एक अनोखा बंधन compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit batutomania-spb.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: एक अनोखा बंधन

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 08:01

Ek Anokha Bandhan--6

gataank se aage.....................

Aditya ko ek baar bhi ye khyaal nahi aaya ki zarina shaayad hotel gayi ho. Kyonki vo pura din aur puri raat wait karta raha tha zarina ka ishliye shaayad ushe ye khyaal hi nahi aaya.

Ab vo kishi ka darvaaja khadka kar puche bhi to kya puche. Kya ye puche ki zarina ki mausi ka ghar kaha hai. Zarina ki mausi ka naam pata hota to shaayad baat ban jaati. Aur ye bhi pata nahi tha ki ushke saath bartaav kya hoga agar zarina ki mausi ka ghar mil bhi gaya to.

“bas samajh le aditya ushe teri koyi kadar nahi hai. Ye pyar khatam ho chuka hai. Kuch nahi bacha ab.” Aditya ne socha.

Aditya bhaari man se gali se baahar ki aur chal diya.

durbhaagya ki baat ye thi ki idhar aditya gali se nikal raha tha aur udhar gali ke dusri taraf se zarina aa rahi thi auto mein baith kar. Dono ek dusre ko dhund rahe the lekin na jaane kyon mulaakaat nahi ho paayi.

Aditya ne gali se baahar aakar auto pakda. Idhar aditya auto mein baitha, udhar zarina auto se utar kar mausi ke ghar mein vaapis aa gayi.

“main hi bevkoof thi jo nikal padi subah subah ushke liye jo mujhe chod kar ja chuka hai. Itna bedardi niklega ye aditya maine socha nahi tha. ye pyar meri jeendagi ki sabse badi galti hai.” Zarina sochte huve chal rahi thi.

“zarina beta kaha gayi thi tu itni subah savere hamein to chinta ho rahi thi.” zarina ki mausi ne kaha.

“kahi nahi mausi yahi paas mein hi gayi thi.”

“beta kuch to baat jaroor hai jo tu cheepa rahi hai.”

“kuch nahi hai mausi aapko vaham ho raha hai.”

“jab tera man ho bata dena beta, mujhe to teri bahut chinta ho rahi hai. Chal kuch kha le.”

Khaane ka man to ab bhi nahi tha zarina ka lekin phir bhi mausi ka dil rakhne ke liye ushne kuch khaa liya.

Aditya seedha railway station pahuncha aur kishi tarah se gujrat ki train ki ticket ka intezaam kiya. Ushe raat ki train ki ticket mili kishi tarah se jugaad karke. Bahut bechain ho raha tha delhi chodne ke khyaal se. vaha ushki zarina jo thi. Par ushe lag raha tha ki pyar vyar khatam ho chuka hai aur ab vaapis chalne mein hi bhalaayi hai. Jab train platform par pahunchi to vo bade bhaari man se train mein chadha.

Ush vakt zarina apne haath ki lakiro ko dekh rahi thi. “shaayad kishmat mein tumhaara saath nahi likha tha aditya. Ya phir shaayad saath likha tha par hum nibha nahi paaye. Jo bhi ho tum mujhe yu chod kar chale jaaoge maine socha nahi tha. I hate you.” Aur zarina ki aankhe phir se bahne lagi.

Aditya pahunch to gaya ghar vaapis gujrat. Lekin ghar ki taraf jaate vakt ushke paanv hi nahi badh rahe the aage. Vo jaanta tha ki zarina ke bina ush ghar mein rahna kitna mushkil hoga ushke liye. Jab vo ghar mein ghussa to vo manjar ushki aankho mein ghum gaya jab vo zarina ko saath lekar ghar se nikal raha tha railway station ke liye.

Aditya ne beg ek taraf patka aur sofe par gir gaya. Vakt jaise tham sa gaya tha aur jeevan ki khusiya jaise saath chod gayi thi. Duniya hi ujad gayi thi aditya ki.

Yahi haal kuch zarina ka tha. zarina bhi ush vakt apne room mein bistar par padi thi. Ushka bhi aisa hi haal tha jaise ki sab kuch ujad gaya ho ushka.

