hun
seema; chal koi baa nahi la tel ki bottle mujhe de
aye seema tel ke bottle lekar usme se kuch tel apne hath mein dal kar uski peeth par malsih Karne lagi peeth ke malsih Karne ke baad seema ghoom kar aman ke samane ke taraf aa gaye
seema; ye dekho kehthe hain ki badha ho gaya hun par samane to theek se malsih nahi ki jagah-2 tel nahi laga
aur seema hath mein tel lekar uski chhati ki malish Karne lagi malish karte seema neeche panjo ke bal baith gaye aur aman ke parion ki malsih Karne lagi
aman: rehane do mousi mein kar loonga
seema: koi baat nahi sharma kyon raha hain mein kar deti hun

Nitin
Pro Member
Posts: 177
Joined: 02 Jan 2018 16:18

Re: दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार)

Unread post by Nitin » 27 Jan 2018 13:17

जैसे-2 सीमा के हाथ अमन के घुटनों के तरफ बढ़ रहे थे अमन के जिस्म में मस्ती के लहर दौड़ जाती अमन को समझ में नही आ रहा था कि उसे क्या हो रहा है सीमा की साड़ी का पल्लू खिसक कर नीचे गिर गया था उसकी बड़ी-2 चुचियाँ कसी हुई ब्लाउस में नज़र आ रही थी आज तक अमन ने ऐसा नज़ारा नही देखा था उसके अंडरवेर में हलचल होने लगी सीमा ने थोड़ा सा तेल हाथ में ले लिया और उसकी जाँघो की मालिश करने लगी अमन के जिस्म में करेंट दौड़ गया उसका लंड अंडर वेअर में झटके खाने लगा सीमा के हाथ अमन के जाँघो की मालिश कर रही थी अमन का लंड एक दम के खड़ा हो गया ब्लाउस से झलकती चुचियाँ अमन को उत्तेजित करने के लिए काफ़ी थी और अमन का 7 इंच का लंड एक दम लोहे की रोड की तरह अंडरवेर को फुला कर खड़ा हो गया सीमा की नज़र अमन के फूले हुए अंडरवेर पर पड़ी वो एक दम से हैरान हो गयी सीमा का दिल जोरो से धड़कने लगा जांघों के मालिश करते -2 उसकी नज़र बार अमन के खड़े लंड पर जाकर अटक जाती उसकी चूत में हलचल होने लगी सीमा ने नज़रें नीचे कर ली और कनखियों से बार उसके फूले हुए अंडरवेर के उभार को देख रही थी सीमा का ध्यान अपनी चुचियों पर गया जिसे बबलू भी चोर निगाहो से देख रहा था ब्लाउस में क़ैद उसकी आधी चुचियाँ नज़र आ रही थी सीमा के हाथ बबलू के जाँघो के काफ़ी ओपपेर तक जाने लगे थे सीमा भी गर्म होने लगी थी एक बार तो सीमा की उंगलियाँ अमन के लंड को उसके अंडरवेर के ऊपर से छू गये

अमन: बस मौसी हो गया अब में नहाने जाता हूँ

सीमा: हूँ ठीक है

जैसे उसका कोई ख्वाब टूट गया हो सीमा खड़ी हो गयी उसकी साँसे बहुत तेज़ी से चल रही थी सीमा के सारी का पल्लू फर्श पर गिरा हुआ था उसकी चुचियाँ ब्लाउस में ऊपर नीचे हो रही थी अमन खड़ा उसकी चुचियों को घूर रहा था तभी सीमा को अहसास हुआ कि वो इस हालत में खड़ी है सीमा ने जल्दी से अपना पल्लू ठीक किया और बाहर चली गयी अमन कुछ देर वैसे ही सुन्न खड़ा रहा उसे समझ नही आ रहा था उसके साथ आज हो क्या रहा है उसका ध्यान अपने अंडरवेर पर गया जो कि लंड खड़े होने के कारण फूला हुआ था अमन मन में सोचने लगा कि मौसी उसके बारे में क्या सोच रही होगी


उधर सीमा अपने कमरे में आ कर बेड पर बैठ गये और सोचने लगी हे भगवान ये मुझे क्या हो गया था में ऐसे कैसे कर सकती हूँ अमन मेरे बारे में क्या सोच रहा हो गा आख़िर अभी वो बच्चा है में कैसे बहक गयी शायद सारा कसूर मेरा है कुछ देर बैठे रहने के बाद सीमा नॉर्मल हो गयी और किचन में आकर दोपहर के खाने के तैयारी करने लगी सीमा का ध्यान में बार-2 अमन का खड़ा हुआ लंड सामने आ रहा था ना चाहते हुए भी सीमा वो सीन याद करके गर्म हो रही थी और बीच-2 में अपने आप को कोस रही थी सीमा की शादी को 8 साल हो चुके थे और अभी तक उसका कोई बच्चा नही था ज्सिके कारण उसका पति उसे काफ़ी निराश हो गया था और वो जब साल में एक दो बार घर आता तो दोनो में बहुत कम सेक्स होता जिसके कारण सीमा की जवानी का मज़ा खराब हो रहा था आज अमन के खड़े लंड ने उसे फिर से चुदासी बना दिया था उधर अमन भी नहा दो कर फ्रेश हो गया था और अकेला कमरे में बोर हो रहा था इसलिए अमन कमरे से निकल कर बाहर आ गया और किचन में चला गया यहाँ उसकी मौसी आटा गूँथ रही थी सीमा ज़मीन पर बैठ कर आटा गूँथ रही थी उसने अपने सारी और पेटिकॉट को अपने घुटनो तक चढ़ा रखा था उसकी एक टाँग नीचे थी और एक घुटने से मोडी हुई थी अमन को देख कर सीमा बोली आओ अमन क्या कर रहे हो

अमन; कुछ नही में अकेला बोर हो रहा था

सीमा:अच्छा किया जाओ बाहर से कुर्सी ले आओ और यहीं बैठ जाओ हम बातें करते है

अमन बाहर चला गया और एक कुर्सी लाकर सीमा के सामने बैठ गया

आटा गूँथते -2 सीमा के साड़ी और उसका पेटिकॉट घुटनो से थोड़ा ऊपर तक चढ़ चुका था दोनो टाँगों में काफ़ी गॅप था जिसके कारण उसकी पैंटी सॉफ नज़र आ रही थी दोनो आपस में बातें कर रहे थे एका एक अमन का ध्यान सीमा की फैली हुई जाँघो के बीच चला गया अमन का मन फिर से ज़ोर से धड़कने लगा उसकी आँखें सीमा की वाइट कलर की वी शेप पैंटी पर जम गयी सीमा की चूत की झांटें पैंटी के बाहर आ रही थी एक बार फिर अमन का लंड धीरे -2 खड़ा होने लगा जिसे वो अपनी टाँगों के बीच में छुपाने की कॉसिश कर रहा था

अमन: मौसी में अपने कमरे में जा रहा हूँ

सीमा:क्या हुआ यहीं बैठ जा ना मैं गर्म-2 खाना डाल देती हूँ

अमन:नही जब खाना बन जाए तो मुझे आवाज़ दे देना

और अमन उठ कर बाहर जाने लगा जैसे ही अमन खड़ा होकर जाने लगा तो उसका पयज़ामा फिर से लंड के सामने से उभर कर टेंट बना रहा था जिस पर सीमा की नज़र पड़ गयी अमन के जाते ही सीमा सोच में पड़ गयी अब इसे क्या हो गया जो इसका हथियार इस तरह तन कर खड़ा है सीमा ने अपने पल्लू की तरफ देखा जो कि ठीक था तभी उसका ध्यान अपनी फैली हुए टाँगों पर गया सीमा मन में सोचने लगी ओह्ह तो इसलिए उसका लंड अकड़ कर खड़ा था अमन भी मेरे बारे में क्या सोच रहा होगा कि उसकी मौसी कितनी बेशर्म है जो ऐसे अपनी टाँगें फैला कर अपनी झान्टो भरी चूत दिखा कर उसे गरम कर रही है अंजाने में कितनी बड़ी भूल हो गयी अमन तो मुझे पता नही कैसी औरत समझ रहा होगा पर चाहे जो भी अब मेरा अम्मू जवान हो गया है और उसका वो और ये सोच सीमा के होंठो पर मुस्कान आ गयी


