प्यास बुझती ही नही compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit batutomania-spb.ru
007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: प्यास बुझती ही नही

Unread post by 007 » 16 Dec 2014 04:08

raat ke 10 baje rashmi ko chay banane ko kaha gaya...wo kitchen mai chay banane ke baad sabhi ko serve karne lagi....jab wo apne room mai chay lekar gayee to dekha ki rajesh smriti ko banho mai liye hue hai aur use chum chat rahi hai....smriti bhi uske baal aur chehre per kiss kar rahi hai.....rashmi ne use disturb karna uchit nahi samjha wo wahi per kone mai khadi rahi aur dono ke karnama dekhne lagi.

rajesh: aahhh darling....ab raha nahi jata.....please apna blouse nikale.

smriti: nahi....rashmi aa jayegi...please aisa mat karooooo

rajesh: uske chuchiyo ko dabate hue.....mai ab nahi rah sakta.

smriti: please...mujhe majboor maaattt karoooo pllllllllllllaahhhhh

rajesh: ek baar phir mai tumhare in chuchiyo ko nagn dekhna chahta hu....please my sweat-heart....

smriti: per darwaja to khula hai....use to band karo....

rajesh ne darwaje ki taraf dekha to chaunk gaya...kyoki rashmi un-dono ko dekhkar muskura rahi thee.......................................................boli....are pahle chay pi lo phir mahabharat suru karna............aur chay wahi per rakhkar chali gayee.......

smriti: chay pite hue.....chhiiiii kya sochti hogi hamare bare mai.....mujhe to sharm aati hai....

rajesh; are isme sharmane ki kya baat hai.....meri rashmi bahut samajhdar hai...aur phir ye to uska hi faisla hai...tumhe yaha lane ka......kya tumhe nahi malum?

wo tumhe phir se suhagan dekhna chahti hai...tabhi to maine apne dost se baat ki hai tumhare liye....................aur phir mere aur tumhare riste to hai hi jija shaali ki....to phir shaali aadkhi gharwali hoti hai...........haaaaaaaaaaaaaaaaaaaa (thahaka mar kar hasne laga)

smriti: tumhe ye sab majak lag raha hai per mai kya karu...mai ek aurat jo hu aur uspe widow...............log kya kahenge...samaj kya kahega.

rajesh: samaj ko maro goli.....jab tum bidhwa ghar per yu baithi rahti thee raat raat bhar karwate badalte rahti thee to kaha gaya samaj......tum meri maano goli maaro is samaj ko...aur phir hamlog duniya ke pahle couple to hai nai jo aisa kar rahe hai...itihaas gawah hai...ki logo ne apne aiso-araam ke liye kitne aurato ko choda hai....mai to phir bhi sanskaari hu...........................

smriti: chahe jo ho...hame aisa nahi karna chahiye................................

tabhi kamre mai rashmi aa jati hai.......bolti hai

rashmi: are bhai kya chal raha hai...kaisi badnami ho jayegi? jara mai bhi to sunu

rajesh: ab tum hi apni bahan ko samjhao

rashmi: wo to mai samjha dungi hi...tum jaakar bhaiya se mil lo...bula rahe hai.

rajesh ke jaane ke baad rashmi aur smriti dono chay ki chuski ke saath baate kar rahe the..........

smriti: tumhara dimaag to kharab nahi ho gaya hai......?

rashmi: kyu? kya hua?

smriti: tum sab kuchh jaante hue bhi apne pati ko mere saath.....................

rashmi: to isme bura kya hai? tum ke stree ho aur wo bhi widow...tumhe bhi pura haq hai jeene ka.....aur phir jaane wale to chale gaye.....unke liye aansu bahana theek nahi hai......agar jijaji hote to wo bhi tumhe yu tadapte hue dekhna nahi chahte....mujhe malum hai ki tum raat raat bhar lund ke liye tadapti rahti ho...

smriti: rashmi........mind your language...tum meri chhoti bahan ho...

rashmi: ohhh didi...ab chhodo bhi ye chhoti aur badi....ham dono saheliya hai...aur mohabbat aur jung mai sab jayaj hai....so enjoy with my hubby....subah batana ki kya kya hua.....ok..................

smriti: per mujhe kuchh theek nahi lag raha...

rashmi: subah baat karenge.....tab tak rajesh bhi aa gaya....

smriti:apni nazare diwaar ki or kar liya aur rashmi ek aankh mar kar chali gayee....

thodi der tak khamoshi rahi.....................................phir rajesh ne aage badhkar smiti ko picche se pakad liya aur uske gardan aur gaallo per kiss karne laga

smriti...aahhhhhh kya karte ho...gudgudi hoti hai....please chhod do

meri jaan jab lund teri chut mai jayega na to dekhna kitna maja ayega...

smriti: chhiiiiiiiiiiii kitni gandi baate karte ho.......mujhe pasand nahi

rajesh: to tumhe kya pasand hai....baithkar aansu bahana...............

smriti: kuchh nahi boli...wo sirf itna hi bol saki......light to band kar do...mujhe sona hai.

rajesh ne light off kar diya aur zero bulb jala diya...abhi bhi dhimi roshni thee kamre mai....ab rajesh ne uske chuchiyo ko pakadkar dabane laga .....smriti aah uh karne lagi.......................................rajesh ne use apni banho mai liye hue bister per aa gaya...aur uske gown ko khol diya...wo bilkul nangi ho gayee

Smriti ne tirchhi nazaro se rajesh ko dekha…rajesh muskura raha tha…..uska lund hawa mel ah raha raha thaa….yu to smriti kumara thee nahi par aaj tak use aisa lund dekhne ko mila nahi thaa….wo ashchary-chakit thaa ki aisa lund to wo sirf English filmo (BF) me hi dekhne ko milta hai. Smriti bhi ab sharmana chod di thee kyoki wo bhi to madar-jaat nangi jo thee….uski gaand bhi rajesh ke aankho kea age jhul raha thaa……..rajesh ue use banho me liya aur bed par aa gaya…..rajesh ko bahut man kar raha thaa ki wo smriti ki chut ko dekhe ……par smriti ne apne dono haatho se dhaki hue thee…..

