चुदासी चौकडी compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit batutomania-spb.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 14 Dec 2014 09:54

11
gataank se aage…………………………………….

Jab khadi huin baat khatm hone ke baad ..thodi der mere saamne chalte hue darwaaze ki taraf badh rahee thee ...unki bhari bhari gol gol chutad tight salwaar ke andar uchal rahe the ..bahar aane ko machal rahe the .... aur jab unki hatheli meri janghon par thee...kitna maansal, mulayam aur garm sa mujhe mehsoos hua thaa ....sach mein Mem Saheb mere dil-o-deemag par chaaye theen ..kal shaam ke baare sochte hi mere badan mein jhurjhuri si hone lagee ...

Mere jiwan ki teen haseen chehron, jinhein main apne jee jaan se bhi jyadaa chaahta thaa, ke saath pata naheen shayad ye chauthaa chehra bhi joodne walaa thaa ...kise maloom..???

Mem Saheb ke baare sochte sochte meri aankh lag gayee aur main so gayaa...

Main gehri neend mein hi thaa ..mujhe achanak apne louDe par kuch tight, geeli aur mulayam si cheez upar neeche hoti hui mehsoos hui... aur mera lund bhi akadta hua mehsoos hua....meri neend khuli ....

Ufffff ..maine Bindu ka ye roop kabhi nahin dekhaa thaaa....itni khuli khuli ..itna pagalpan liye...

Wo bilkul nangi mere louDe par baithee, mujhe chod rahee thee..pagalon ki tarah,,, uski chuchiyaan dol rahee theen ..uske baal beekhre jaa rahe the..chehra peeche ki taraf kiye siskaariyaan leti jaa rahee thee..use mere jagne ki koi parwah nahee thee..bas mere louDe pae pagalon ki tarah sawaari kiye jaa rahee thee...

Mera louDaa to pehle hi Mem Saheb ki yaad se machal rahaa thaa ...mujhe jhurjhuri si ho rahee thee ...aur Bindu ke dhakkon ne mujhe aur bhi pagal kar diya ...

Main bhi neeche apni chutad uchaal uchaal kar Bindu ke dhakkon ke saath apna louDaa uski choot mein dhansataa ja rahaa thaa ..dhansataa jaa rahaa thaaa...

Phir BIndu ke dhakke aur tez hote gaye ..aur tez aur phir uski choot ne mere louDe ko boori tarah jakad liya .... jakde rahaa, mere louDe par uski choot ke hontho ke kanpne ka ahesas hua ..aur phir Bindu dheeli pad gayeee ..uski choot ne apna paani mere louDe par ugalna shuru kar diya ....garm paani..lis lisaa pani mere louDe se hota hua mere pet tak pahoonch rahaa thaa ....

Bindu mere upar dher ho kar hanf rahee thee, maine use apne se joron se chipaka liya aur phir neeche se uski geeli choot mein do chaar jordaar dhakke lagaye ....uski chutad ko thaamate hue uski choot apne louDe par dhansa diya, louDe ko andar kiye jhadne laga ..jhatke marta hua ...choot ki garmi paa kar louDaa ke andar ka lawaa ubalta hua bahaar aa rahaa thaa ...

Bindu mere virya ki garm dhaar se sihar uthee ......aur mujh se chipak gayee ...mujhe choomne lagee ...pagalon ki tarah...

Dono ek doosre ki bahon mein pade the kaphi der tak ...

Ab jaa kar mere louDe ko, mere man ko shanti meeli...din bhar ki ankhmichauli ke baad ...haatheliyon ki garmi aur choot ki garmi bada fark hota hai ....haath ki garmi se andar kuch peeghalta hua bahaar aata hai par choot ki garmi se ubaltaa hua dhaar phenkta hai...

BIndu ki garm choot ne mujhe shaant kar diya ...

