गन्ने की मिठास compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit batutomania-spb.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: गन्ने की मिठास

Unread post by rajaarkey » 15 Oct 2014 01:53

राज- मम्मी जहाँ मेरी ड्यूटी है वहाँ खूब मोटे मोटे गन्ने के खेत है,

रति- बेटे किसी दिन अच्छे मोटे मोटे गन्ने ले कर आ जा हम दोनो मा बेटियाँ यही बैठ कर चूस लेगी

राज- नही मम्मी ऐसे मज़ा नही आता है जब ताजे ताजे गन्ने वही तोड़ तोड़ कर चूसो तब ज़्यादा मज़ा आता है,

संगीता तू कहे तो कल तुझे गाँव घुमा देता हू

रति- पर बेटा वहाँ तू काम करेगा कि संगीता को लिए लिए फ़िरेगा

राज- नही मम्मी गाँव वाले मेरी खूब इज़्ज़त करते है और वहाँ तो गाँव के खेतो मे खूब मज़ा आता है देखना

संगीता एक बार वह गई तो बार बार जाने को कहेगी,

संगीता- खुशी से उछलते हुए प्लीस भैया मुझे ले चलो ना मैने कभी भी गन्ने के खेत भी नही देखे

है,

प्लीज़ मम्मी भैया से कहो ना कल मुझे भी घुमा लाए,

रति- ठीक है राज कल संगीता को चुस्वा देना गन्ने मैं फिर कभी चलूंगी,

राज- ठीक है मम्मी और फिर मम्मी वहाँ से चली जाती है और संगीता मेरी गोद मे

बैठी रहती है मैने देखा

कि अब संगीता जानबूझ कर मेरे लंड पर इधर उधर मचल रही थी,

संगीता- भैया क्या खूब मीठे मीठे गन्ने है वहाँ,

राज- मैने धीरे से संगीता के गुदाज पेट और उसकी कमर को सहलाते हुए कहा, हाँ मेरी रानी बहना एक बार तू

चुसेगी ना तो बार बार मुझसे कहेगी कि भैया एक बार मुझे और चूसा दो

संगीता- फिर तो भैया मैं खूब चुसुन्गि,

राज- लेकिन मेरा मन गन्ने चूसने का नही करता है

संगीता- मेरी ओर देख कर पुच्छने लगी, तो फिर भैया आपका क्या चूसने का मन करता है

राज- मैने संगीता के मोटे-मोटे दूध को देखते हुए कहा मेरी बहना मेरा मन तो मोटे-मोटे आम को

चूसने का करता है, मेरी नज़रो को संगीता समझ गई और अपनी नज़रे नीचे झुका कर इधर उधर देखने लगी

मैने धीरे से संगीता के दोनो मोटे मोटे दूध को उसकी टीशर्ट के उपर से हल्के से पकड़ लिए तो संगीता की

साँसे तेज चलने लगी, वह मेरी गोद से उठने की कोशिश करने लगी उसका चेहरा पूरी तरह तमतमाया हुआ था और

उसके रसीले होंठ कांप रहे थे,

मैं चाह रहा था कि संगीता के दूध को खूब कस कर मसल दू लेकिन हिम्मत इसके आगे हो नही रही थी,

राज- मैने धीरे से संगीता के कानो मे कहा, संगीता अपने भैया की गोद मे . बहुत अच्छा लगता है ना

संगीता अपना सर झुकाए बैठी थी और मेरी बात सुन कर मेरे लंड के उपर से उठने लगी, मैने उसका हाथ पकड़

लिया तब उसने पलट कर मुझे अपनी कातिल निगाहो से देखा और मेरी और मुस्कुरा कर कहने लगी भैया मैं अभी

आती हू,

मैने उसे प्यार से देखते हुए छ्चोड़ दिया और वह अपने रूम मे चली गई, मैं . बैठे अपने लंड को सहला

रहा था और मुझे ना जाने क्यो ऐसा लग रहा था जैसे संगीता मुझसे जल्दी ही अपनी चूत मरवा लेगी, उसके हाव