Bed par aate hi rajesh ne smriti ko peeth ke bal leta diya…aur jaangho ko chauda karne laga….aur uske haatho ko hatane laga…..par smriti ne jor se apni chut ko dhank rakha tha……..rajesh ne shararat sujhi wo smriti ki gaand me apna ek ungli ghusa di……..

Smriti: uiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii mar gayee…ye kaha daal rahe ho……aap ko sharm aani chahiye…..chhiiiiiii

Rajesh: ab jab tum apni mujhe tadpaoge to me to aisa karunga hi………………aur ek gaana gun-guna diya…

“chut se jara nakab hata do mere hujur” jalwa ek baar dikha do mere hujur……chut se…………………”

Smriti:Aap bahut besharm ho….bahar koi sunega to kya kahega…..

Rajesh: tabhi to me kah raha thaa…ki ab nakhre karne chod do aur suru karo programmme.

Smiriti: mujhe sharm aate hi ….jo bhi karna ho tum karo….

Rajesh : jee nahi…jab tak tum mera saath nahi dogi me haath bhi nahi lagaunga….

Smriti: ooooohooooo…..jaise ki tum maanne wale ho………agar tumhe bas chale to kachha kha jaao mujhe………hmmmmm

Rajesh: ab chod bhi do nakhra……

Smriti: ji nahi…agar tumhe chahiye to tum aage badho…..

Rajesh: madam…me aisa aasiq nahi hu…ki saadi uthai aur maar diya chauka….apna to ek hi fadda hai……do sex with love.

Smriti: hmmmmmmmmmmmm to phir ye lo…aur smriti haar mante hue apna haath wanhaa se hata diya aur sharm ke mare apni aankhe mund li………………………

Rajesh: ne uske haath ko ankho se hatate hue kaha….ji nahi ye bhi nahi chalegi…..jab me tumhe chodunga to tum mujhe dekhogi aur me tumhe….samjhi.

Smriti: matlab kit um maanne wale nahi ho….achha baba…ye lo…khus?

Rajesh: haste hue…thanks……….aur wo jhuk kar uski chut ko chum liya…..waah…kya smell hai….aur kya swad hai…bhai maja aa gaya….

Smriti: apne kamar ko aithte hue….chhiii….aapko ganda nahi lagta….yanha se mut nikalti hai aur aap ho ki chum rahe ho.

Rajesh: meri jaan …ye to gangotri hai….jaha se ganga nikalti hai…aur phir tum aur me bhi yahi se nikle hai…….

Smriti: muskurate hue….aur tum us jagah pe chatna bhi chahte ho…….hai na….

Rajesh: hmmmm ab tum samajhdar ho gayee ho……dekho….sex me kucch bhi ganda nahi hota…job hi hota hai enjoyment ke liye hota hai…tum enjoy karo…bas….baaki ki mujhpar chod do.

Smriti naa bolna hi uchit samjha…..ab rajesh ne uske uppar sawar ho gaya…aur apna lund ka topa uske hontho se thodi duri par lahraya…..smriti ho uski smell bahut madak lag rahi thee…..smriti ka man to kar raha tha ki uske mlund ko chum le aur chaat le…par naa jane wo aisa nahi kar rahi thee… ab rajesh apne lund ko aur nazadeek kar diya…..itna nazadeek ki uske lund ka supada smriti ke honth se takra gaya……smriti ne aah kiya aur phir apna honth khol diya…lund sidha uske munh me chala gaya..par phir wo nikal diya…….use ulti lagne lagi…………………………smriti uth gayee…..khaste khaste uska bura haal ho gaya……rajesh bhi ghabra gaya…..socha…agar log uth gaye to kya hoga…..rashmi kya sochege…..tabhi wo paani ka glass le kar use diya……smriti ne ek ghunt paani piya …uske baad wo normal ho gayee…..

Rajesh: and any problem………………………..par smriti kuchh boli nahi………………

Thodi der khamoshi ke baad rajesh ne uske similar so gaya aur uske chuchiyo se khelne laga………………..

Rajesh ne ab smriti ke chuchiyo se khelte hue use kiss karne laga…smriti bhi ab normal ho gaye thee kyoki woe k baar jhar chuki thee….rajesh ka lund kaafi bada ho gaya thaa….ab use bardast nahi ho raha thaa…woe k haath se smriti ke chut ke daane ko kuredne laga…falswaroop smriti ke naak fadakne lagi…..uske munh se aahhhh oohhhh ki awaj nikalne lagi…jisse rajesh ko pata chal gaya ki loha garam hai……hathode marne ka samay aa gaya hai…… rajesh ne smriti ke jaangho ke bich baith gaya aur jagah banaya aur phir apna lund ko apne haatho me lekar smriti ke chut ke hontho pe ragada…smriti ke pure sharer me current sa laga….wo apni janghe sikodne lagi……rajesh ne apne lund ko smriti ke chut pe lagaya aur ek jor ka shot mara…lund sidha chut ke ander 4 inch chala gaya……chunki smriti married thee par 2 yrs se wo widhwa thee is wajah se uski chudai nahi hue thee…par aaj uska chut kasa sa lag raha thaa……chut ki diwar kaafi sakht thee….parantu ras se bhara rahne ke kaaran rajesh ko aasaani hue lund ko ander ghusane me………………..ab wo smriti ki ankho me jhankte hue kaha:

Rajesh: meri jaan kaisa lag raha hai….