दोपहर के खाने के बाद सीमा के घर में सभी-2 अपने-2 रूम में थे सीमा अपने बेड पर लेटी हुई दिन भर की घटनाओ के बारें में सोच रही थी उसके दिमाग़ में बार-2 अमन का उभरा लंड आ रहा था और वो ना चाहते हुए भी गरम हो रही थी सीमा के दिमाग़ में भी यही बातें चल रही थी कि क्या अमन ने जो कुछ भी उसके अंग देखे क्या उसे अच्छा लगा होगा सीमा एक दम चुदासी हो गयी पर वो जानती थी कि अमन अभी बच्चा है और इतना साँझ दार नही हुआ कि वो इन सब बातों को अपने में रख सकें बच्पने में कहीं वो ये बातें किसी को बता ना दे मुझे आगे से इसका पूरा ध्यान रखना होगा और हो सकता है कि उसे आज सुबह हुई घटनें अच्छी ना लगी हों ये सब सोचते-2 सीमा को नींद आ गयी जब वो उठी तो शाम के 5 बज रहे थे उठ कर उसने मुँह हाथ धोया और चाइ बनाने लग गयी रात तक कुछ ख़ास नही हुआ रात का खाना खाने के बाद अमन अपने रूम में आ गया और पढ़ने लगा रात में घर में सन्नाटा पसर गया रात के करीब 11 बज रहे थे अमन उठ कर बेड पर आ गया और सोने की कॉसिश करने लगा पर अमन आज तक अकेला कभी नही सोया था वो रात को अकेला रहने पर डर जाता था उसे नींद नही आ रही थी


हार कर वो उठ कर रूम से बाहर आ गया और सीमा के रूम का डोर नॉक किया थोड़ी देर बाद सीमा ने दरवाजा खोला एक पल के लिए अमन की आँखें सीमा पर गढ़ गयी सीमा अभी अभी सोई थी उसने एक शॉर्ट स्लीवलेस्स टीशर्ट पहनी हुई थी और नीचे वाइट कलर की सलवार पहनी हुई थी सीमा की टीशर्ट काफ़ी छोटी थी जो मुस्किल से उसकी नाभि तक आ पा रही थी और सलवार नाभि से 3 इंच नीचे बँधी हुई थी उसकी नाभि से नीचे से चूत तक का हिस्सा खुला दिखाई दे रहा था सीमा की झान्टो के कुछ बाल सलवार से बाहर झाँक रहे थे और वाइट कलर की सलवार में उसकी ब्लॅक पैंटी की झलक सॉफ पड़ रही थी जो सीमा ने शाम को नहाने के बाद पहनी थी सीमा अमन को यूँ अपनी तरफ देखते हुए थोड़ा मुस्करा गयी और पूछा
सीमा:क्या हुआ अमन बेटा

अमन: वो मुझे नींद नही आ रही थी वो मुझे........

सीमा:हां बताओ क्या बात हैं तुम्हें कुछ चाहिए

अमन : वो मुझे रात में डर लगता है में अकेला नही सो पाता हूँ क्या में आप के साथ सो जाऊ

सीमा:हां अंदर आ जाओ बहुत सर्दी है कहीं ठंड ना लग जाए

अमन के अंदर आते ही सीमा ने डोर लॉक कर दिया रूम में नाइट लॅंप जल रहा त्ता उसकी मंद रोशनी में सीमा का हुश्न गजब का लग रहा था सीमा ने अपनी बाहों को ऊपर करके अंगड़ाई ली जिसे उसका पेट अंदर की तरफ़ हुआ और सलवार ढीली पड़ने के कारण सरक कर और नीचे उसके खुलों पर आकर अटक गयी अब सीमा की ब्लॅक पैंटी की एलास्टिक वाइट सलवार के बाहर आ चुकी थी अमन के लिए ये सब बर्दास्त करना हद से बाहर था उसका लंड फिर से शॉर्ट्स में झटके खाने लगा अमन की नज़रें सीमा की चूत के बाहर झाँकती झान्टो पर अटकी हुई थी और सीमा अमन की हालत देख कर कामुक मुस्कान अपने होंठो पे लिए अमन को देख रही थी जब अमन ने अपनी मौसी की तरफ देखा तो वो जैसे कोई चोर पकड़ा जाता है वैसे झेंप गया सीमा ने बाहें नीचे की और बेड पर जाकर रज़ाई ओढ़ कर लेट गयी सर्दी के कारण अमन खड़ा काँप रहा था

सीमा:आओ अमन खड़े क्यों हो ठंड बहुत है

सीमा बेड पर एक सिंगल रज़ाई में लेटी हुई थी जिसमे मुस्किल से दो जान सो सकें अमन का दिल जोरों से धड़कने लगा

अमन: पर रज़ाई

सीमा: मेरे साथ ही आजा

अमन काँपते पैरो के साथ आगे बढ़ने लगा जैसे ही अमन बेड पर बैठा सीमा ने रज़ाई को खोल कर उसे अंदर आने का इशारा किया अमन सीमा के साथ रज़ाई में घुस गया सीमा की चुचियाँ अमन की छाती में सट गयी थी अमन ठंड के मारे काँप रहा था अमन को काँपता देख सीमा ने उसे अपनी बाहों में भींच लिया और अपने से चिपका लिया

सीमा: क्या हुआ ठंड लग रही है

अमन:हूँ (अमन के मुँह से बस इतना ही निकल पाया)

इस वक्त तक सीमा के मन में कोई वासना नही थी अमन को सीमा के बदन की गर्मी का अहसास अच्छा लग रहा था अमन ने भी अपना एक हाथ सीमा की कमर के नंगे हिस्से पर रख दिया अमन का हाथ अपनी कमर पर पड़ते ही सीमा अमन से और ज़्यादा चिपक गयी अमन अभी भी काँप रहा था सीमा ने अपनी एक टाँग उठा कर अमन की जाँघ पर रख दी ताकि अमन को और गर्मी मिल सकें पर सीमा ने जो किया शायद उसे नही करना चाहिए था जैसे ही सीमा ने अपनी टाँग उठा कर अमन की जाँघ पर रखी अमन का तना हुआ लंड सीधा सीमा की सलवार और पैंटी के ऊपर से चूत पर जा टकराया सीमा के मूँह से अहह निकल गयी लंड चूत के ऊपर सलवार और पैंटी के ऊपर से दबाव डाल रहा था सीमा की आँखें बंद थी अमन का लंड भी रह-2 कर झटके मारने लगा सीमा ने आँखे खोली और अमन की आँखों में देखा दोनो की नज़रें आपस में मिली सीमा ने फिर से आँखें बंद कर ली अमन को कुछ समझ में नही आ रहा था कि वो क्या करे अमन का हाथ खिसकता हुआ कमर से सीमा के कूल्हे पर गया सीमा अमन से बिल्कुल चिपक गयी उसकी बड़ी-2 चुचियाँ अमन की चेस्ट में धँस गयी अमन के होंठ सीमा की नेक से सट गये सीमा ने अमन के सर को अपनी बाहों में भींच लिया और सीमा अपनी नेक को धीरे-2 ऊपर नीचे करने लगी पर ना तो अमन की हिम्मत उसका साथ दे रही थे और ना ही सीमा की