भाव और उसका बार बार मेरे पास आना, यह सब देख कर मुझे लग रहा था कि संगीता जितनी नज़र आ रही है उतनी

है नही,

मेरे ख्याल मे वह मेरा लंड अपनी चूत मे लेने के लिए मचल रही थी, उपर से मम्मी भी किचन

मे कई बार अपनी चूत खूब सहलाते और खुजलाते हुए ऐसी लग रही थी जैसे खूब चुदासी हो और खूब तगड़ा लंड

अपनी चूत मे लेना चाहती हो,

कुच्छ देर बाद मैं अपने रूम मे आ गया और सोचने लगा चलो थोड़ी देर आराम

करते है,

शाम को 6 बजे मैं घूमने निकल गया और फिर अगले दिन वापस साइट पर पहुच गया, आज पानी जैसा थोड़ा

मौसम हो रहा था और बड़ी मस्त ठंडी हवाए चल रही थी, मैने सोचा चलो थोड़ी देर हरिया के पास टाइम

पास किया जाए और मैं उसके खेतो की ओर चल दिया जब मैं गन्नो के पिछे पहुचा तब मुझे किसी के बात करने

की आवाज़ आने लगी मैने गन्नो के पिछे से छुप कर देखा तो सामने हरिया खड़ा अपनी धोती मे से अपने

मोटे लंड को बाहर निकाले हुए सामने खड़ी सुधिया से बाते कर रहा था,

हरिया- देख भौजी कैसा डंडे की तरह तेरी मस्तानी चूत मे घुसने के लिए मरा जा रहा है,

सुधिया- बेशरम कही के अपनी भाभी को अपना मूसल दिखा रहा है चल जा यहाँ से और मुझे काम करने दे

आज वैसे भी सारा दिन मुझे अकेले ही काम करना है वहाँ रामू अलग बीमार पड़ गया है,

हरिया- भौजी मैं तेरा सारा काम कर दूँगा बस एक बार मुझे अपनी रसीली चूत चटा दे,

सुधिया- का चेहरा एक दम लाल हो रहा था और वह अपने घाघरे को समेट कर चारा काटने मे लग गई, हरिया

अपना लंड खोले उसके सामने बैठा हुआ था और उसके घाघरे मे से उसकी चूत को देखने की नाकाम कोशिश कर

रहा था,

क्रमशः........


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: गन्ने की मिठास

Unread post by rajaarkey » 15 Oct 2014 01:54

GANNE KI MITHAS--28

gataank se aage......................

mummy ko jab maine panty mai dekha to mai uske chutado ko dekh kar mast ho gaya uske gol

matol chutado mai gajab ka mans bhara hua tha sali ke mast chutado ko dabochne mai maja aa jata hoga,

maine lungi pahan li lekin mera land puri lungi ko upar tak tane huye tha, mai sofe par betha hua tha aur vaha

se tirchhi najar se kichan ki aur dekh raha tha jaha par mummy khadi chia bana rahi thi,

maine dekha mummy

beech beech mai apni chut ko sadi ke upar se kabhi dabati aur kabhi khujlane lagti thi, aisa ek bar nahi kai bar

vah kar rahi thi aur jab vah apni chut ko khujlane lagti tab mai uske chehre ke bhav dekh kar pagal hone lagta

tha,

mummy apni chut ko khujlate huye aisa masti bhara chehra bana leti ki mera dil karta ki abhi jakar apni

mummy rati ke rasile hontho ko khub kas kar chus lu, tabhi mummy ek dam se kichan se mere pass aai aur apna

muh thoda khole huye kahne lagi raj jara mere muh mai dekh meri jeebh par bal laga hua hai kya aur mummy

jaise hi mere samne jhuki uske mote mote khub kase huye doodh meri aankho ke samne jhulne lage,

maira land

puri tarah lungi mai tan kar ek bada sa tambu banaye huye tha, mummy ne apne khubsurat chehre ko mere