Smriti kuchh nahi boli………..ahhhhhhhhhhhhmmmm sirf muskura di….

Rajesh ne ab aur jor se dhakka mara…pura lund uske ander chala gaya…………rajesh dubara kuredna chaha…….ab bataao meri jaan….meri raani aur uske hontho ko apne honth me lekar chwo laga….aur uske chuchiyo ko dabane laga……..

Smriti aasmaan me tairne lagi……….aap 2 sal baad uske chut ki chudai ho rahi thee…..tum bakai khiladi ho sex ke….me maan gayee…sirf itna hi kaha………….mujhe pata kar bister tak le aye……….

Rajesh: meri raani aage aage dekho hota hai kya………waise tumhe malum hi hoga ki rashmi aaj kal apne jeth se chuda rahi hai……………

Smriti: kya???? Ye mujhe nahi malum aur apni nazare churane lagi.

Rajesh: mujhe sab malum hai ki tum sab janti ho…ha naa….

Smriti: agar malum hai to tum puchh kyo rahe ho

Rajesh: isliye ki me tumhare munh se sunna chahta hu

Smriti: haa wo mujhe bataya thaa..jab wo massorrie me thee…..aapko bura to nahi laga?

Rajesh: are nahi…..darasal mene hi use aisa karne ko kaha tha….

Smriti: par kyo? Duniya me koi bhi pati apne patni ko kisi aur ke banho me nahi dekhna chahta ….to phir aap kyo? Mujhe samajh me nahi aya…

Rajesh: me kisi ko yu tadapte nahi dekhna chahta…me Mumbai gaya thaa 15 days ke liye…me nahi chahta ki meri gair-hazari me meri wife kisi cheez (lund) ke liye tadpe.

Smriti: great…..ab to dhakke lagao……..

Rajesh: par kaha?

Smriti: meri chut me….(khus)

Rajesh: haaaa …ye lo a…aur wo lund ko pura nikal kar jor se pel diya…..smriti chihunk gayee…..

Smriti: are baba dheere dheere …….jaan se marne ka irada hai kya?

Rajesh: nahi meri jaan ….jaan marunga to me hi mar jaaoonga…..tum bahut khubsurat ho aur ye tumhari chut…….wah kya kahne

Smriti: aur ye chuchiya…inke bare me kya khyal hai?

Rajesh: wah ri saali….ban gayee chhinal….chudakkar…

Smriti: mind your language….aisi baate mar karo

Rajesh: are meri jaan tum to naraz ho gayee ….me to aise hi bol raha tha……….chudai ke dauran aisi baate bolne se josh aur badhta hai…

Smriti: par mujhe pasand nahi…..chudai ke samay sirf chudai honi chahiye…………aur agar open language bolna hai to bol sakte ho…par gaali nahi…please….

Rajesh: ok meri jaan…sorry….

Smrit: sorry ki jarurat nahi………dhakke lagao……………….

Rajesh: to ye lo……aur jor se chodne laga…….par ye kya…..KHALAS……………aur dhadam se smriti par gir gaya……………………..

Smrit: ye kya kiya aapne….? Tay taay fish……………….

Rajesh ko sharmindagi hue…wo kuchh nahi bola…sirf jor jor se haafne laga………sorry darling…kabhi kabhi aisa ho jata hai…………par tum pareshaan mat ho….1 hr. ke baad phir program suru karunga…

Par smriti to pagal si ho gayee….wo apni chut me ungli karne lagi…..thoda rahat hua…phir daur kar bathroom me chali gayee………………………..thodi der baad wapas aye……rajesh so chukka tha….

Smriti use gaur se dekhte hue sochne lagi…………………..kaisa aadmi hai….? Chhiiiiiii

Tabhi use darwaje par dastak hua….wo chauk gayee….daur kar gown pehn liya aur rajesh ke sharer par ek chadar dhank diya…….aur jaa kar dawaja kholne lagi……………

Darwaje par rashmi thee…..ander aate hi boli……………..kya hua…tum chinkhi kyo…………?

Smriti: ye baat tum apne husband se puchho….mujhe bich bhawar me chod kar so gaya…

Rashmi sab samajh gayee….par boli kuchh nahi…….tum so jaao ..subah baat karte hai….aur wo chali gaye.

Smrit: par me yanha nahi sona chahti….

Rashmi: to phir uppar wale kamre me chali jaao……

Aur smriti wanhaa se chali gayee…par uske ander ek question ubhar gayee…ki rajesh ko aakihir kya ho gaya hai….itna bada lund ka malik..aur ye haal………………………..chiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii

Isse se to achha hota ki me widow hi rahti…kamse kam to samaj ka dar to nahi hota….wo faisla kiya ki wo subah hi yanha se chali jayegi…………………..aur wo sone ki koshish karne lagi………………………

Subah rajesh jaldi uth gaya aur bina kisi ko bina bataye chala gaya….jab rashmi room me dekhi to paya ki wo apne room me nahi hai……..wo phone lagaya…par phone switchoff tha…table par ek kaagaj ka tukra thaa..jispar likha tha “mujhe khojne ki koshish mat karna” me ab tumhare layank nahi raha….me kisi aurat ke layak nahi raha….rashmi mujhe maaf karna.