THodi der baad Bindu uthee aur mere bagal let gayee ....

ghadi ki or dekha to 930 baje the....kaphhi der tak main soyaa thaa ..Mem Saheb ki sunehri yaadon ki thapki ne meri ankhein band kar dee theen ..par mere louDe ko jagaa diya thaa ..aur Bindu ne use phir se shant kar soola diya ..

Maine uski or chehra kiya, use choom liya aur pucha

"Bindu ..... kya hua meri behna ko..aaj to tu ne mujhe hi chod diya..?"

Bindu jo ab tak itne bebak hue mere louDe ki sawaari kar rahee thee ..mere sawaal se jhenp gayee .aur apni hatheliyon se apna chehra chupa liya ....

"Hai .....dhat..... Bhai ...aise na bolo ...." Phir aur bhee sharmaate hue apna chehra doosri or kar liya...

" Are kya Bindu..achhaa ..ye bataa .jab main so rahaa thaa..mera louDaa kadak khadaa thaa ..? " Maine uski thuddi thaamte hue uska chehra apni taraf karte hue kahaa.

Us ne dheemi awaaz mein kahaa ..

"Haan Bhai ...din mein tum dono ke khel se main kaphi garm ho gayee thee..phir abhi tujhe jagaane aayee to dekha tera louDaa na jaane kyoon ek dum tannaaya sa pant ke andar hi khadaa hai..mujh se rahaa naheen gaya ..maine bahut saawdhaani se ahista ahista teri pant utar dee..tu jagaa naheen sota rahaa ..phir apne kapde bhi utar tere upar hi chadh gayee .....tujhe bura laga kya Bhai..??"

" Are BIndu ..bura.? Bahut achhaa lagaa Bindu ..bahut maza aayaa ...aur tera ye khul kar mujhe chodna ..ufff ..mat puch Bindu ...tujhe pehli bar itne khule dil se maze lete hue dekha ..mat puch kitna achhaa lagaa ..."

" Hai ..Bhai dekh na main kitni besharam ho gayee thee.." Aur phir apna munh mere seene mein chupa liya....

" Ha ha ha !! ..teri isi adaa par to main marta hoon jaan.." Maine use choomte hue kahaa ...

" Cheee kitne besharam ho tum bhi Bhai .....achha chalo utho ..kaphi der ho gayee hai ..khaanaa to kha lein ..."

Aur tabhi Maa ki bhi awaaz aa gayee ..hamein khane ko boola rahee thee...

Khanaa khaate -peete raat ke kareeb 11 baj gaye the..din bhar ki sargarmiyon ke baad aur pet bhar khaana aur lund bhar choot lene ke baad neend to achhee aanee hi thee..main bistar par let te hi Mem Saheb ki gadraayee choochiyon par apna sar rakhne ke sapne mein khoya khoya so gayaa..

Subeh neend khuli to dekha Sindhu mere louDe se boori tarah leepti thee ..apne galon se sehla rahee thee ..use choom rahee thee, maine jaagte hue kahaa .." Tu bhi na Sindhu ...are chod na yaar ...mujhe bathroom jaana hai...."

meri baat sun kar wo hans padee.." Theek hai Bhai bathroom chale jaaanaa par ye to bataate jao kal se main dekh rahee hoon tera lund itni boori tarah akdaa kyoon rehta hai....kya chakkar hai Bhai..koi nayee choot ka to chakkar naheen ..??"

Main bistar se uthaa apne louDe ko thaamte thaamte hue, Sindhu ko uske kandhon se apne se chipaka liya aur bola " Are nayee choot ka koi chance nahin re...jab teen -teen itne mast choot mere saamne hain..chauthee ka number kahaan hai re... aur tumhi logo ke maare to bechaara hamesha tantanayaa rehta hai...."

Meri baat sun Sindhu mast ho gayee aur mujhe choom liya " waah Bhai...subeh subeh mast ka diya re ..itni meethee meethee baat kar dee.." Aur mere tann louDe ko dabaa diya " Ha ha ha!! Jao jaldi jao ..ise khaali karo....."