samne jhuka kar apni jeebh jab bahar nikal kar dikhai to mai mast ho gaya, apni mummy ki rasili gulabi jeebh

dekh kar mera dil karne laga ki abhi uski jeebh ko apne muh mai bhar kar chus lu,

maine mummy ke gulabi galo ko chhu kar uske hontho par ungliya pherte huye uski jeebh mai lage bal ko dhire

se pakad kar nikal diya, bal nikalne ke bad mummy meri aur dekh kar muskurate huye andar chali gai jab vah

jane lagi to phir se meri najar mummy ki moti lachakti gand par chali gai aur mai apne land ko lungi ke upar se

sahlate huye mummy ki ufan leti jawani ko dekh raha tha,

mera land aaj bahut mast khada hua tha aur mai soch

raha tha ki meri khud ki mummy itni sexy aur mastani hai aur meri najar kabhi us par padi kyo nahi, ab mai

mummy ka nanga pet jo uski sadi se kaphi bahar tha aur uski gudaj gahri nabhi saf najar aa rahi thi ko dekh kar

mast ho raha tha,

tabhi achanak bahar ka darwaja khula aur sangita andar aa gai aur mujhe dekhte hi daud kar mere pass aakar

meri jangho mai apne hath ko rakh kar kahne lagi kya bhaiya kaha gayab ho gaye the,

aapke bina to achcha hi

nahi lag raha tha, maine sangita ko upar se niche tak dekha to mera land aur jhatke marne laga, sangita ne red

color ki chust tshirt pahni hui thi aur uske andar bra nahi thi uske mote mote pake huye thos aam saf najar aa

rahe the aur unhe dekh kar kisi ka bhi man uske rasile aamo ko khub daba daba kar chusne ka karne lage,

niche sangita ne ek skirt jo ki black color ka tha pahan rakha tha jo ki uske ghutno tak aata tha, maine apne

hath ko sangita ki pith par pherte huye use sahlate huye kaha, meri gudiya rani ko lagta hai apne bhaiya ki

bahut yaad aati hai,

tabhi mummy udhar se aa gai aur mummy ne jo kaha usko sun kar kisi bhi bhai ka land apni bahan ke liye khada

ho jaye,

rati- raj kyo nahi yaad karegi sangita tujhe, aakhir teri ek hi to bahan hai, use khub lad pyar se rakha kar aur

use khub pyar kiya kar, mummy ki bat sun kar mera land jahtke lene laga aur maine sangita ki kamar mai hath

dal kar use khinch kar apni god mai chadha liya aur uske mote mote doodh ko apne dono hantho ko aage lejakar

apne hantho ki giraft mai lekar sangita ke galo ko chumte huye mummy ke samne hi mai kahne laga

raj- mummy tum fikar mat karo tum nahi janti mai apni is gudiya rani ko kitna pyar karta hu aur maine mummy

ke samne hi sangita ke galo ko khub kas kas kar chum liya,

sangita ki moti gand mai shayad mere land ka ehsas ho chuka tha aur uske chehre ka rang ud gaya tha vah apni

gand ko idhar udhar rakhne ki koshish kar rahi thi lekin maine use apni banho mai kas kar jakad rakha tha

tabhi mummy kichan mai jakar hum logo ke liye chai le aai aur phir sangita meri god se utar kar mere pass beth

gai, sangita ka chehra jab maine dekha to ek dam lal tha aur vah bar bar kabhi mujhe aur kabhi mere lungi mai

khade land ko dekhne ki koshish kar rahi thi,

samne mummy beth kar mujhse bate karne lagi aur mai beech

beech mai sangita ke mote mote doodh dekh kar apne hontho par gili jeebh pherne laga tha,

rati -bete is sunday kahi ghumne chala jay bahut samay se kahi darshan karne nahi gaye,