Jab mausi kamre mein ghussi to vo fauran uth kar baith gayi. “mausi aap…salam alekum.”

“salam alekum beta, kuch to bata sab khaireeyat to hai. Tum to hamse kuch bol hi nahi rahi ho. Jab se aayi ho kamre mein padi rahti ho bas.”

Ab zarina bataaye bhi to kaise. Ushki takleef ka kaaran aditya ka pyar tha aur ush pyar ko koyi nahi samajh sakta tha. mausi ko taalne ke liye ushne kaha, “kaaran to aap jaanti hi hain mausi. Sab kuch kho diya hai maine.”

“allah raham karey meri bachi par. Bahut kuch saha hai tumne zarina. Tumhe zeenda dekh kar jo khusi hamein mili thi vo hum lafzo mein bayaan nahi kar sakte. Ab yahi duva hai ki allah ka fazal ho tum par.”

“allah shaayad hum se rooth gayein hain mausi. Sab kuch beekhar gaya hai.” Zarina ne kaha.

Mausi zarina ko gale laga leti hai. “Vakt karvat lega beti. Vakt hamesa ek sa nahi rahta…aao thoda baahar ghum phir lo. Band kamre mein ghutan ho jaati hai baithe baithe.”

“theek hai mausi aap chaliye main aati hun.” Zarina ne kaha.

Bahut koshis ki zarina ne aditya ko bhulaane ki aur ushe apni yaadon se hataane ki. Lekin jab koyi dil mein bas jaata hai ushe itni asaani se nikaala nahi ja sakta.

Koshis aditya bhi kar raha tha zarina ko bhulaane ki. Lekin ghar ke har kone mein zarina ki yaadein basi thi. Vo ghar mein jaha bhi dekhta ushe zarina ka hi ahsaas rahta. Har kone mein bas zarina hi basi thi jaise. Aur na chaahte huve bhi ushki aankhe nam ho jaati thi.

Bhulaane ki koshis mein ek hafta beet gaya lekin kuch faayda huva nahi. pyar ki tadap, kasak aur meethi se bechaini har vakt barkaraar thi. Dheere dheere vo dono hi ye baat samajhne lage the ki vo dono pyar ke anokhe bandhan mein bandh chuke hain jishe vo chaah kar bhi nahi taud sakte. Unki har koshis bekaar jo ho rahi thi.

Aur phir ek aisi tadap uthi pyar ki jishne unke pyar ko aur jyada mahka diya. Ek raat aisi aayi jishmein dono kaagaz aur kalam lekar baith gaye aur kuch likhne ki thaan li. Zarina ko to aditya ka address pata hi tha. aditya ne bhi ghum phir kar kishi tarah zarina ki mausi ka address dhund hi liya. Do cheethiya leekhi ja rahi thi raat ke vakt ek saath. Delhi mein zarina likh rahi thi aur gujrat mein aditya likh raha tha. haan thoda vakt ka anter tha. zarina raat ke 12 baje likhne baithi thi aur aditya raat ke 2 baje likhne baitha tha.

Agle din chupke se dono ne apni apni cheethiya post kar di. Pahunchne mein 4 din lag gaye. Dono becahain the apni cheethi ka jawaab paane ki liye. Lekin unhe nahi pata tha ki dono ne ek saath cheethi likhi hai aur dono jald hi ek dusre ki cheethi padhne wale hain.

Pahle aditya ko cheethi mili zarina ki. Ghar mein baitha tha chupchaap muh latkaaye huve jab daakiye ne bell bajaayi ghar ki.

“aditya pandey aap hi ka naam hai.” Daakiye ne pucha.

“ji haan bilkul.” Aditya ne kaha.

“yaha sign kar dijiye, speed post aayi hai aapke naam.”

Aditya ne sigh kiye aur daakiye ne cheethi aditya ko pakda di. Jab aditya ne cheethi ke peeche bhejne wale ka naam dekha to aankho mein vo ronak aa gayi ushke ki vo jor se cheellaya “zarina!”

Daakiye ke bhi kaan phat gaye. Vo sar hilaata huva chala gaya.