Letter padhte hi rashmi jor se chillai…aur bhagi bhagi Raj ke pas aye…wo so raha thaa…..

Rashmi: Bhaiya…me barbad ho gayee…ye naa jaane kaha chale gaye hai…ye dekho…letter….

Raj: ohhhh (ankh malte hue) par tum batayogi bhi ki hua kya?

Rashmi ne kaan me sab kuchh bata diya……………………….

Raj ne situation ko dekhte hue kaha….ghabrane ki koi baat nahi hai….tum smriti ko sambhalo…me abhi dekta hu…wo shirt pehna…aur ghar se nikal gaya…….Raj ke jaane ke baad kamla aur rashmi ne room ki talasi li …uske baad smriti ko uthane lagi………………………………………..
Smriti: didi…me ghar jana chahti hu…..please mujhe jaane do
Kamla: theek hai tum chali jana..par jis kaam ke liye tum aye ho wo to kar lo……meri sister (Doctor. Neha) aaj 10 baje clinic par ayegi…tum ilaj karwa lo…….uske baad kal tumhe ye (Raj) dehradun chod ayenge. Rashmi ne bhi haami bhari…………………………………………phir wo rashmi se pucha…
Kamla: kya tumhare saath bhi aisa ho chukka hai….rajesh ko koi burai to nahi.
Rashmi: haa didi…kai baar hua hai…par me kisi ko batayee nahi…socha shayad jaldibaazi me aisa ho gaya ho…..smriti ko isliye bheja ki taste change hone se wo theek ho jayenge…par ye to ulta pad gaya..didi (smriti) mujhe maaf kar do….tumhari jawani ko me galat haatho me diya hai……sorry for that.
Smriti: kuchh nahi boli…wow aha se chali gayee bathroom me……………………rashmi aur kamla use dekhti rah gayee…..uske jaane ke baad rashmi ne kamla se kaha….didi ek upkar kar do…please nai to ye pagli apni jaan de degi…me janti hu iska gussa……………………..
Kamla: me kya kar sakti hu…bolo?
Rashmi: kis prakar mujh par ehsaan kiya hai…..meri didi par bhi kar do….
Kamla: wo kis tarah
Rashmi: (rashmi ne kaan me boli) meri didi ki life bacha lo……….nahi to wo phir se widow ban jayegi.please bacha lo………….
Kamla: theek hai….tum chaho jaisa chaho kar lo…par ghar ke bahar ye khabar nahi jaani chahiye…warna badnami hogi………………………..
Rashmi: nahi hogi didi…bharosha rakho..me hu na…..thanks aur kamla ko gale laga liya……………
Kamla: darashal….rajesh thoda bhawuk hai…aur phir bachpan se hi ye sex ke prati laparwah hai…hamlogo ne socha ki shaadi ke baad sudhar jayega…par ye to ulta ho gaya……………lekin agar tumhari bahan ka fayda hoga to me ye tyaag karne ko taiyaar hu…par kya ye manenge(jethji)
Rashmi: wo aaap mujhe par chod do….me dekh lungi………………………

007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: प्यास बुझती ही नही

Unread post by 007 » 16 Dec 2014 04:10

प्यास बुझती ही नही-13

दोस्तो मैं यानी आपका दोस्त राज शर्मा इस कहानी का तेरहवाँ पार्ट लेकर हाजिर हूँ अब आगे...................

तभी घर की बेल बजी…..राज अंदर आते ही बोला…..पता नही कहाँ चला गया…कई जगह गया…ऑफीस मे भी फोन किया…कई दोस्तो को भी फोन किया….पर वो कही है ही नही….मे देखता हू …और वो अपने कमरे मे चला गया……………..पीछे -2 कमला भी चली गयी……रश्मि स्मृति के रूम मे चली गयी…………

राज: पर ये कैसे संभव है….ये बात और है कि मे तुम्हारी सिस्टर को चाहता हू…..

रश्मि: अगर आप चाहते है तो फिर दिक्कत क्या है……

राज: पर तुम्हारी सिस्टर सेक्स के लिए कभी तैयार नही होगी…..

रश्मि: वो काम तुम मुझपर छोड़ दो….बस आप उसे जम कर एक बार रगड़ दो…बस….मे ये चाहती हू कि उसे पता चले कि मर्द की ताक़त क्या होती है…..चुदाई क्या होता है…..शादी का असली सुख होता है.. वरना वो निराशा की गहरी खाई मे गिर जाएगी……………………..और अपना फ्यूचर बर्बाद कर लेगी.

राज ने रेश्मि को बाँहो मे ले लिया ….फिर उसके बालो को सहलाते हुए कहा…..डार्लिंग…तुम्हारे लिए तो जान भी दे सकता हू ….ये स्मृति क्या चीज़ है…और फिर पेड़ा खाने मे बुराई भी क्या है….पर हां थोड़ा ज़बरदस्ती भी करनी होगी…क्योकि मुर्गी को हलाल करने के लिए थोड़ा सख्ती करनी पड़ती है….तुम्हे कोई प्राब्लम तो नही?