raj- mummy kaha jane ka mood hai aapka

rati- bete chal is bar shirdi ke darshan karke aate hai,

raj- mummy phir to hame shaniwar ko rat ko nikalna hoga sunday din bhar ghumege aur sunday rat tak ghar aa

jayege,

rati- thik hai jaisa tumhe jame, bas tu ek din pahle bol dena taki mai taiyari kar lu,

mummy ke jane ke bad sangita bhi uth kar mummy ke picche jane lagi to maine uska hath pakad kar use khinch

kar apni god mai betha liya aur uske galo ko chumte huye,

raj- meri pyari bahna mujhe bahut yaad karti hai kya

sangita- aah bhaiya chhodo na, aap kitna jor se mujhe daba lete ho,

raj- meri gudiya rani tu hai hi itni sundar ki mai jab bhi tujhe dekhta hu dil karta hai tere sare badan ko chum lu,

sangita- hatiye bhaiya mujhe jane dijiye

raj- sangita achcha meri bat to sun aur phir maine sangita ko dhire dhire sahlate huye kaha

raj- sangita tune kabhi ganne chuse hai

sangita- meri aur dekh kar nahi bhaiya

raj- tera man kabhi ganna chusne ka karta hai

tabhi udhar se mummy aa jati hai aur

rati- bete raj mujhe ganne bahut pasand hai maine sach beta kai salo se koi ganna nahi chusa hai

mummy ki bat sun kar maine man mai socha, meri rani mai janta hu tujhe khub mota ganna chahiye tu fikar mat

kar mai teri mastani chut mai aisa mat ganna daluna ki tu jindagi bhar mere ganne ki diwani rahegi,

raj- mummy jaha meri duty hai vaha khub mote mote ganne ka khet hai,

rati- bete kisi din achche mote mote ganne le kar aa ja hum dono ma betiya yahi beth kar chus legi

raj- nahi mummy aise maja nahi ata hai jab taje taje ganne vahi tod tod kar chuso tab jyada maja ata hai,

sangita tu kahe to kal tujhe ganv ghuma deta hu

rati- par beta vaha tu kam karega ki sangita ko liye liye firega

raj- nahi mummy ganv wale meri khub ijjat karte hai aur vaha to ganv ke kheto mai khub maja aata hai dekhna

sangita ek bar vah gai to bar bar jane ko kahegi,

sangita- khushi se uchalte huye pleas bhaiya mujhe le chalo na maine kabhi bhi ganne ke khet bhi nahi dekhe

hai,

please mummy bhaiya se kaho na kal mujhe bhi ghuma laye,

rati- thik hai raj kal sangita ko chuswa dena ganne mai phir kabhi chalungi,

raj- thik hai mummy aur phir mummy vaha se chali jati hai aur sangita meri god mai

bethi rahti hai maine dekha

ki ab sangita janbujh kar mere land par idhar udhar machal rahi thi,

sangita- bhaiya kya khub mithe mithe ganne hai vaha,

raj- maine dhire se sangita ke gudaj pet aur uski kamar ko sahlate huye kaha, ha meri rani bahna ek bar tu

chusegi na to bar bar mujhse kahegi ki bhaiya ek bar mujhe aur chusa do

sangita- phir to bhaiya mai khub chusungi,

raj- lekin mera man ganne chusne ka nahi karta hai

sangita- meri aur dekh kar puchhne lagi, to phir bhaiya aapka kya chusne ka man karta hai

raj- maine sangita ke mote-mote doodh ko dekhte huye kaha meri bahna mera man to mote-mote aam ko

chusne ka karta hai, meri najro ko sangita samajh gai aur apni najre niche jhuka kar idhar udhar dekhne lagi

maine dhire se sangita ke dono mote mote doodh ko uski tshirt ke upar se halke se pakad liye to sangita ki

sanse tej chalne lagi, vah meri god se uthne ki koshish karne lagi uska chehra puri tarah tamtamaya hua tha aur

uske rasile honth kamp rahe the,

mai chah raha tha ki sangita ke doodh ko khub kas kar masal du lekin himmat iske aage ho nahi rahi thi,