Aditya ne fauran cheethi ko leefaafe se nikaala aur sofe par baith kar padhne laga. Cheethi ish parakaar thi :-

“mere pyare aditya,

Tum chale gaye jara si baat par mujhe chod kar. Kyon kiya aisa tumne. Kish haal mein hun main yaha kya tumhe khabar bhi hai. Koyi din aisa nahi jaata jab tumhaare liye aansu nahi bahaati. Har pal tumhaare liye tadapti rahti hun. Tum to shaayad mujhe bhool gaye honge. Main tumhaare liye paapi jo hun. Tumne ek moka bhi nahi diya mujhe kuch kahne ka aur chale gaye. Dil par kya beeti hai kah nahi sakti. Ye cheethi tumhe likh rahi hun kyonki apne dil ke haatho majboor ho gayi hun. Ush din ladaayi ke baad main bhi fauran khana khaaye bina baahar aa gayi thi. Bahut dhunda tumhe par tum to ja chuke the. Kya yahi pyar tha tumhaara. Main kya karti, mausi ke ghar aana pada mujhe. Agle din bhi main subah subah jaise-taise auto lekar hotel pahunchi. Lekin tum vaha se bhi nikal gaye check out karke. Mera intezaar bhi nahi kiya tumne. Khun ke aansu royi hun main tum samajh nahi sakte. Badi mushkil se vaapis aayi thi mausi ke ghar. Man to kar raha tha ki mar jaaun kahi jaakar par ish ummeed mein vaapis aa gayi ki kya pata tum mil jaao kahi. Tumhe to deekhaayi thi mausi ki gali maine. Agar pyar karte mujhse to mujhe dhund hi lete. Par nahi tumhe to mujhe chod kar bhaagne ki padi thi. Chale gaye chupchaap mujhe chod kar, socha bhi nahi ki kaise jeeungi main tumhaare bina.

Aur haan maine non-veg khana chod diya hai bilkul. Aage se kabhi dekhungi bhi nahi non-veg ko, khaane ki to dur ki baat hai. Mujhe ahsaas ho gaya hai ki tum theek the. Ped-podhon aur jeev jantuo mein kuch to farak rahta hi hai. Chicken mein jeevan jyada hai ek hari sabji ke mukaable. Main ye baat samajh gayi khud hi. Tumne to bahut bure tarike se samjhaane ki koshis ki thi. Mujhe araam se kahte to main khusi khusi tumhaare liye kuch bhi chod deti. Non-veg to bahut choti cheez hai aditya.

Ab ye bataao ki apni zarina ko kab le jaaoge yaha se. main khud aa jaati par akele safar karte huve dar lagta hai mujhe. Kabhi akele gayi nahi kahi. Bahut ghabraati hun main train mein. Agar nahi aaoge to mujhe aana to padega hi. Dil ke haatho majboor jo hun. in dino mein yahi jaana hai aditya ki bahut pyar karti hun main tumhe aur tumhaare bina nahi ji sakti. Aa jaao aditya main aankhe beechaaye tumhaara intezaar kar rahi hun. Le jaao apni zarina ko apne saath aur jaise ji chaahe vaise rakho.

Tumhaari zarina.”

Aditya ki haalat bahut nzaauk ho gayi padhte-padhte. Aansu tapak rahe the zarina ke ek-ek bol par. Baar baar padha ushne ek ek line ko. Dil mein pyar ki meethi meethi chubhan ho rahi thi. Kuch bol hi nahi pa raha tha aditya, likha hi kuch aisa tha zarina ne. ushne vo cheethi sheene se laga li aur sofe par late gaya.

Zarina ko aditya ki cheethi agle din mili. Vo to shoyi thi kamre mein jab mausi ne awaaj di.

“zarina beta tumhaara khatt aaya hai.”

Zarina ye shunte hi bistar se uth gayi. “mere liye khatt kaun bhej sakta hai. Kahi aditya ne to nahi bheja. Par ushe to yaha ka address bhi nahi pata hoga.”