रश्मि: मुझे यकीन है कि आपको ज़बरदस्ती करने की ज़रूरत नही होगी……..

राज: इतना भरोसा है तुम्हे अपनी सिस्टर पर…(और फिर रश्मि के आख़िरी कपड़े को भी निकाल दिए), रश्मि बिल्कुल नंगी हो गयी….दर्पण मे अपना रूप देखकर वो बुरी तरह शर्मा गयी…..पर उसने अपने आपको नही च्छुपाया….बल्कि दो कदम आगे बढ़कर उसने राज के गले मे बाँहे डाल दी और उसके होंठो पर किस करने लगी……और बोली…

रश्मि: जेठ जी…………अब तो मे आपकी पार्मेनेंट दुल्हन हो गयी हू….चोदो जी भर के और हां मेरी सिस्टर को जब चोदोगे तो मेरे बारे और आपके रिस्ते के बारे मे ज़िक्र मत करना………..उन्हे अच्छा नही लगेगा.

राज ने अपना हाथ रश्मि की चूत पर रखा…चूत काफ़ी गीली हो चुकी थी….और होगी क्यो नही…आज 3 दिन हो गये है चुदे हुए….जब से रमेश घर से गया है….सारा परिवार उसी को ढूँढते ढूँढते पागल हो गया है…….पर राजेश का कोई पता नही चला…………………………राज ने आगे बढ़ कर अपने लंड को रश्मि की चूत पे लगाया और एक ज़ोर का झटका मारा…लंड सीधा रश्मि की चूत मे चला गया…..लंड की मुटाई और लंबाई से रश्मि अवगत तो थी ही…वो अपनी आँखे मुन्दे हुए पलंग के मूठ को दोनो हाथो से पकड़े हुए राज के धक्को का साथ अपनी गांद उठा उठा कर दे रही थी…..जिससे राज का जोश चौगुना हो गया था…..लंड और चूत की चुदाई हो रही थी….ऐसा लग रहा था कि मानो पिस्टन चल रहा हो…..चूत के रस से राज का लंड और आंड-कोष बुरी तरह भीग चुके थे…..

अब राज ने रश्मि को पीठ के बल लिटा दिया और उसके उप्पर चढ़ गया….लंड को गहराई मे डालते हुए धक्के लगाने लगा……राज के मुँह से आहाआहहाा…..आहह की आवाज़े आने लगी……आवाज़ इतनी ज़ोर ज़ोर से हो रही थी कि बगल वाले कमरे मे स्मृति के कानो मे ये आवाज़े आ रही थी…

पर वो किसी दूसरी दुनिया मे खोई हुई थी..उसे एहसास हो रहा था जब पहली बार अपने पति से चुदी थी सुहागरात के दिन….और वो फ्लश-बॅक मे चली गयी……

इधर रश्मि और राज के बीच मधुर चुदाई हो रही थी……………क्या मस्त चुदाई चल रही थी….

राज: तुम काफ़ी एक्षपरट हो गयी हो चुदाई मे…

रश्मि: सब आपका आशीर्वाद है

राज: आहमम्म्म...क्या चूत है तुम्हारी....कब से चोद रहा हू पर झड्ने का नाम ही नही ले रही

रश्मि: जनाब आप भी तो कम नही है.....

राज: अच्छा इस बार मे तुम्हारे पिछे वाली की सवारी करना चाहूँगा....

रश्मि: मतलब?

राज: मतलब तुम्हे पता है....गांद

रश्मि: छ्हीई...मुझे गांद नही देनी...और उसमे ऐसा है क्या जो तुम मर्द पागल हुए होते हो.

राज: क्या राजेश भी................???

रश्मि: जी हां....वो भी हमेशा परेशान करते थे...पर मेने कभी दी नही

राज: अब मेरे बारे मे मेडम का क्या इरादा है...

रश्मि: फिलहाल चूत से ही काम चला लो....देखते है.....बहुत बड़ा है आपका लंड....फट जाएगी....मे बर्दस्त नही कर पाउन्गी...

राज: उसकी चिंता मत करो...मे जेल लगाकर करूँगा....

रश्मि: फिलहाल तो धक्के लगाओ...मे अब झरने वाली हू....

राज: चुदाई करने लगा........रश्मि एक झटके के साथ झार गयी

फिर थोड़ी देर बाद राज भी उसपर ढेर हो गया......दरवाजे के एक कोने से स्मृति सब कुच्छ देख रही थी...पर कुच्छ बोली नही....पर जब राज ने अपना लंड रश्मि की चूत से निकाला...तो वो चिहुनक गयी.....जिसे राज और रश्मि ने सुना और चौंक गये....स्मृति वन्हा से भाग गयी.....रश्मि और राज ठहाका मार कर हस्ने लगे

________________________________________

स्मृति ने वन्हा से भाग कर अपने कमरे मे आ गयी और फिर थोड़ी देर बाद गुसलखाने मे चली गयी…अपनी नाइटी उप्पर कर मूतने लगी..क्योकि उसकी चूत मे पेसाब काफ़ी भर चुका था…वो निकली ही थी पेसाब करने…पर जब राज और रश्मि की आहे और उनकी गरम सांशो की आवाज़ बाहर से सुनी तो वो कान लगाकर सुनने लगी और अंत-तह एक सुराग से देखने लगी….कि तभी दवाजा खुल गया और वो अंदर आ कर एक किनारे मे खड़ी होकर सब कुच्छ देखने लगी….वो भूल गयी थी कि उसे क्या करना था…अपने पेशाब को काबू मे करके सब कुच्छ लाइव टेल्कास्ट देखने लगी थी…………………….