अमन तो खैर सेक्स के बारे में कुछ जानता ही नही था और सीमा समझ और बड़ी बेहन के डर से कुछ कर नही पा रही थी दोनो में से कोई भी आगे नही बढ़ना चाहता था अमन को गर्मी मिलने के कारण नींद आने लगी और वो नींद के आगोश में समा गया पर नींद सीमा की आँखों से बहुत दूर थी आज वो कई सालों बाद किसी के साथ यूँ लिपट कर सो रही थी उसे बहुत मज़ा आ रहा था उसने अमन की तरफ़ा देखा जिसके फेस पर भोलापन और मासूमियत साफ झलक रही थी सीमा ने धीरे से बड़े प्यार से अमन के होंठो को किस किया और आँखें बंद करके लेट गयी और उसे भी नींद आ गयी अगली सुबह जब अमन उठा तो सीमा बेड पर नही थी अमन उठ कर अपने रूम में चला गया और फ्रेश होने के लिए चला गया सीमा ने अपने सास ससुर को चाइ दी

सीमा का ससुर: बहू कल अमन अपने कमरे में नही था क्या तुम्हारे साथ सोया था

सीमा:जी हां पिता जी वो उसे अकेले में डर लगता हैं ना

ससुर:हां -2 याद है अभी भी डरता है बहुत भोला लड़का है

सीमा:जी
उसके बाद सीमा चाइ लेकर अपने रूम में गयी अमन वहाँ नही था फिर सीमा अमन के रूम में गयी अंदर बाथरूम से आवाज़ आ रही थी

सीमा: नहा रहा है अमन

अमन:जी मौसी

सीमा :चाइ रखी है और नाश्ता भी खा लेना

अमन:जी मौसी

चाइ नाश्ते के बाद सीमा घर की सॉफ सफाई में लग गयी सीमा ने नोटीस किया अमन हमेशा उसके पास रहने की कोशिश करता है और उसकी चुचियों को घूरता रहता है पर सीमा को आगे बढ़ने में डर लग रहा था औरे ना ही अमन कोई पहल कर रहा था सीमा ने अमन को अपने जाल में फसाने का प्लान बना लिया दोपहर के वक़्त जब अमन सीमा के रूम में बैठा सीमा के साथ बातें कर रहा था सीमा अपने रूम के अट्तच बाथरूम में अपने कपड़े धो रही थी उसने सिर्फ़ ब्लाउस और पेटिकॉट पहना हुआ था और पेटिकॉट जाँघो तक ऊपर कर रखा था जिसमे से उसकी झान्टो वाली बुर सॉफ दिखाई दे रही थी और सीमा ने पैंटी जान बुझ कर नही पहनी थी अमन की नज़रें बार-2 सीमा के पेटिकॉट के बीच जा रही थी पर उसे कुछ दिखाई नही दे रहा था अमन वहाँ बैठा हुआ बोर होने लगा था इसलिए वो सीमा को ये बोल कर अपने रूम में आ गया कि उसे नींद आ रही है सीमा को कुछ समझ में नही आ रहा था वो सोचने लगी कि कभी तो अमन उसे खा जाने वाली नज़रों से देखता है और कभी ऐसे भोला बन जाता है जैसे वो कुछ देख ही ना रहा हो आख़िर उसके दिल में क्या है


सीमा ने अपनी पेटिकॉट के बीच में देखा तो उसे पता चला कि बाथरूम में लाइट कम होने के कारण उसे कुछ दिखाई नही दे रहा था इसलिए वो उठ कर चला गया अब दोपहर का खाना परोसते समय सीमा बार-2 अपनी चुचियों को दिखा रही थी सीमा लंड के लिए तरस रही थी उसने सोच लिया था आज चाहे कुछ भी हो जाए वो अपनी चूत की आग को ठंड करके रहेगी रात का खाना खाने के बाद जब अमन अपने रूम की तरफ जा राजा था तो वो किचन के सामने से गुजरा जहाँ सीमा बर्तन सॉफ कर रही थी

सीमा:अर्रे अमन रूम में जा रहा है

अमन:जी मौसी

सीमा: अगर डर लगता है तो आज भी मेरे रूम में सो जाना

अमन का दिल ये बात सुन कर धक-2 करने लगा पर ना जाने क्यों उसके मूँह से ना निकल गया

अमन: नही में अपने रूम में सो जाउन्गा

सीमा मन में सोचने लगी लगता है ऐसे बात नही बनने वाली सीमा ने जल्दी से बरतन सॉफ किए दूध गरम करने लगी अमन अपने रूम में बैठ कर पढ़ रहा था रात के 11 बज रहे थी और अमन को नींद आने लगी थी तभी उसके रूम का डोर खुला अमन ने पीछे मूड कर देखा सीमा मौसी हाथ में दूध का ग्लास लेकर खड़ी थी अमन की आँखें सीमा पर गढ़ गयी उसे यकीन नही हो रहा था जो वो देख रहा था सीमा का ये रूप देख अमन आँखे झपकाना भी भूल गया अपने आप को यूँ घुरता देख सीमा के होंठो पर मुस्कान आ गयी सीमा इतनी ठंड में ऊपर सिर्फ़ एक ढीला सा शॉर्ट ब्लाउस पहन रखा था जिसके ऊपर के दो हुक्स खुले थे उसकी चुचियाँ आधी से ज़्यादा बाहर झलक रही थी नीचे पेटिकॉट की बजाए कल वाली वाइट सलवार पहनी हुई थी जो उसने नाभि से बहुत नीचे बाँधी हुई थी उसकी चुचियों से लेकर सलवार के नाडे तक का हिस्सा खुला हुआ था वो एक दम मस्त लग रही त्ती अमन ने अपने नज़रें नीचे झुका ली सीमा रूम में आई और बबलू के पास आकर दूध का ग्लास टेबल पर रख दिया और बोली
सीमा:दूध पी लेना में सोने जा रही हूँ अगर डर लगे तो मेरे रूम में आ जाना

फिर सीमा ने कल वाले अंदाज़ में ही अपने बाहें ऊपर कर के अगड़ाई ली उसके इस अंदाज़ से अमन एक दम चोंक गया और सीमा मूड कर चली गयी और अमन दूध पीकर अपने बेड पर लेट गया पर उसे नींद नही आ रही थे डर की वजह से नही बल्कि उसे काल रात की वो बात याद आ रही थी जब वो और उसकी मौसी सीमा एक दूसरे के आगोश में सोए थे अमन को इतना मज़ा कभी नही आया था अमन बेड से उतर गया उसके पाँव खुद ब खुद सीमा के रूम की तरफ बढ़ने लगे और सीमा के डोर के पास आकर खड़ा हो गया और डोर नॉक किया सीमा जो कि बेड पर लेटी हुई थी उसके होंठो पर मुस्कान फैल गयी उसे अपना प्लान कामयाब होता नज़र आ रहा था सीमा ने डोर खोला अब आख़िरी दाँव चलना बाकी था
सीमा: क्या हुआ डर लग रहा है

अमन बिना कुछ बोले चुप खड़ा था

सीमा: चल अंदर आ जा

जैसे ही अमन अंदर आने को हुआ

सीमा: रुक एक काम कर पहले किचन से जाकर एक जग पानी ले आ में पानी रखना भूल गयी

अमन किचन में जाकर एक जग पानी ले आया और रूम के अंदर बेड के पास आकर खड़ा हो गया

सीमा:डोर को लॉक कर देता अच्छा चल रुक में करती हूँ तू जग को टेबल पर रख दे

सीमा तेज़ी के साथ खड़ी हुई जानबूज कर अमन से टकरा गयी जग पूरा भरा हुआ था जिससे पानी अमन के शॉर्ट्स और सीमा की सलवार के ऊपर गिर गया रूम में नाइट लॅंप जल रहा था जो सीमा की पीठ के पीछे था जिसके कारण अमन को सीमा की हालत नज़र नही आ रही थी