Zarina turant bhaag kar baahar aayi. Ushne sign karke cheethi le li. Peeche aditya ka naam tha. vo to jhum uthi khusi ke maare. Par mausi ke kaaran apni khusi ko daba liya kishi tarah.

“kishka khatt hai beta.” Mausi ne pucha.

“hai ek saheli ka mausi main araam se room mein baith kar padhungi.”

“theek hai padh le. Pahli baar teri aankho mein chamak dekh rahi hun. Shaayad ye khatt kuch shukun dega tujhe. Ja padhle apni saheli ka khatt araam se.”

“shukriya mausi.” Zarina fauran room mein vaapis aa gayi. Room mein aate hi ushne kundi band kar li. Ushka dil bahut jor se dhadak raha tha. khusi hi kuch aisi thi fiza mein. Bahut furti se ushne leefafa khola aur cheethi nikaal kar bistar par baith gayi. Aditya ki cheethi kuch ish parkaar thi.

kramashah...............................

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: एक अनोखा बंधन

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 08:03

एक अनोखा बंधन--6

गतान्क से आगे.....................

आदित्य को एक बार भी ये ख्याल नही आया की ज़रीना शायद होटेल गयी हो. क्योंकि वो पूरा दिन और पूरी रात वेट करता रहा था ज़रीना का इश्लीए शायद उसे ये ख्याल ही नही आया.

अब वो किसी का दरवाजा खड़का कर पूछे भी तो क्या पूछे. क्या ये पूछे कि ज़रीना की मौसी का घर कहा है. ज़रीना की मौसी का नाम पता होता तो शायद बात बन जाती. और ये भी पता नही था कि उसके साथ बर्ताव क्या होगा अगर ज़रीना की मौसी का घर मिल भी गया तो.

“बस समझ ले अदित्य उसे तेरी कोई कदर नही है. ये प्यार ख़तम हो चुका है. कुछ नही बचा अब.” आदित्य ने सोचा.

आदित्य भारी मन से गली से बाहर की ओर चल दिया.

दुर्भाग्य की बात ये थी कि इधर अदित्य गली से निकल रहा था और उधर गली के दूसरी तरफ से ज़रीना आ रही थी ऑटो में बैठ कर. दोनो एक दूसरे को ढूंड रहे थे लेकिन ना जाने क्यों मुलाकात नही हो पाई.

आदित्य ने गली से बाहर आकर ऑटो पकड़ा. इधर अदित्य ऑटो में बैठा, उधर ज़रीना ऑटो से उतर कर मौसी के घर में वापिस आ गयी.

“मैं ही बेवकूफ़ थी जो निकल पड़ी सुबह सुबह उसके लिए जो मुझे छोड़ कर जा चुका है. इतना बेदर्दी निकलेगा ये अदित्य मैने सोचा नही था. ये प्यार मेरी जींदगी की सबसे बड़ी ग़लती है.” ज़रीना सोचते हुवे चल रही थी.

“ज़रीना बेटा कहा गयी थी तू इतनी सुबह सवेरे हमें तो चिंता हो रही थी.” ज़रीना की मौसी ने कहा.

“कही नही मौसी यही पास में ही गयी थी.”

“बेटा कुछ तो बात ज़रूर है जो तू छिपा रही है.”

“कुछ नही है मौसी आपको वेहम हो रहा है.”

“जब तेरा मन हो बता देना बेटा, मुझे तो तेरी बहुत चिंता हो रही है. चल कुछ खा ले.”

खाने का मन तो अब भी नही था ज़रीना का लेकिन फिर भी मौसी का दिल रखने के लिए उसने कुछ खा लिया.

आदित्य सीधा रेलवे स्टेशन पहुँचा और किसी तरह से गुजरात की ट्रेन की टिकेट का इंटेज़ाम किया. उसे रात की ट्रेन की टिकेट मिली किसी तरह से जुगाड़ करके. बहुत बेचैन हो रहा था देल्ही छोड़ने के ख्याल से. वाहा उसकी ज़रीना जो थी. पर उसे लग रहा था कि प्यार व्यार ख़तम हो चुका है और अब वापिस चलने में ही भलाई है. जब ट्रेन प्लॅटफॉर्म पर पहुँची तो वो बड़े भारी मन से ट्रेन में चढ़ा.