पेसाब करने के बाद स्मृति खड़ी हो गयी और जब टर्न की तो देखा कि राज उसे बहुत गौर से देख रहा है और मुस्कुरा रहा है….स्मृति छेन्प गयी….और अपनी नज़र नीचे किए हुए वन्हा से जाने लगी…तभी राज ने उसके एक हाथ को पकड़ा और उसे अपनी बाँहो मे लेना चाहा…पर स्मृति वन्हा से भाग गयी….राज भी उसके पिछे-पिछे भागा…… स्मृति रूम मे जैसे ही आई दरवाजा बंद करना चाहा पर वो बंद नही कर सकी….राज ने दरवाजे को एक ही धक्के मे खोल दिया और आते ही स्मृति को अपनी बाँहो मे ले लिया और उसके होंठो की किस करने लगा…..स्मृति इसके लिए बिल्कुल तैयार नही थी…उसने हल्का विरोध किया और फिर उसे धक्का दे कर दूर किया…

स्मृति: ये…मिस्टर…मुझे ये बिल्कुल पसंद नही है

राज : डार्लिंग…क्या हुआ…मे तो बस वही कर रहा था जो तुम चाह रही थी…

स्मृति: शट-अप……माइंड युवर लॅंग्वेज…..छोड़ो और आप यान्हा से चले जाओ….

राज ने आगे बढ़ कर एक बार और उसे बाँहो मे भरना चाहा…पर स्मृति ने एक ज़ोर का तमाचा उसके मुँह पर मार दिया….राज तिलमिला उठा…क्योकि तमाचा इतना ज़ोर का था कि वो काँप गया…..अब राज के चेहरे पर खून सवार हो गया…वो आगे बढ़ा और उसे अपनी बाँहो मे ले लिया एक हाथ से उसके होंठो को दबाया और दूसरे हाथ से उसकी चुचियो को…और फिर बेड पर पटक दिया….गाउन उप्पर आ चुका था…..राज नंगा था ही…………उसने अपने होंठ स्मृति के होंठों पर रख दिए ….स्मृति….आहमम्म्म करने लगी…छुड़ाने की बहुत कोसिस की….यान्हा तक कि वो अपनी जंघे भी पटाकने लगी…पर राज की गिरफ़्त से अपने आपको बचा नही सकी….उसके आँखो से आँसू आ गये…..पर राज उसे चूमे-चाते जा रहा था…उसके भावनाओ से बेपरवाह…………………..

राज ने अब देखा कि स्मृति काफ़ी हाफ़ रही है तो राज ने उसके होंठो को छोड़ दिया और उसे पीठ के बल लिटा दिया…और फिर अपना लंड स्मृति के आँखो के उप्पर लहराने लगा….स्मृति ने अपनी आँखे बंद कर ली…पर उसकी नाक मे लंड की स्मेल जा रही थी...जो कि काफ़ी अच्छी लग रही थी स्मृति को….इससे एक प्रतिक्रिया ज़रूर हुई कि अब स्मृति के मुँह से कोई आवाज़े नही निकल रही थी…वो सिर्फ़ अपनी आँखे बंद किए हुए थी….और दोनो हाथ पीछे…वो चाहती तो राज के सिर के बाल नोच सकती थी…पर उसने ऐसा नही किया…जिससे कि राज को हौसला बढ़ गया…वो आगे बढ़ गया….राज ने सोचा…अभी नही तो कभी नही…………………………….

राज: देख मेरी जान अगर तुम ज़्यादा नखरे करोगी तो मे तुम्हारी चूत को फाड़ के रख दूँगा…देख रही हो कितना बड़ा है…….और तुम मुझेकुच्छ भी नही कर सकती…और अगर तुम मान गयी तो तुम ऐश करेगी…………………….सोच लो

स्मृति: की आँखो से आंशु रुकने का नाम ही नही ले रहे थे…वो विनती भरी आवाज़ मे बोली….मुझे छोड़ दो….जाने दो…………मुझे बर्बाद मत करो………………

राज: फिर तुम नखरे कर रही. हो…तुम ऐसे नही मनोगी……….और राज ने उसके गाउन को उलट दिया …और चढ्ढि को भी अलग कर दिया……………..वाह….क्या चूत है…एक दम शेव्ड…ऐसा लगता है कि सुबह ही शेव्ड की थी…..स्मृति ने………..अरे मेरी जान जब तुम राजेश से चुद सकती हो तो मुझसे क्यो नही…और वैसे भी राजेश से चुदके क्या मिला???? वो तो तुम्हे टेलर दिखा कर भाग गया….पूरी फिल्म मे दिखाऊंगा…..अगर तुम मान जाओ तो……………और तुम ये भी जानती हो तुम्हारी छ्होटी बहन रश्मि भी मेरी बीबी बन चुकी है….अब बारी तुम्हारी है………..बोलो क्या कहती हो?