सीमा: ओह सॉरी अमन

अमन: कोई बात नही मौसी जी

सीमा:चल आ बाथरूम में अपने कपड़े पोंछ ले

और अमन सीमा के पीछे बाथरूम में आ गया बाथरूम में आकर सीमा ने बाथरूम की लाइट ऑन की और अमन की तरफ घूम गयी अमन की आँखों के सामने क्या नज़ारा था ये तो सिर्फ़ अमन ही बयान कर सकता है सीमा की सलवार आगे से गीली हो कर उसकी जाँघो और चूत से एक दम चिपकी हुई थी पतली और वाइट सलवार में सीमा की चूत सॉफ नज़र आ रही थी सीमा की सलवर से झान्टे चिपकी हुई थी और चूत की फांके सॉफ नज़र आ रही थी सीमा ने टवल उठा कर अमन को दिया अमन का शॉर्ट्स भी पूरी तरह गीला हो चुका था अमन की नज़रें सीमा की चिपकी हुई सलवार पर टिकी हुई थी सीमा को अब मंज़िल नज़र आने लगी थी अमन का लंड एक बार फिर तन चुका था जिसे वो टवल से छुपाने के कोशिश कर रहा था अमन चोर नज़रों से सीमा को देख रहा था

सीमा: तुम यहीं रूको में आती हूँ

सीमा बाहर आई और अपनी अलमारी से एक रेड कलर की नाइटी ली और नाइटी लेकर बाथरूम में गयी

सीमा:अरे तुम्हारा तो सारा शॉर्ट्स गीला हो गया

अमन: में अभी चेंज करके आता हूँ

सीमा: अब इतनी सर्दी में फिर अपने रूम में जाएगा ऐसा कर शॉर्ट्स उतार कर ये टवल लपेट ले

अमन भी बिना कुछ बोले बाहर आ गया और एक कोने में जाकर अपना शॉर्ट्स और अंडरवेर उतार दिया और टवल लपेट लिया अंदर सीमा ने अपना ब्लाउस और सलवार उतार कर नाइटी पहन ली जो कि सीमा की आधी ही जाँघो को ढक रही थी और चुचियों वाली जगह पर नेट का पतला सा कपड़ा लगा हुआ था जिसमे से उसके काले मोटे निपल सॉफ झलक रहे थे सीमा बाहर आ गयी अमन बेड के किनारे खड़ा हुआ था सीमा उसके पास आई और बोली

सीमा: अरे देखो बेड की चद्दर इकट्ठी हो गयी है में ठीक करती हूँ

सीमा बेड की चद्दर ठीक करने के लिए बेड पर दोनो घुटनो के बल होकर आगे की तरफ झुक गयी जिसे उसकी नाइटी पीछे से उसकी गान्ड तक उठ गयी ये सब वो जान बुझ कर रही थी पीछे खड़े अमन का तो बुरा हाल होगया वो एक दम सन्न रह गया सीमा की झान्टो से भरी चूत उसे सॉफ दिखाई दे रही थी अमन सीमा से बस एक फुट के फ़ासले पर खड़ा था उसकी नज़रें वहीं पर गढ़ गयी बदन का सारा खून लंड में इकट्ठा होने लगा और लंड एक दम तन कर खड़ा हो गया और टवल को ऊपर उठा कर बाहर आने के लिए झटके मारने लगा सीमा फिर रज़ाई में लेट गयी और अमन को अंदर आने का इशारा किया अमन भी रज़ाई में लेट गया दोनो एक दूसरे की तरफ करवट के बल लेटे हुए थे सीमा ने उसे बाहों में भर कर अपने से चिपका लिया सीमा की एक बाजू ने अमन के सर के नीचे से होते हुए उसकी पीठ को जाकड़ लिया था और दूसरे बाजू से उसकी बगल के ऊपर से पीठ को जकड़े हुए थी सीमा की चुचियों की जगह नाइटी पर नेट के कपड़े में उसके निपल देख कर अमन गरम हो रहा था सीमा ने अमन के सर को अपनी चुचियों पर दबा दिया अमन के होंठ नेट की जाली के ऊपर से सीमा के लेफ्ट निपल पर जा लगे सीमा की सिसकारी निकल गयी जिसे अमन ने भी सुन लिया अब अमन भी अपने होश खो बैठा था उसका एक हाथ खुद ब खुद ही सीमा के कूल्हे पर चला गया सीमा की नाइटी काफ़ी ऊपर उठी हुई थी सीमा और बबलू रज़ाई में थे इसीलिए रज़ाई के अंदर कोई नही देख पा रहा था अमन की आधी हथेली के नीचे सीमा की नाइटी का कपड़ा था और आधी सीमा के नंगे खुले पर थी सीमा अपने कूल्हे पर अमन का हाथ का स्पर्श महसूस करते ही उसके बदन में मस्ती के लहर दौड़ गयी थोड़ी देर बाद सीमा ने अपनी लेफ्ट जाँघ को उठा कर बबलू की कमर पे रख दिया जिससे उसकी नाइटी कमर तक ऊपर हो गयी अमन के हाथ के नीचे से नाइटी सरक कर ऊपर हो चुकी थी और जाँघ कमर पर रखने के कारण सीमा थोड़ा और आगे हो चुकी थी जिससे अमन का हाथ सरक कर सीमा की गान्ड पर पहुँच गया सीमा को बहुत मज़ा आ रहा था


आगे से चूत से नाइटी उठ चुकी थी अमन का लंड टवल के अंदर से सीमा की चूत की फांको से जा टकराया सीमा के मूँह से आहह निकल गयी और अहह अमन कह के अमन से और ज़ोर से लिपट गयी सीमा की आँखें बंद हो गयी उसकी साँसें तेज़ी से चल रही थी पता नही क्यों पर अमन नेआपने हाथ से सीमा के चूतड़ को हल्के से मसल दिया सीमा की कमर ने झटका खाया और सीमा की चूत अमन के लंड से टवल के ऊपर से रगड़ खा गयी अमन को बहुत अच्छा लग रहा था ये उसकी जिंदगी का नया अनुभव था अमन ने धीरे से सीमा की गान्ड को सहला दिया नतीजा फिर सीमा की कमर ने झटका खाया इस बार झटका थोड़ा तेज था जिससे सीमा की चूत बबलू के लंड से रगड़ खाते हुए बबलू का टवल खुल गया और लंड बाहर आ गया अमन का दिल जोरो से धड़कने लगा उसका पूरा बदन रोमांच के मारे काँपने लगा अब अमन के लंड का सुपाडा बिना किसी कपड़े के सीधा सीमा की चूत पर टिका हुआ था अमन से बर्दास्त नही हो रहा था जिससे उसका लंड झटके खाने लगा और सीमा की चूत के फांकों के बीच दस्तक देने लगा सीमा की चूत लंड लेने के लिए बेताब हो रही थी और पानी छोड़ने लगी थी लंड को फांकों पर महसूस करके सीमा की चूत के फाँकें फैलने और सिकुड़ने लगी सीमा की आँखें अभी भी बंद थी सीमा ने अपनी चूत को अमन के लंड के सुपाडे पे दबाना शुरू कर दिया और सीमा की चूत के होंठ फैल गये और लंड का सुपाडा सीमा की चूत के छेद पर जा लगा