उस वक्त ज़रीना अपने हाथ की लकीरो को देख रही थी. “शायद किश्मत में तुम्हारा साथ नही लिखा था अदित्य. या फिर शायद साथ लिखा था पर हम निभा नही पाए. जो भी हो तुम मुझे यू छोड़ कर चले जाओगे मैने सोचा नही था. आइ हेट यू.” और ज़रीना की आँखे फिर से बहने लगी.

आदित्य पहुँच तो गया घर वापिस गुजरात. लेकिन घर की तरफ जाते वक्त उसके पाँव ही नही बढ़ रहे थे आगे. वो जानता था कि ज़रीना के बिना उस घर में रहना कितना मुश्किल होगा उसके लिए. जब वो घर में घुसा तो वो मंज़र उसकी आँखो में घूम गया जब वो ज़रीना को साथ लेकर घर से निकल रहा था रेलवे स्टेशन के लिए.

आदित्य ने बेग एक तरफ पटका और सोफे पर गिर गया. वक्त जैसे थम सा गया था और जीवन की खुशियाँ जैसे साथ छोड़ गयी थी. दुनिया ही उजड़ गयी थी अदित्य की.

यही हाल कुछ ज़रीना का था. ज़रीना भी उस वक्त अपने रूम में बिस्तर पर पड़ी थी. उसका भी ऐसा ही हाल था जैसे कि सब कुछ उजड़ गया हो उसका.

जब मौसी कमरे में घुसी तो वो फ़ौरन उठ कर बैठ गयी. “मौसी आप…सलाम आलेकम.”

“सलाम आलेकम बेटा, कुछ तो बता सब खैरीयत तो है. तुम तो हमसे कुछ बोल ही नही रही हो. जब से आई हो कमरे में पड़ी रहती हो बस.”

अब ज़रीना बताए भी तो कैसे. उसकी तकलीफ़ का कारण अदित्य का प्यार था और उस प्यार को कोई नही समझ सकता था. मौसी को टालने के लिए उसने कहा, “कारण तो आप जानती ही हैं मौसी. सब कुछ खो दिया है मैने.”

“अल्लाह रहम करे मेरी बच्ची पर. बहुत कुछ सहा है तुमने ज़रीना. तुम्हे ज़ींदा देख कर जो ख़ुसी हमें मिली थी वो हम लफ़ज़ो में बयान नही कर सकते. अब यही दुवा है कि अल्लाह का फ़ज़ल हो तुम पर.”

“अल्लाह शायद हम से रूठ गये हैं मौसी. सब कुछ बीखर गया है.” ज़रीना ने कहा.

मौसी ज़रीना को गले लगा लेती है. “वक्त करवट लेगा बेटी. वक्त हमेसा एक सा नही रहता…आओ थोड़ा बाहर घूम फिर लो. बंद कमरे में घुटन हो जाती है बैठे बैठे.”

“ठीक है मौसी आप चलिए मैं आती हूँ.” ज़रीना ने कहा.

बहुत कोशिस की ज़रीना ने अदित्य को भुलाने की और उसे अपनी यादों से हटाने की. लेकिन जब कोई दिल में बस जाता है उसे इतनी आसानी से निकाला नही जा सकता.

कोशिस आदित्य भी कर रहा था ज़रीना को भुलाने की. लेकिन घर के हर कोने में ज़रीना की यादें बसी थी. वो घर में जहा भी देखता उसे ज़रीना का ही अहसास रहता. हर कोने में बस ज़रीना ही बसी थी जैसे. और ना चाहते हुवे भी उसकी आँखे नम हो जाती थी.

भुलाने की कोशिस में एक हफ़्ता बीत गया लेकिन कुछ फ़ायडा हुवा नही. प्यार की तड़प, कसक और मीठी सी बेचैनी हर वक्त बरकरार थी. धीरे धीरे वो दोनो ही ये बात समझने लगे थे कि वो दोनो प्यार के अनोखे बंधन में बँध चुके हैं जिसे वो चाह कर भी नही तौड सकते. उनकी हर कोशिस बेकार जो हो रही थी.