स्मरती अपनी नज़रे नीचे किए हुए सिसक रही थी….और राज के हाथ और होंठ उसके पूरे बदन को रगड़ रहे थे………………स्मृति के पूरे सरीर मे कंपन हो रही थी…………….राज ने देर करना उचित नही समझा.....वैसे उसे भी अच्छा नही लग रहा था...पर वो करता क्या ना करता.....आगे बढ़ते हुए अपने लंड को उसकी चूत पे लगाया और एक ज़ोर का झटका मार दिया...लंड सीधे उसकी चूत मे चली गयी....क्योकि रश्मि और राज की चुदाई काफ़ी देर से देख रही थी....सो वो काफ़ी हॉट हो गयी थी......लंड आधे से ज़्यादा चला गया था...राज को कोई मस्सककत नही करनी पड़ी...पर उसे मज़ा आ रहा था...उधेर स्मृति भी अब काफ़ी नॉर्मल हो गयी थी...वो सोच लिया कि अब अगर चुदना ही है तो क्यो ना मज़ा लिया जे...पर उसके होंठ काम नही कर रहे थे.....उसने खामोस रहना ही उचित समझा.....उसकी खामोसी को हां समझते हुए राज आगे का मॅच खेलने लगा.......

007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: प्यास बुझती ही नही

Unread post by 007 » 16 Dec 2014 04:12

राज ने अपने धक्को की रफ़्तार को बढ़ा दिया स्मृति के मुँह से ना चाहते हुए भी सिसकारियाँ निकलने लगी प्यासी तो वो पहले से ही थी क्योकि राजेश ने उसे प्यासी छोड़ दिया था

काफ़ी झटके खाने के बाद दोनो स्खलित हो गये....स्मृति पसीने पसीने हो गयी..थी राज भी पसीने से लत-पथ हो गया था....पर दोनो काफ़ी सटिसफेड थे...स्मृति के चेहरे पर एक सुकून था....वही राज के चेहरे पर एक शरारत......वो उसकी आँखो मे झाँककर बोला...

राज:मेडम, अब बताओ...कैसी लगी..

स्मृति: सिर्फ़ शरमाते हुए...धत्टत्त..........आप बहुत बदमाश है...मुझे कही का नही छोड़ा...अब मे क्या करू.........मे तो बर्बाद हो गयी

राज: बर्बाद हो गयी या आबाद

स्मृति: मुस्कुराते हुए...आप एक न. के बहन-चोद हो...अपनी बहन को चोद्ते हो..और अपनी छ्होटी बहू को भी

राज: तो फिर इसमे बुरा क्या है.?? मे जो कुच्छ भी करता हू पार्ट्नर की रज़ामंदी से...ये फर्स्ट टाइम है कि मुझे सख्ती करनी पड़ी.....मे चाहता नही था...पर कोई चारा भी तो नही था...क्योकि तुम इतनी आसानी से मेरे लंड के नीचे आ नही सकती.................आइ आम सो सॉरी

स्मृति: अब सॉरी बोलने से क्या फ़ायदा...अब तो मे लुट चुकी हू..........

थोड़ी देर एक दूसरे को सहलाने के बाद....राज ने स्मृति खींच कर अपनी बाँहो मे ले लिया....और उसके होंठो को चूमने लगा.....

स्मृति: अब तो छोड़ो.....सुबह के 4 बज रहे है...

राज: एक बार और....

स्मृति: नही...अब तक 3 बार हो चुका है...और फिर मे भी थक चुकी हू

राज: पर मे एक बार और लेना चाहता हू.

स्मरती: प्लीज़ ट्राइ टू अंडरस्टॅंड....मेरी योनि मे दर्द हो रहा है...

राज: वो ठीक हो जाएगा....कई साल से न्ही चुदाई हो ना इसलिए ऐसा हो रहा है...इसका इलाज़ चुदाई ही है.....इस बार चोद्ने दो...देखना दर्द ठीक हो जेएगा.

स्मरती: तुम्हे कैसे पता?

राज: बस पता है....मेने अपने जीवन मे कई लड़कियो..औरतो को चोदा है...एक्षपीरियंस है.भाई.....

स्मृति: ह्म्‍म्म्म तुम काफ़ी चोदु इंसान हो....

राज: वो तो मे हू ही....पर तुम भी कम नही हो....जिस तरह पहले नखरे कर रही थी...और फिर सेक्स के लिए साथ दे रही थी....उससे यही अंदाज़ा लगाया जा सकता है..............

स्मृति: वो तो एग्ज़ाइट्मेंट थी......वैसे राजेश से भी ऐसा हुआ था...पर उनके केस मे वो बाजी हर गये थे...और आप जीत गये.....ऐसा क्यू????

राज: वैसे इसलिए है...कि मेडान मे उतरने से पहले काफ़ी तैयारी कर लेनी चाहिए......अपने एमशन को कंट्रोल मे रखना चाहिए....और ज़्यादा वक़्त ओरल सेक्स और सेडक्षन मे लगाना चाहिए...ना कि फिज़िकल टच....मे...

स्मृति;ह्म्‍म्म्म आप तो सेक्स के देवता हो...

राज: और तुम मेनका....मे अब तुमसे प्यार करने लगा हू..और उसपर चढ़ गया..अपना लंड उसकी चूत पर लगाया और इसबार ज़ोर ज़ोर से चोद्ने लगा.....स्मृति भी काफ़ी हेल्प करने लगी....और करीब 30 मीं की चुदाई के बाद दोनो एक बार और झार गये........झरने के बाद दोनो एक दूसरे पर ढेर हो गये...और सुबह के 8 बजे तक दोनो सोते रहे.........................................................................