सीमा: उंह अहह ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह
और सीमा के हाथ अमन की पीठ पर चलने लगे सीमा ने अपने होंठो को दाँतों में भींच लिया अमन के लंड की नसे फूल गयी बदन का सारा खून लंड की नसों में इकट्ठा होने लगा अमन को अपने लंड का सीमा की चूत से स्पर्श अंदर तक हिला गया वो तो जैसे आसमान में उड़ रहा हो अमन के लंड के गरम सुपाडे को चूत के छेद पर महसूस करके सीमा मस्ती के सागर में गोते खा रही थी अमन से अब रुका नही जा रहा था चाहे अमन सेक्स के बारे में बहुत कम जानता था पर उसकी कमर ने अपने आप ही अपने लंड को सीमा की चूत में घुसाने के लिए आगे की तरफ कमर को धक्का लगाया लंड का सुपाडा सीमा की चूत के छेद को फैलाता हुआ अंदर घुस गया सीईईईईईईईईईईईई की आवाज़ के साथ सीमा के चहरे पर ख़ुसी और कामुकता से भरी हुई मुस्कान फैल गयी


सीमा के होंठ काँपने लगे और कमर हल्के झटके खाने लगी सीमा का हाथ अमन की पीठ से सरकता हुआ अमन की गान्ड पर आ गया और उसकी गान्ड को आगे की तरफ दबाने लगा अमन सीमा का इशारा समझ गया और अपने लंड को सीमा की चूत के अंदर घुसाने लगा लंड का सुपाडा सीमा की चूत के दीवारों को फैलाता हुआ अंदर जाने लगा और कुछ ही पलों में पूरा का पूरा लंड सीमा की चूत में समा चुका था और अमन को महसूस हो रहा था जैसे उसके लंड को अंदर से कोई मसल रहा है सीमा की चूत की दीवारें अमन के लंड पर कस गयी मस्ती में आकर सीमा की चूत अमन के लंड को कस्ति तो कभी ढीला छोड़ती सीमा से अब रुका नही जा रहा था सीमा ने अपने काँपते होंठो को अमन के होंठो पर रख दिया पहले अमन को कुछ समझ में नही आया पर थोड़ी देर में ही अमन भी सीमा के होंठो को किस करने लगा दोनो एक दूसरे को किस करने लगे


जब सीमा को पता चला कि अब अमन समझ गया है तो सीमा ने अपना मूँह खोल कर अपने होंठ ढीले छोड़ दिए अमन सीमा के होंठो को चूसने लगा सीमा बहुत गरम हो चुकी थी सीमा ने अपनी कमर को पीछे की तरफ खींचा लंड चूत की दीवारों से रगड़ ख़ाता हुआ बाहर आने लगा अमन को बहुत मज़ा आ रहा था सीमा ने लंड को सुपाडे तक बाहर निकाला और फिर से लंड पर अपनी चूत दबाने लगी लंड फिर से अंदर जाने लगा अमन की मस्ती का कोई ठिकाना नही था एक बार फिर लंड सीमा की चूत के अंदर था मस्ती में आकर सीमा ने अपनी ज़ुबान अमन के मूँह में डाल दी और अमन भी सीमा की जीभ को चूसने लगा अग दोनो तरफ भड़क चुकी थी सीमा ने फिर से लंड को धीरे-2 सुपाडे तक बाहर निकाला और जैसे सीमा चूत के अंदर लंड लेने के लिए कमर गयी कि अमन ने सीमा की गान्ड को कस के पकड़ कर जोश में आकर धक्का मारा लंड पूरी तेज़ी से सीमा की चूत की दीवारों को चीरता हुआ बच्चेदानी से जा टकराया


jaise-2 seema ke hath aman ke ghutnon ke taraf badh rahe the aman ke jism mein masti ke lehar doud jati aman ko samajh mein nahi aa raha tha ki use kya ho raha hai seema ke saree ka palloo khisak kar neeche gir gaya tha uski badi-2 chuchiyaan kasi hui blouse mein nazar aa rahi thee aaj tak aman ne aisa nazara nahi dekha tha uske underwear mein halchal hone lagi seema ne thoda sa tel hath mein le liya aur uski jaangho kee malish Karne lagi aman ke jism mein current doud gaya uska lund under wear mein jhatke khaane laga seema ke hath aman ke jaangho kee malish kar rahe thee aman ka lund ek dun ke khada ho gaya blouse se jhalkti chuchiyaan aman ko uttejit karne ke liye kafi thee aur aman ka 7 inch ka lund ek dam lohe kee rod ki tarah underwear ko phula kar khada ho gaya seema ki nazar aman ke phule hue underwear par padi wo ek dam se hairaan ho gayee seema ka dil joro se dhadakane laga jaanghon ke malsish karte -2 uski nazar baar aman ke khade lund par jakar atak jati uski choot mein halchal hone lagi seema ne nazren neeche kar lee aur khankhiyon se baar uske phule hue underwear ke ubhar ko dekh rahi thee seema ka dhyaan apni chuchiyon par gaya jise bablu bhee chor nigaaho se dekh raha tha blouse mein kaid uski adhi chuchiyaan nazar aa rahi thee seema ke hath bablu ke jaangho ke kafi opper tak jane lage the seema bhee garm hone lagi thee ek baar to seema ki ungliyan aman ke lund ko uske underwear ke oopar se chu gaye

Aman: bus mousi ho gaya ab mein nahane jaata hun

seema: hun theek hai

jaise uska koi khwaab toot gaya ho seema khadi ho gayee uski saanse bahut teji se chal rahi thee seema ke saree ka palloo farsh par gira hua tha uski chuchiyaan blouse mein oopar neeche ho rahi thee aman khada uski chuchiyon ko ghoor raha tha tabhi seema ko ahsaas hua ki wo is halat mein khadi hai seema ne jaldi se apana palloo theek kiya aur bahar chali gayee aman kuch der waise hee sun khada raha use samajh nahi aa raha tha uske sath aaj ho kiya raha hai uska dhyaan apne underwear par gaya jo ki lund khade hone ke karan phoola hua tha aman man mein sochane laga ki mousi uske bare mein kiya soch rahi hogee udhar seema apne kamre mein aa kar bed par baith gaye aur sochane lagi hey bhagwan ye mujhe kya ho gaya tha mein aise kaise kar sakti hun aman mere bare mein kya soch raha ho ga akhir abhee wo bachha hai mein kaise behak gayee shaayad sara kasoor mera hai kuch der baithe rehane ke baad seema normal ho gayee aur kitchen mein aakar dopahar ke khane ke taiyaari Karne lagi seema ka dhyaan mein baar-2 aman ka khada hua lund samane aa raha tha na chahte hue bhee seema wo seen yaad karke garm ho rahi thee aur beech-2 mein apne aap ko kos rahi thee seema ki shadi ko 8 saal ho chuke the aur abhee tak uska koi bacha nahi tha jsike karan uska pati use kafi nirash ho gaya tha aur wo jab saal mein ek do baar ghar ata to dono mein bahut kam sex hota jiske karan seema ki jawani ka maja kharab ho raha tha aaj aman ke khade lund ne use phir se chudaasee bana diya tha udhar aman bhee naha do kar fresh ho gaya tha aur akela kamre mein bor ho raha tha isliye aman kamre se nikal kar bahar aa gaya aur kitchen mein chala gaya yahan uski mousi ata goonth rahi thee seema jameen par baith kar ata goonth rahi thee usne apne saree aur peticote ko apne ghutno tak chadha rakha tha uski ek tang neeche thee aur ek ghutane se modi hui thee aman ko dekh kar seema boli ao aman kiya kar rahe ho