raj- maine dhire se sangita ke kano mao kaha, sangita apne bhaiya ki god mai bethna bahut achcha lagta hai na

sangita apna sar jhukaye bethi thi aur meri bat sun kar mere land ke upar se uthne lagi, maine uska hath pakad

liya tab usne palat kar mujhe apni katil nigaho se dekha aur meri aur muskura kar kahne lagi bhaiya mai abhi

aati hu,

maine use pyar se dekhte huye chhod diya aur vah apne room mai chali gai, mai bethe bethe apne land ko sahla

raha tha aur mujhe na jane kyo aisa lag raha tha jaise sangita mujhse jaldi hi apni chut marwa legi, uske hav

bhav aur uska bar bar mere pass ana, yah sab dekh kar mujhe lag raha tha ki sangita jitni najar aa rahi hai utni

hai nahi,

mere khyal mai vah mera land apni chut mai lene ke liye machal rahi thi, upar se mummy bhi kichan

mai kai bar apni chut khub sahlate aur khujlate huye aisi lag rahi thi jaise khub chudasi ho aur khub tagda land

apni chut mai lena chahti ho,

kuchh der bad mai apne room mai aa gaya aur sochne laga chalo thodi der aaram

karte hai,

sham ko 6 baje mai ghumne nikal gaya aur phir agle din vapas site par pahuch gaya, aaj pani jaisa thoda

mausam ho raha tha aur badi mast thandi hawaye chal rahi thi, maine socha chalo thodi der hariya ke pass time

pass kiya jaye aur mai uske kheto ki aur chal diya jab mai ganno ke pichhe pahucha tab mujhe kisi ke bat karne

ki aawaj aane lagi maine ganno ke pichhe se chhup kar dekha to samne hariya khada apni dhoti mai se apne

mote land ko bahar nikale huye samne khadi sudhiya se bate kar raha tha,

hariya- dekh bhauji kaisa dande ki tarah teri mastani chut mai ghusne ke liye mara ja raha hai,

sudhiya- besharam kahi ke apni bhabhi ko apna musal dikha raha hai chal ja yaha se aur mujhe kam karne de

aaj vaise bhi sara din mujhe akele hi kam karna hai vaha ramu alag bimar pad gaya hai,

hariya- bhauji mai tera sara kam kar dunga bas ek bar mujhe apni rasili chut chata de,

sudhiya- ka chehra ek dam lal ho raha tha aur vah apne ghaghre ko samet kar chara katne mai lag gai, hariya

apna land khole uske samne betha hua tha aur uske ghaghre mai se uski chut ko dekhne ki nakam koshish kar

raha tha,

kramashah........

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: गन्ने की मिठास

Unread post by rajaarkey » 15 Oct 2014 01:55

गन्ने की मिठास--29

गतान्क से आगे......................

सुधिया- मंद-मंद मुस्कुराते हुए, हरिया क्यो मेरे पीछे पड़ा है चल जा यहाँ से मुझे बहुत ज़रूरी काम

है

हरिया- क्या काम है पहले बताओ तभी जाउन्गा,

सुधिया- थोड़ा शरमाते हुए अपने चेहरे को नीचे करके तू जा यहाँ से मुझे बहुत जोरो की पेशाब लगी है

हरिया- एक दम से उछल कर खुश होता हुआ, वाह भौजी क्या बात कही है अब तो मैं तुम्हे बिना मुतते देखे बिना

यहा से कही नही जाउन्गा,

सुधिया खड़ी होकर अपनी चूत को घाघरे के उपर से हरिया की ओर देख कर मसल्ति हुई आह हरिया कमिने जा

यहाँ से नही तो मैं तेरे मूह मे ही मूत दूँगी,

हरिया- खुस होते हुए हाय भौजी मैं तो कब से तेरी बुर से मूत चाटने के लिए तड़प रहा हू,