Aur isi tarah hansi mazak ke mahaul mein hum sab chai-nashtaa kar apne apne kaamon par nikal gaye..

Dopahar ko khaane ke baad sab so rahe the..par meri ankhein to ghadee ke kante ki taraf thaa ...345 hote hi main uthaa ..haath munh dhoya ..baal sanwaare aur chal padaa Mem Saheb ka saamnaa karne ...mere andar phooljhadiyan phoot rahee thee..par maine apne ko kahaa

" Abe Jaggu ...thoda sambhaal ke beta ...seedha top gear mein hi gaadi mat chalaao ..thodi der 1st gear mein speed pakad le..warna saale, gaadi jhatke pe jhatka khayegi aur ruk jayegi....gaadi rukne mat de ..ise chalte rahna chahiye ...kyoon theek hai na..??"

Hmmm sahee hai gaadi chalte hi rehna hai.hamesha ..isi mein sab ki bhalaai hai...

Main lambe lambe kadamon aur dhadakte dil ke saath bangle ki or chal padaa ..

Darwaaza khatkhataya ...." Kaun ...Jaggu ..?? " Andar se Mem Saheb ki meethee awaaz aayee

Maine jawaab diya " Jeee Mem Saheb .."

"Darwaazaa khula hai re ..aa ja andar ..." Mujhe jawaab mila ..

Maine apni chappal utaari, darwaazaa khola aur andar gayaa...

Andar Meh Saheb sofe par leti TV dekh rahee thee ..aur main unhein phati phati ankhon se dekh rahaa thaa ....

Ufffff kya dress thaa aaj ka .... neeche gale tak ka dheela sa top ...uske andar unki bhari bhari gol gol chuchiyaan bas bahaar uchal padne ko taiyyar.....gehri laal lipstick se lage bhare bhare honth ... dheeli fitting waali jeans ...jo naabhi se neeche thee ..pet poora nangaa... bhare bhare pet..mansal pet ...rang bilkul doodhiya ... pair phailaye ..jis se tangon ke beech phuddi ka shape phoola phoola ubhar kar meri ankhon ke saamne ...

Main ek murti ki tarah khadaa thaa ..meri ankhein chaudi theen aur dil baag baag ...deemag mein halchal machee thee aur louDe mein harkat ...

Meri haalat dekhee unhone aur hanste hue kahaa " Are khadaa kyoon hai re..ye le gaadi ki chaabhee aur garage se car nikal ...."

Unki awaaz se main chaunk padaa, jaise kisi meethe sapne se jhakjhor ke jagaa diya gayaa ho mujhe..

Main aage badhaa ...unke haath se chaabhee lee ..aur bahaar nikal gayaa ...bahaar aa kar thodi der khadaa rahaa ..dil ki dhadkan shaant hui ..phir saamne garage ki or badh chalaa ..

Car nikali ...aur baraamde ki or drive karta hua unke portico mein khadi kar dee ..

Mem Saheb baraamde se neeche aayeen aur saamne ki seat par mere bagal baith gayeen ..

Maine pucha " achha Mem Saheb ap ko gear, clutch aur brake ke baare to pataa hi hoga ..?Ye kya hain aur kahaan hain..??"

" Are mujhe kuch maloom nahin ..mujhe sirf itna pataa hai car mein baith te kaise hain . ..mujhe bas sawaari karni aati hai .." Unhone muskuraate hue meri taraf dekha ..

Maine jawaab diya .." Matlab sab kuch bataanaa padega ek dum shuru se..."

Aur maine gear par haath rakhaa ..aur kahaa " Mem Saheb ..ye gear hai ..."

UNhone jhat meri haatheli par hi apni mansal, mulayam aur garm hatheli rakh dee ...aur halke se dabaate hue kahaa" Hmmm.. to ye chota sa dandaa gear hai...?"