aman; kuch nahi mein akela bor ho raha tha

seema:achha kiya jao bahar se kursi le ao aaur yahin baith jao hum baten karte hai

aman bahar chala gaya aur ek kursi lakar seema ke samane baith gaya

aataa goonthate -2 seema ke saree aur uska peticote ghutno se thoda oopar tak chadh chuka tha dono tangon mein kafi gap tha jiske karan uski painty saaf nazar aa rahi thee dono aaps mein baten kar rahe the eka ek aman ka dhyaan seema ki phaili hui jaangho ke beech chala gaya aman ka man phir se jor se dhadakne laga uski ankhen seema ke white colour ki v shape painty par jam gaye seema ke choot ke jhanten painty ke bahar aa rahi thee ek baar phir aman ka lund dheere -2 khada hone laga jise wo apni tangon ke beech mein chupane ki kosish kar raha tha

aman: mousi mein apne kamre mein ja raha hoon

seema:kiya hua yahin baith ja na mein garm-2 khana daal deti hun

aman:nahi jab khana ban jaye to mujhe awaz de dena
aur aman uth kar bahar jane laga jaise hee aman khada hokar jane laga to uska payjama phir se lund ke samane se ubhar kar tent bana raha tha jis par seema ki nazar pad gaye aman ke jate hee seema soch mein pad gaye ab ise kiya ho gaya jo iska hatyar is tarahan tan kar khada hai seema ne apne palloo ke taraf dekha jo ki theek tha tabhi uska dhyaan apni phaili hue tangon par gaya seema man mein sochane lagi ohh to isliye uska lund akad kar khada tha aman bhee mere bare mein kiya soch raha hoga ki uski mousi kitni besharm hai jo asie apni tangen phailla kar apni jhanton bhar choot dika kar use garam kar rahi hai anjane mein kitni badi bhool ho gaye aman to mujhe pata nahi kiase aurat samj raha hoga par chahe jo bhee ab mera ammu jawan ho gaya aur uska woo aur ye soch seema ke hontho par muskan aa gaye dopahar ke khane ke baad seema ke ghar mein sabhi-2 apne-2 room mein the seema apne bed par leti hui din bhar ke ghatno ke baren mein soch rahi thee uske dimag mein baar-2 aman ka ubhara lund aa raha tha aur wo na chahte hue bhee garam ho rahi thee seema ke dimag mein bhee yahi baten chal rahi thee ki kiya aman ne jo kuch bhee uske ang dekhe kiya use achha laga hoga seema ek dam chudaasee ho gaye par wo janti thee ki aman abhee bacha hai aur itna samjdar nahi hua ke wo in sab baton ko apne mein rakh saken bachpane mein kahin wo ye baten kisi ko bata na de mujhe aage se iska poora dhyaan rakhana hoga aur ho sakta hai ki use aaj subah hui ghatnen achi na lagi hon ye sab sochte-2 seema ko neend aa gaye jab wo uthi to sham ke 5 baj rahe thee uth kar usne munh hath dhoya aur chai banana lag gaye raat tak kuch khaas nahi hua raat ka khana khane ke baad apne room mein aa gaya aur padane laga raat mein ghar mein santa pasar gaya raat ke kareeb 11 baj rahe the aman uth kar bed par aa gaya aur son ke kosish karne laga par aman aaj tak akela kabhi nahi soya tha wo raat ko akela rehane par dar jata tha use neend nahi aa rahi tha haar kar wo uth kar room se bahar aa gaya aur seema ke room ka door knok kiya thodi der baad seema ne darwaja khola ek pal ke liye aman ki ankhen seema par gadh gaye seema abhee abhi soi thee usne ek short sleevless tshrit pehani hui thee aur neeche white colour ke salwar phani hui thee seema ke tshrit kafi choti thee jo muskil se uski nabhi tak aa paa rahi thee aur salwar nabhi se 3 inch neeche bandhi hui thee uski nabhi se neeche se choot tak ka hiss khula dikhai de raha tha seema ke jhanten ke kuch baal salwar se bahare jhank rahe thee aur white colour ke salwar mein uski black painty ke jahalk saaf pad rahi thee jo seema ne shaam ko nahane ke baad pehani theeseema aman ko yun apni taraf dekhate hue thoda muskra gaye aur poocha
seema:kiya aman beta
aman: wo mujhe neend nahi aa rahi theewoooo mujhee
seema:haan baton kiya baat hain tumhen kuch chahe
aman : wo mujhe raat mein dar lagta hai mein akela nahi so pata hun kiya mein aap ke sath so jaon
seema:haan andar aa jao bahut sardi hai kahin thand na lag jaye
aman ke andar ate hee seema door lock kar diya room mein night lamp jal raha ttha uski mand roshani mein seema ka husan gajab ka lag raha tha seema ne apni bahon ko oopar karke angdai lee jise uska paet andar ki tarf hua aur salwar dheele padane ke karan sarak kar aur neeche uske khulon par aakar atak gaye ab seema ki black painty ke elastic white salwer ke bahar aa chuki thee aman ke liye yesab bardaast karana had se bahar tha uska lund phir se shorts mein jhatke kahne laga aman ke nazren seema ki choot ke bahar jhankten jhanton par ataki hui thee aur seema aman ke halat dekh kar kamuk mukan apne hontho pe liye aman ko dekh rahi thee jab aman ne apni mousi ki taraf dekha to wo jaise koi chod pakada jatahain waise jhenp gaya seema ne bahen neeche ke aur bed par jakar rajai odh kar let gaye sardi ke karan aman khada kaanp raha tha
seema:aao aman khade kyon thand bahut hai
seema bed par ek single rajai mein leti hui thee jisme muskil se do jan so saken aman ka dil joron se dhadakne laga
aman: par rajai
seema: mere sath hee aja
aman kanpte parion ke sath age badhane laga jaise hee aman bed par baitha seema ne rajai ko khol kar use andar ane ka ishara kiya aman seema ke sath rajai mein ghus gaya seema ke chuchiyaan aman ke chhati mein sat gaye thee aman thand ke mare kaanp raha aman ko kanpta dekh seema ne use apni bahon mein bheench liya aur apne se chipka liya
seema: kiya hua thand lag rahi hai
aman:hun (aman ke mooahn se bus itna hee nikal paya)
iswqt tak seema ke man mein koi wasna nahi thee aman ko seema ke badan ke garmi ka ahasaas acha laga raha tha aman ne bhee apna ek hath seema ke kamar ke nange hisse par rakh diya aman ka hath apni kamar par padte hee seema aman se aur jyada chipak gaye aman abhee bhi kaanp raha tha seema ne apni ek tang utha kar aman ke jhang par rakh dee tanki aman ko aur garmi mil saken par seema ne jo kiya shaayad use nahi karna chahe tha jaise seema ne apni taang utha kar aman ke jhang par rakhi aman ka tana hua lund seedha seema ki salwar aur painty ke oopar se choot par ja takaraayaa seema ke mooahan se ahhhh nikal gaye lund choot ke oopar salwar aur painty ke oopar se dabav daal raha tha seema ke ankhen badn thee aman ka lund bhee reh-2 kar jhatke maaren laga seema ne ankehn kholi aur aman ki ankhon mein dekha dono ke nazren aaps mein mili seema ne phir se ankhen band kar lee aman ko kuch samajh mein nahi aa raha tha ki wo kiya kare aman ka hath khiskata hua kamar se seema ke khule par gaya seema aman se bilkul chipak gaye uski badi-2 chuchiyaan aman ke chest mein dhans gaye aman ke honth seema ke neck se sat gaye seema ne aman ke sar ko apni bahon mein bheench liya aur seema apni neck ko dheere-2 oopar neeche Karne lagi par na to aman ki himmat uska sath de rahi the aur na hee seema ki aman to khair sex ke bare mein kuch janat hee nahi tha aur seema samajh aur badi behan ke dar se kuch kar nahi paa rahi thee dono mein se koi bhee aage nahi badhna chatha tha aman ko garmi milane ke karan neend ane lagi aur wo neend ke agosh mein sama gaya par neend seema ke ankhon se bahut door thee ajj wo kai salon baad kisi ke sath jun lipat kar so rahi thee use bahut maja aa raha tha usne aman ke tarfa dekha jsike face par bholpan aur masoomiet saff jhalak rahi thee seema ne dheere se bade pyar se aman ke hontho ko kiss kiya aur ankhen badn karke let gaye aur use bhee neend aa gaye agli subah jab aman utha to seema bed par nahi thee aman uth kar apne room mein chala gaya aur fresh hone ke liye chala gaya seema ne apne saas sasur ko chai dee
seema ka sasur: bahu kal aman apne kamre mein nahi tha kiya tumhare sath soya tha
seema:jee haan pita jee wo use akele mein dar lagta hain na
sasur:haan -2 yaad hai abhee bhee darta hai bahut bhola ladka hai
seema:jeee
uske baad seema chai lekar apne room mein gaye aman wahan nahi tha phir seema aman ke room mein gaye andar bathroom se awaz aa rahi thee
seema: naha raha hai amar
aman:jee mousi
seema :chai rakhi aur nasta bhee kha lena
aman:jee mousi
chai naste ke baad seema ghar ke saad safai mein lag gaye seema ne notice kiya aman hamesh uske pass rehane ke koshish karta hai aur uski chuchiyon ko ghoorta rehtha hai par seema ko aage badhen mein dar lag raha tha aure na hee aman koi pehal kar raha tha seema ne aman ko apne jaal mein phasen ka plaan bana liya dopahar ke waqt jab aman seema ke room mein baitha seema ke sath baten kar raha tha seema apne room ke attch bathroom mein apne kapde dho rahi the usne sirf blouse aur peticote pehana hua tha aur peticote jaangho tak oopar kar rakh tha jisme se uski jhanton walli bur saaf dikhai de rahi thee aur seema ne painty jaan buj kar nahi pehani thee aman ki nazren baar-2 seema ke peticote ke beech ja rahi thee par use kuch dikahi nahi de raha tha aman wahhan baitha hua bor hone laga tha isliye wo seema ko ye bol kar apne room mein aa gaya ki use neend aa rahi hai seema ko kuch samajh mein nahi aa raha tha wo sochane lagi ki kabhi to aman use kha jane wale nazron se dekhta hai aur kabhi aise bhola ban jata hai jaise wo kuch dekh hee na raha ho akhir uske dil mein kiya hai seema ne apni peticote ke beech mein dekha to use pata chala ki batroom mein light kam hone ke karan use kuch dikhai nahi de raha tha isliye wo uth kar chala gaya ab dopahar ke khana paroste samane seema baar-2 apni chuichyon ke dikha rahi thee seema lund ke liye tarah rahi thee usne soch leya tha aaj chahe kuch bhee ho jaye wo apne choot ki agg ko thand karke rahegee raat ka khana khane ke baad jab aman apne room ki taraf ja raja tha to wo kitchen ke samane se gujra jahan seema batran saaf kar rahi thee