और फिर एक ऐसी तड़प उठी प्यार की जिसने उनके प्यार को और ज़्यादा महका दिया. एक रात ऐसी आई जिसमे दोनो काग़ज़ और कलाम लेकर बैठ गये और कुछ लिखने की ठान ली. ज़रीना को तो अदित्य का अड्रेस पता ही था. अदित्य ने भी घूम फिर कर किसी तरह ज़रीना की मौसी का अड्रेस ढूंड ही लिया. दो चिट्ठियाँ लीखी जा रही थी रात के वक्त एक साथ. देल्ही में ज़रीना लिख रही थी और गुजरात में आदित्य लिख रहा था. हां थोड़ा वक्त का अंतर था. ज़रीना रात के 12 बजे लिखने बैठी थी और अदित्य रात के 2 बजे लिखने बैठा था.

अगले दिन चुपके से दोनो ने अपनी अपनी चत्तियाँ पोस्ट कर दी. पहुँचने में 4 दिन लग गये. दोनो बेचैन थे अपनी चिट्ठी का जवाब पाने की लिए. लेकिन उन्हे नही पता था कि दोनो ने एक साथ चिट्ठी लिखी है और दोनो जल्द ही एक दूसरे की चिट्ठी पढ़ने वाले हैं.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: एक अनोखा बंधन

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 08:04

पहले आदित्य को चिट्ठी मिली ज़रीना की. घर में बैठा था चुपचाप मूह लटकाए हुवे जब डाकिये ने बेल बजाई घर की.

“आदित्य पांडे आप ही का नाम है.” डाकिये ने पूछा.

“जी हां बिल्कुल.” आदित्य ने कहा.

“यहा साइन कर दीजिए, स्पीड पोस्ट आई है आपके नाम.”

आदित्य ने साइन किए और डाकिये ने चिट्ठी अदित्य को पकड़ा दी. जब अदित्य ने चिट्ठी के पीछे भेजने वाले का नाम देखा तो आँखो में वो रोनक आ गयी उसके की वो ज़ोर से चिल्लाया “ज़रीना!”

डाकिये के भी कान फॅट गये. वो सर हिलाता हुवा चला गया.

आदित्य ने फ़ौरन चिट्ठी को लीफाफ़े से निकाला और सोफे पर बैठ कर पढ़ने लगा. चिट्ठी इस प्रकार थी :-

“मेरे प्यारे आदित्य,

तुम चले गये ज़रा सी बात पर मुझे छोड़ कर. क्यों किया ऐसा तुमने. किस हाल में हूँ मैं यहा क्या तुम्हे खबर भी है. कोई दिन ऐसा नही जाता जब तुम्हारे लिए आँसू नही बहाती. हर पल तुम्हारे लिए तड़पति रहती हूँ. तुम तो शायद मुझे भूल गये होंगे. मैं तुम्हारे लिए पापी जो हूँ. तुमने एक मोका भी नही दिया मुझे कुछ कहने का और चले गये. दिल पर क्या बीती है कह नही सकती. ये चिट्ठी तुम्हे लिख रही हूँ क्योंकि अपने दिल के हाथो मजबूर हो गयी हूँ. उस दिन लड़ाई के बाद मैं भी फ़ौरन खाना खाए बिना बाहर आ गयी थी. बहुत ढूँढा तुम्हे पर तुम तो जा चुके थे. क्या यही प्यार था तुम्हारा. मैं क्या करती, मौसी के घर आना पड़ा मुझे. अगले दिन भी मैं सुबह सुबह जैसे-तैसे ऑटो लेकर होटेल पहुँची. लेकिन तुम वाहा से भी निकल गये चेक आउट करके. मेरा इंतेज़ार भी नही किया तुमने. खून के आँसू रोई हूँ मैं तुम समझ नही सकते. बड़ी मुश्किल से वापिस आई थी मौसी के घर. मन तो कर रहा था कि मर जाउ कही जाकर पर इस उम्मीद में वापिस आ गयी कि क्या पता तुम मिल जाओ कही. तुम्हे तो दिखाई थी मौसी की गली मैने. अगर प्यार करते मुझसे तो मुझे ढूंड ही लेते. पर नही तुम्हे तो मुझे छोड़ कर भागने की पड़ी थी. चले गये चुपचाप मुझे छोड़ कर, सोचा भी नही की कैसे जीऊंगी मैं तुम्हारे बिना.