"Haan Mem Saheb ye gear nahin sahi poochein to ye gear stick hai ..aur ise aage peeche kar ke hi gear lagaate hain ...aur neeche clutch aur uske bagal mein brake ..ye dono pair se dabaate hain.."Aur maine dono ko pairon se dabaataa hua dikhaayaa..

Abhee tak unki hatheli meri hatheli par hi thee ... ab wo meri hatheli apni hatheli se halke se thaam kar sehla rahee thee ....unke sehlane se mere badan mein current si daudni shuru ho gayee ....iska seedha asar mere pant ke andar ho rahaa thaa ..mera pant ubhra thaa ....

Maine apni hatheli hataane ki koshish kee, unhone hatheli meri hatheli se to hataa leen, par phir use mere ghootnon par rakhaa aur apna chehra neeche karte hue kahaa " Achaa ...jaraa dikha to clutch aur brake kahaan hain.."

Maine kahaa .." Mere pairon ki taraf neeche dekhiye na Mem Saheb ..bayein pair ke neeche clutch aur dayein pair ke neeche brake ..."

Unhone neeche jhookne ke liye apni hatheli mere bayein ghootne se hataate hue mere dayein ghootne par rakhnaa chaahaa ..par beech mein hi jaane kyoon unki hatheli ruk gayee aur mere pant ki ubhar par aayee aur use joron se hatheli se thaamte hue chehra neeche karte hue kahaa " Hmmm ..dekh rahee hoon..haan dikha " Aur itne der mein hi unhone mere ubhar ko masal daalaa joron se ...

Main uchal padaa ...

Meme Saheb ne hanste hue kahaa ..." Kya hua Jaggu ...? "

Unke chehre pe badi sharaarti si muskaan thee aur unki hatheli abhi bhi waheen ke waheen thee, aur unka mere louDe ko masalna jaari thaa ..mera louDaa tan tana rahaa thaa unki garm aur narm hatheli ki jakad mein ...

Main unki taraf dekhaa ..unki ankhon mein ek ajeeb hi chamak aur masti thee ...

Ab tak mujh mein ek jhijhaak thee, ek shankaa aur dar ..par unke is tarah se mere louDe ko pakadne se main samajh gayaa, Mem Saheb ko driving se jyaadaa driver pasand thaa ...aur mujhe to unki pasand se matlab thee ..unki khushi mein hi meri khushi thee..hum sab ki khushi ..Maa ne bhi yei kahaa thaa mujhe ....Maine Maa ki baat maan lee aur Mem Saheb ko khush karne ka man banaa liya ..

Maine ek tak unki or dekhta hua kahaa ..

" Kuch naheen Mem Saheb ..lagtaa hai ap ko gaadi ki gear stick se jyaadaa meri gear stick pasand aa agyee hai..dekhiye na kitne joron se ap ne meri stick jakad rakhee hai..."

Mera jawaab sun wo aur bhi jororn se hans padee '' Haan re der se hi sahi ..par ab tu sahee raaste par aa gayaa ...haan re jinda gear stick pakadne mein jyada mazaa hai na ..."

Par tera stick dhanka kyoon hai ..ise bahaar kar na re ..jaraa dekhoon to kitna badaa hai tera stick..itni badi gaadi ko aagey badhaa sakta hai ya naheen..? "

" Are kyoon naheen Mem Saheb ..bilkul dekhiye ..ap ki gaadi hai ..gear stick bhi ap ka hi hai ..."

Aur maine phauran unki hatheli apne pant ke upar se hatataa hua apni zip khol dee aur underwear ke side waali phank se use bahaar kar diya ...

Mera louDaa phanphanata hua kapdon se azaad hota hua uchalta hua kadak khadaa lehrataa hua hil rahaa thaa ...

Mem Saheb ki cheekh nikal gaye "" Uiiiiiiiii....." Unki ankhein chaudi theen ..poore ka poora 8" hawaa mein lehra rahaa thaa ...

" Waah re waah ...ye gear stick to bulldozer ko bhi hila dega re Jaggu ."