seema:arre aman room mein ja raha hai
aman:jee mousi
seema: agar dar lagta hai to aaj bhee mere room mein so jana
aman ka dil ye baat sun kar dhak-2 karne laga par na jane kyon ukse mooahn se na nikal gaya
aman: nahi mein apne room mein so jaonga
seema man mein sochane lagi lagta hai aise baat nahi banana wali seema ne jaldi se baratn saaf kiye doodh garam Karne lagi aman apne room mein baith kar pad raha tha raat ke 11 baj rahe thee aur aman ko neend aane lagi thee tabhi uske room ka door khhula aman ne peeche mud kar dekha seema mousi hath mein doodh ka glass lekar khadi thee aman ke ankhen seema par gadh gaye use yakeen nahi ho raha tha jo wo dekh raha tha seema ka ye roop dekh aman ankkhen jhapkan bhee bhool gaya apne aap ko yun goorta dekh seema ke hontho par muskan aa gaye seema itni thand mein oopar sirf ek dheela sa short blouse pehan rakha tha jiske oopar ke do hooks khule thee uski chuchiyaan adhi se jyada bahar jhalak rahi thee neeche peticote ke bajae kal wali white salwar pehani hui thee jo usne nabhi se bahut neeche bandhi hui thee uski chuhyon se lekar salwar ke nade tak ka hissa khhula hua tha wo ek dam mast lag rahi tthee aman ne apne nazren neeche jhuka lee seema room mein aaya aur bablu ke pass akar doodh ka glass table par rakh diya aur boli
seema:doodh pee lena mein sone ja rahi hoon agar dar lage to mere room mein aa jana
phir seema ne kal wale andazz mein hee apne bahen ooopar kar ke agdai lee uske is andaz se aman ek dam chonk gaya aur seema mud kar chali gaye aur aman doodh peekar apne bed par let gaya par use neend nahi aa rahi the dar ke awajah se nahi balki use kaal raat ki wo baat yaad aa rahi thee jab wo aur uski mousi seema ek doosre kea gosh mein soye thee aman ko itna maja kabhi nahi aya tha aman bed se utar gaya uske paanv khud b khud seema ke room ke taraf badhane lage aur seema ke door ke pass akar khada ho gaya aur door knock kiya seema jo ki bed par leti hui thee uske hontho par muskan phail gaye use apna plaan kaamjab hota nazar aa raha tha seema ne door khola ab akhiri daanv chalna baki tha
seema: kiya hua dar laga raha hai
aman bina kuch bole chup khada tha
seema: chal andar aa ja
jaise hee aman andar aane ko hua
seema: ruk ek kaam kar pahle kitchen se jakar ek jug pani le aa mein pani rakhana bhool gaye
aman kitchen mein jakar ek jug pani le aya aur room ke andar bed ke pass aakar khada ho gaya
seema:door tolock kar deta acha chal ruk mein karti hun tu jug ko table par rakh de
seema teji ke sath khadi hui jaanbuj kar aman se takara gaye jug poora bhara hua tha jisese pani aman ke shorts aur seema ke salwar ke oopar gir gaya room mein night lamp jal raha tha jo seema ke peeth ke peeche tha jiske karan aman ko seema ki halat nazar nahi aa rahi thee
seema: oh sorry aman
aman: koi baat nahi mousi jee
seema:chal aa bathroom mein apne kapde punch lee
aur aman seema ke peeche bathroom mein aa gaya bathroom mein aakar seema ne bathroom ki light on kee aur aman ke taraf ghoom gaye aman ke ankhon ke samane kiya nazra tha ye to sirf aman hee bayan kar sakta hai seema ke salwar aage se geele ho kar uske jaangho aur choot se ek dam chipaki hui thee patli aur white salwar mein seema ke choot saaf nazar aa rahi thee seema ki salawr se jhante chipaki hui thee aur choot ke phankhen saaf nazar aa rahi thee seema towel utha kar aman ko diya aman ka shorts bhee poori tarah geela ho chukka tha aman ke nazren seema ke chipaki hui salwar par tiki hui thee seema ko ab manjil nazar aane lagi thee aman ka lund ek baar phir tan chukka tha jise wo towel se chupane ke koshish kar raha tha aman chod nazron se seema ko dekh raha tha
seema: tum yahin ruko mein ati hun
seema bahar aye aur apni almari se ek red colour ke nighty lee aur nighty lekar bathrrom mein gaye
seema:are tumhara to sara shorts geela ho gaya
aman: mein abhee change karke atta hun
seema: ab itni sardi mein phir apne room mein jaeyga aisa kar shorts utar kar ye towel laapet lee
aman ne bhee bina kuch bole bahar aa gaya aur ek kone mein jakar apna shorts aur underwear utar diya aur towel laapet liya andar seema ne apna blouse aur salwar utar kar nighty pehan lee jo ki seema ke adhi hee jaangho ko dhak rahi thee aur chuchiyon ki wali jagah par net ka patla sa kapdha laga hua tha jime se uske kale mote nipple saaf jhalak rahe thee seema bahar aa gaye aman bed ke kinare khada hua tha seema uske pass aye aur boli
seema: aree dekho bed ke chaddar ikthi ho gaye hai mein theek karti hun