और हां मैने नोन-वेज खाना छोड़ दिया है बिल्कुल. आगे से कभी देखूँगी भी नही नोन-वेज को, खाने की तो दूर की बात है. मुझे अहसास हो गया है कि तुम ठीक थे. पेड़-पोधो और जीव जंतुओ में कुछ तो फरक रहता ही है. चिकन में जीवन ज़्यादा है एक हरी सब्जी के मुक़ाबले. मैं ये बात समझ गयी खुद ही. तुमने तो बहुत बुरे तरीके से समझाने की कोशिस की थी. मुझे आराम से कहते तो मैं ख़ुसी ख़ुसी तुम्हारे लिए कुछ भी छोड़ देती. नोन-वेज तो बहुत छोटी चीज़ है आदित्य.

अब ये बताओ कि अपनी ज़रीना को कब ले जाओगे यहा से. मैं खुद आ जाती पर अकेले सफ़र करते हुवे डर लगता है मुझे. कभी अकेले गयी नही कही. बहुत घबराती हूँ मैं ट्रेन में. अगर नही आओगे तो मुझे आना तो पड़ेगा ही. दिल के हाथो मजबूर जो हूँ. इन दीनो में यही जाना है आदित्य कि बहुत प्यार करती हूँ मैं तुम्हे और तुम्हारे बिना नही जी सकती. आ जाओ आदित्य मैं आँखे बिछाए तुम्हारा इंतेज़ार कर रही हूँ. ले जाओ अपनी ज़रीना को अपने साथ और जैसे जी चाहे वैसे रखो.

तुम्हारी ज़रीना.”

आदित्य की हालत बहुत नाज़ुक हो गयी पढ़ते-पढ़ते. आँसू टपक रहे थे ज़रीना के एक-एक बोल पर. बार बार पढ़ा उसने एक एक लाइन को. दिल में प्यार की मीठी मीठी चुभन हो रही थी. कुछ बोल ही नही पा रहा था आदित्य, लिखा ही कुछ ऐसा था ज़रीना ने. उसने वो चिट्ठी सीने से लगा ली और सोफे पर लेट गया.

ज़रीना को आदित्य की चित्ति अगले दिन मिली. वो तो सोई थी कमरे में जब मौसी ने आवाज़ दी.

“ज़रीना बेटा तुम्हारा खत आया है.”

ज़रीना ये सुनते ही बिस्तर से उठ गयी. “मेरे लिए खत कौन भेज सकता है. कही आदित्य ने तो नही भेजा. पर उसे तो यहा का अड्रेस भी नही पता होगा.”

ज़रीना तुरंत भाग कर बाहर आई. उसने साइन करके चिट्ठी ले ली. पीछे आदित्य का नाम था. वो तो झूम उठी ख़ुसी के मारे. पर मौसी के कारण अपनी ख़ुसी को दबा लिया किसी तरह.

“किसका खत है बेटा.” मौसी ने पूछा.

“है एक सहेली का मौसी मैं आराम से रूम में बैठ कर पढ़ूंगी.”

“ठीक है पढ़ ले. पहली बार तेरी आँखो में चमक देख रही हूँ. शायद ये खत कुछ शुकून देगा तुझे. जा पढ़ले अपनी सहेली का खत आराम से.”

“शुक्रिया मौसी.” ज़रीना फ़ौरन रूम में वापिस आ गयी. रूम में आते ही उसने कुण्डी बंद कर ली. उसका दिल बहुत ज़ोर से धड़क रहा था. ख़ुसी ही कुछ ऐसी थी फ़िज़ा में. बहुत फुर्ती से उसने लीफाफा खोला और चिट्ठी निकाल कर बिस्तर पर बैठ गयी. आदित्य की चित्ति कुछ इस प्रकार थी.

क्रमशः...............................