सुबह 8 आम रश्मि ने चाय लेकर कमरे मे आई....उस समय स्मृति और राज दोनो एक दूसरे की बाँहो मे नंग-धरन्ग सो रहे थे.....सुरू मे तो रश्मि ठितकी...उसे लगा कि अभी नही जाना चाहिए...पर उसने कुच्छ सोचते हुए वो बेड के पास टेबल पर चाय का ट्रे रख दिया...और फिर स्मृति और राज को उठाने लगी.....राज उठ गया...पर स्मृति नही उठी....वो शायद गहरी नींद मे जो थी.

रश्मि ने एक स्माइल देते हुए कहा....कनग्रॅट्स..........राज ने थॅंक्स कहा और धीरे से उठने की कोशिश की....ताकि स्मृति नही उठ सके...उसकी गांद तक चादर डाल दी....पर चुचिया नंगी ही थी.....उसे ढँकने की कोसिस राज ने नही की...और फिर वो बेड से बाहर बिल्कुल नंगा आ गया....लंड अभी भी लोहे की रोड लग रहा था...राज ने आगे बढ़ कर रश्मि को गले लगा लिया...और उसके होंठो को चूमने लगा.....

रश्मि: हटो...ये क्या कर रहे हो....जाओ फ्रेश हो लो....फिर चाय पी लेना...मे जा रही हुउऊउ...जैसे ही टर्न की राज ने उसे अपनी गोद मे उठा लिया और वही बेड पर पटक दिया और उसके उपर चढ़ गया.....स्मृति उठ गयी....उसने देखा कि रश्मि रूम मे आ चुकी थी....और राज उसके उपर चढ़ा हुआ है....वो शरमाते हुए वन्हा से बाथरूम भाग गयी....

रश्मि: ये क्या करते हो...छोड़ो मुझे...दीदी क्या सोचेगी..

राज: अरे मेरी जान कुच्छ नही सोचेगी...देखा नही कितनी खुस दिख रही है...अब वो मेरे लंड की रानी बन गयी है....ज़्यादा मत सोचो...अब तो वो चाह करकेभी इस रूम से नही जा सकती.....

रश्मि: यही तो मे चाहती थी...कि आप उसे पूरा मर्दाना सुख दो...ताकि वो समझे कि जीवन जीने के लिए है...यू किसी के लिए खराब करने के लिए नही....जाने वाले चले गये...उसे याद करके क्या फयडा.....................

राज: ह्म शायद तुम ठीक कह रही हो...पर मुझसे एक पाप हो गया है..

रश्मि: कैसा पाप....??

माएःस;मेने उसके साथ जानवरो जैसा बीहेव किया है....क्या सोचेगी?

रश्मि: कुच्छ नही सोचेगी.....जब कोई मर्द ...औरत के साथ जानवरो जैसी चुदाई करता है...तो औरत को मज़ा आता है.....और जब मज़ा आता है तो वो सारे गिले सीकवे भूल जाती है............दीदी के साथ भी कुच्छ ऐसा ही हुआ है....तभी वो आपके साथ सुबह तक 4 बार चुदाई है....वरना कोई एक बार भी चोद्ने ना देती.

राज: ये तो तुम ठीक कह रही हो....

रश्मि: अब आप उठेंगे...मे नहा चुकी हू....

राज: नही...मुझे चोद्ना है?

रश्मि: अरे बाबा...सुबह के 9 बज चुके है...नाश्ता बनाना है...दोपहर मे कर लेना.....अब उठ जाओ मेरी जान.

राज: ह्म्‍म्म्म एक किस दे दो...तब

रश्मि: ये लो...ऊऊऊऊऊऊऊओंम्म्मममम और वो उठ कर वन्हा से भाग गयी....तब तक रूम मे स्मृति भी आ गयी..............वो राज से नज़रे नही मिला पा रही थी...उसने गुम-सुम चाय का प्याला लिया और पीने लगी....

राज: कैसा लगा????

स्मृति: क्या?

राज: चाय?

स्मृति: ठीक है

राज: और मेरा वो?

स्मृति: वो?? मतलब???

राज: मतलब....लंड

स्मृति: हमम्म्ममम नाइस....और वो शर्मा कर भाग गयी.....राज ठहाका मार कर हस्ने लगा............

चाय पीकर राज बाथरूम मे चला गया....फिर फ्रेश हो कर नीचे डिन्निंग टेबल पर बैठ गया...जहा घर के सारे सदस्य बैठे थी..और उनका इंतेज़ार कर रहे थे.

कमला: सुनो जी...मैं 2-3 दिन के लिए गाज़ियाबाद जाना चाहती हू..नेहा ने बुलाया है....बोल रही थी कि उसकी कमर मे दर्द है...और ब्लीडिंग भी हो रही है.

राज:अरे ......वो डॉक्टर है...तुम वन्हा जाकर क्या करोगी.

कमला: हेल्प के लिए बुलाया है.

राज: कैसी हेल्प?

कमला: उसके घर मे कोई नही है....उसका पति देल्ही से बाहर गया हुआ है....अकेली घर मे रहती है........

राज: ह्म्‍म्म्मम......ठीक है चलो...मे भी मिल लूँगा.....साली साहिबा कई दिन से क्लिनिक नही आ रही है...क्या बात है...मे सोच रहा था कि कही घूमने गये होंगे....नयी नयी शादी है....हनिमून ..या और कही......अच्छा भाई मे चलता हू...जाते वक़्त चलेंगे....तुम तैयार रहना....और वो वन्हा से चला गया.

रश्मि और स्मृति भी अपने कमरे मे आ गयी.....

क्रमशः..........................