seema bed ke chaddar theek Karne ke liye bed par dono ghutno ke bal hokar aage ki taraf jhuk gaye jise uski nighty peeche se uski gaanD tak uth gaye ye sab wo jaan buj kar rahi thee peeche khade aman ka to bura haal hogaya wo ek dam san reh gaya seema ke jhanton se bhari choot use saaf dikhai de rahi thee aman seema se bus ek foot ke phansle par khada tha uski nazren wahin par gadh gaye badan ka sara khoon lund mein iktha hone laga aur lund ek dam tan kar khada ho gaya aur towel ko oopar utha kar bahar aane ke liye jhatke marane laga seema phir rajai mein let gaye aur aman ko andar aane ka ishara kiya aman bhee rajai mein let gaya dono ek doosre ki taraf karvat ke bal leta hue the seema ne use bahon mein bhar kar apne se chipka liya seema ki ek baju aman ke sar ke neeche se hote hue uski peeth ko jakad liya tha aur doosre baju uske bagal ke oopar se peeth ko jakde hue thee seema ki chuchiyon ke jagah nighty par net ke kapde mein uske nipple dekh kar aman garam ho raha tha seema ne aman ke sar ko apne chuhyon par daba diya aman ke honth ke net ke jali ke oopar se seema ke left nipple par ja laga seema ke siakari nikal gaye jise aman ne bhee sun liya ab aman bhee apne hosh kho baitha tha uske ek hath khud ba khud hee seema ke khule par chala gaya seema ke nighty kafi oopar uthi hui thee seema aur bablu rajai mein thee islliye rajai ke andar koi nahi dekh paa raha tha aman ki adhi hateli ke neeche seema ke nighty ka kapdha tha aur adhi seema ke nange khule par thee seema apne khule par aman ka hath ka sparsh mahsoos karte hee uske badan mein masti ke lahar doud gaye thodi der baad seema ne apni left jhang ko utha kar bablu ke kamar pe rakh diya jise uski nighty kamar tak oopar ho gaye aman ke hath ke neeche se nighty sarak kar oopar ho chuki thee aur jhang kamar par rakhane ke karan seema thoda aur aage ho chuki thee jise aman ka hath sarak kar seema ke gaanD par phunch gaya seema ko bahut maja aa raha tha aage se choot se nighty uth chuki thee aman ka lund towel ke andar se seema ke choot ke phankhon se ja takaraayaa seema ke mooahn se aahhh nikal gaye aur ahhhhhhhhhh aman keh ke aman se aur jor se lipat gaye seema ki ankhen band ho gaye uski sansen teji se chal rahi thee pata nahi kyon par aman neapne hath se seema ke chutar ko halke se masal diya seema ke kamar ne jhatka khya aur seema ki choot aman ke lund ke towel ke oopar se ragad kha gaye aman ko bahut achha lag raha tha ye uski jindgi ka naya anubhav tha aman ne dheere se seema ke gaanD ko sahala diya neetja phir seema ke kamar ne jhatka khya is baar jhatka thoda tej tha jise seema ke choot bablu ke lund se ragad khate hue bablu ke towel khul gaya aur lund bahar aa gaya aman ka dil joro se dhadakne laga uska poora badan romach ke mare kanpane laga ab aman ke lund ka supaaDaa bina kisi kapde ke seedha seema ke choot par tika hua tha aman se bardaast nahi ho raha tha jise uska lund jhatke khane laga aur seema ke choot ke phankon ke beeche dastak dene laga seema ki choot lund lene ke liye betab ho rahi thee aur pani choden lagi thee lund ko phankon par mahsooe karke seema ki choot ke phanken phailane aur sikurane lagi seema ki ankhen abhee bhee band thee seema ne apni choot ko aman ke lund ke supaaDaa pe dabana shuru kar diya aur seema ke choot ke honth phail gaye aur lund ka supaaDaa seema ke choot ke ched par ja laga
seema: umhhhhhhhhhhhh ahhhhhhhhhhhhh ohhhhhhhhhhhhhhhh
aur seema ke hath aman ke peeth par chalne lage seema ne apne hontho ko danton mein bheench liya aman ke lund ke nase phool gaye badan ka sara khoon lund ke nason mein iktha hone laga aman ko apne lund ka seema ki choot se sparash andar tak hila gaya wo to jaise assman mein udh raha ho aman ke lund ke garam supaaDaa ko choot ke ched par mahsoos karke seema masti ke sagar mein gotte kha rahi thee aman se ab ruka nahi ja raha tha chahe aman sex ke bare mein bahut kam janta tha par uski kamar apne aap hee apne lund ko seema ke choot mein ghusane ke liye aage ki taraf kamar ko dhakka lagaya lund ka supaaDaa seema ke choot ke ched ko phailata hau andar ghus gaya siiiiiiiiiiiiii ki awaz ke sath seema ke chahre par khusi aur kamukta se bhari hui mukan phail gaye seema ke honth kanpane lage aur kamar halke jhatke khane lagi seema ka hath aman ke peeth se sarkata hua aman ke gaanD par aa gaya aur uski gaanD ko aage ki taraf dabane laga aman seema ka ishara samajh gaya aur apne lund ko seema ki choot ke andar ghusane laga lund ka supaaDaa seema ke choot ke diwaron ko phailta hua andar jane laga aur kuch hee palon mein poora ka poora lund seema ki choot mein sama chukka tha aur aman ko mahsoos ho raha tha jiase uske lund ko andar se koi masal raha hai seema ki choot ke diwaren aman ke lund pae kas gaye masti mein aakar seema ki choot aman ke lund ko kasti to kabhi dheela chodti seema se ab ruka nahi jar aha tha seema ne apne kanpte hontho ko aman ke hontho par rakh diya pahle aman ko kuch samajh mein nahi aya par thodi der mein hee aman bhee seema ke hotno ko kiss Karne laga dono ek doosre ko kiss Karne lage jab seema ko pata chala ki ab aman samajh gaya hai to seema ne apne mooahn khol kar apne honth dheele chod diye aman seema ke hotno ko chusane laga seema bahut garam ho chuki thee seema ne apni kamar ko peeche ke taraf kheencha lund choot ke diwaron se ragad khata hua bahar aane laga aman ko bahut maja aa raha tha seema ne lund ko supaaDaa tak bahar nikala aur phir se lund par apni choot dabane lagi lund phir se andar jane laga aman ki masti ka koi tikana nahi tha ek baad phir lund seema ke choot ke andar tha masti mein aakar seema ne apni juban aman ke mooahn mein dhel dee aur aman bhee seema ki jeebh ko choosen laga agg dono taraf badhak chuki thee seema ne phir se lund ko dheere-2 supaaDaa tak bahar nikala aur jiase seema choot ke andar lund lene ke liye kamar gaye kee aman ne seema ke gaanD ko kas ke pakad kar josh mein aakar Dhakka mara lund poori teji se seema ke choot ke diwaron ko cheerta hua bachhedani se ja takaraayaa

page 5