अब देर ना कर और

जल्दी से मेरे मूह मे अपनी मस्त फूली हुई चूत धर कर बैठ जा,

उन दोनो की हरकते देख कर मेरा लंड खड़ा हो चुका था लेकिन आज मैं बाबाजी के भेष मे नही था और सिवाय

उन दोनो को देखने के कुच्छ नही कर सकता था,

उधर मुझे हरिया से ज़्यादा सुधिया चुदासी लग रही थी और बार बार हरिया के मोटे लंड को देख कर अपनी चूत

को घाघरे के उपर से मसल्ते हुए हरिया से कह रही थी, देख हरिया यहाँ से चला जा मुझसे अब नही सहा जा

रहा है मुझे पेशाब कर लेने दे,

हरिया- अरे भौजी तो क्या मैने तुम्हे या तुम्हारी चूत को पकड़ रखा है जो तुम मूत नही रही हो, चलो अब

जल्दी से घाघरा उठा कर अपनी बुर फैला कर खूब मोटी धार निकाल कर मुतना शुरू कर दो,

सुधिया उसी पत्थर पर एक पेर रख कर खड़ी थी जहा एक बार निम्मो मूतने बैठी थी, हरिया सुधिया की मोटी

जाँघो के पास अपने मूह को लगा कर चूमते हुए ओह भौजी कितनी गुदाज और भरी हुई जंघे है तुम्हारी अब

जल्दी से मूत भी दो,

सुधिया- कमिने तू नही मानेगा ले पी ले अपनी भौजी का मूत और सुधिया उसी पत्थर पर अपनी मोटी जाँघो को

फैला कर जैसे ही बैठती है हरिया अपना मूह आगे कर देता है, और सुधिया की फूली हुई चूत को नीचे झुक कर

देखने लगता है,

सुधिया अपना भोसड़ा फैलाए हरिया के सामने मंद मंद मुस्कुराते हुए बैठी रहती है,

तभी हरिया उसकी चूत को सहला कर कहता है भौजी मूत ना, उसके इतना कहते ही सुधिया अपनी चूत उठा कर हरिया

के मूह मे एक मोटी धार मारने लगती है और हरिया एक दम से सुधिया की बुर से निकलती पेशाब को देख कर अपना

मूह खूब कस कर सुधिया की चूत से लगा कर उसकी चूत के भज्नाशे को अपने मूह मे भर लेता है,

सुधिया का

पेशाब एक दम से रुक जाता है और हरिया जैसे ही उसकी चूत के मोटे दाने को अपनी जीभ मे दबा कर चूस्ता है

सुधिया की चूत से फिर से पेशाब निकल जाता है और हरिया उसकी चूत को किसी कुत्ते की भाँति चूसने लगता है,

सुधिया का पेशाब फिर से रुक जाता है और हरिया उसकी चिकनी मूत से भीगी चूत को किसी पागल कुत्ते की तरह सूंघ

सूंघ कर चाटने लगता है,

सुधिया- आह कुत्ते मूतने तो दे फिर बाद मे चाट लेना

हरिया- भौजी और मुतो बहुत मज़ा आ रहा है तेरी चूत से मूत पीने मे और फिर हरिया लंबी लंबी जीभ निकाल

कर सुधिया की बुर को खूब कस कर दबोचते हुए चाटने लगता है, सुधिया की चूत एक दम मस्त हो जाती है और

सुधिया थोड़ा और ज़ोर लगा कर छुल से एक धार सीधे मारती है और हरिया अपना मूह खोल कर उसकी पेशाब को पीते

हुए सुधिया की चूत को खूब ज़ोर से अपने मूह मे दबा कर चूसने लगता है,

हरिया- भौजी और मूत थोड़ा ज़ोर से मूत बहुत मज़ा आ रहा है, सुधिया आ कुत्ते चाट ले खूब ज़ोर से चाट ले

अपनी भौजी की चूत, और सुधिया अपनी जाँघो को और फैला देती, और हरिया उसकी चूत को अपने होंठो मे दबाए

हुए कहता है और मूत भौजी और मूत,