Aur unki hatheli ne phir se mere louDe ko boori tarah jakad liya aur dabane lagee . sehlaane lagee, unnki ankhein band theen ....aur unki doosri hatheli ki ungliyan apni choot sehla rahee thee ...

Main sihar uthaa ...unke haatheli mein mera louDaa aur bhi kadak ho uthaa ..

Mera gala khushk ho chalaa thaa ...

Maine bharraayee awaaz mein kahaa

" Mem Saheb ...ap ne mera gear stick to thaam liya ..par kya mujhe apni stick rakhne ki hole naheen dikhayengi....?

Dekhiye na car ki stick kitni majbooti se apne hole par teeki hai mujhe bhi to apni stick teekane ka hole dekhne dein ..."

" are manaa kis ne kiya .khud hi dekh lo na ... hole ki size kaisi hai..teri stick ke liye theek hai ya naheen ..ache se janch lo na Jaggu..."
kramashah………………………………………..


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 15 Dec 2014 03:38

12

गतान्क से आगे…………………………………….

उनकी बातें ख़तम होने से पहले ही मैं उनकी तरफ झुका..उनके जीन्स की ज़िप खोल दी ....अंदर कोई रुकावाट नहीं थी..उन्होने पैंटी नहीं पहेनी थी ..उनकी प्लॅनिंग सटीक थी ...ज़िप के अंदर का नज़ारा देखते ही मैं भी चीख उठा ... "अयाया ...उफफफफ्फ़"

उनकी फूली फूली चूत मेरी आँखों के सामने थी ...बिल्कुल शेव्ड ...गुलाबी फाँक ..बूरी तरह गीली ... दोनो होंठ अलग .. फिर भी कसी कसी ..

मैं बस देखता ही रहा ..उन्होने अपनी जीन्स अपनी चूतड़ उठा कर घूटनों तक कर दिया, टाँगें फैला दीं, चूत की फाँक बिल्कुल खुल कर मेरे सामने थी

उन्होने अपनी उंगलियों से चूत की फाँक अलग करते हुए कहा

" देख ले जग्गू ..रास्ता कैसा है ....तेरी स्टिक ठीक फिट होगी ना ..?? "

" मेम साहेब...अब बिना छूए कैसे बताऊं ..."

उन्होने झट से मेरी हथेली थामते हुए अपनी गर्म गर्म चूत की फाँक पर रख दी

और कहा " हां छू ले सहला ले ..टटोल ले, अच्छे से परख ले ...बाद में कुछ बोलना मत .."

मैने उनकी चूत अपनी हथेली से दबोच लिया ..अपनी मुट्ठी में भर लिया ...उफ्फ कितना मांसल, फूला फूला और मुलायम था .....

मेम साहेब भी चीख उठीं .." हाईईईईईईई.. उईईईईईईईईईईईई....आआआआआआः ..क्या किया रे तू ने ..." उनका पूरा बदन कांप उठा

मैं उनकी जाँघ के बीच अपना चेहरा किया और पूछा

" मेम साहेब ..मैं इन्हें अच्छे से देख सकता हूँ..? "

मेरी हथेली पहले से ही वहाँ टटोलने का काम बखूबी कर रही थी ..मेम साहेब बूरी तरह कांप रही थी ...उसकी चूत से लगातार पानी रीस रहा था

मेम साहेब ने अपनी सूस्त और नशीली आवाज़ में कहा' जग्गू पूछ मत ..बस जो करना है कर ले जल्दी ...उउईइ,,,अयाया " मेरी हथेली उनकी चूत को उंगलियों से सहलाए जा रही थी घीसती जा रही थी

मैने उनकी चूत पर अपना चेहरा झुका दिया ...मेरी सांस उनकी चूत से टकराई ...

उफफफफफ्फ़ अंदर क्या नज़ारा था ...उनकी चूत की मीठी मीठी सुगंध मेरे नाक के अंदर भर गयी ... चूत का सांकरा छेद बिल्कुल गीला गीला सा..अंदर उनकी चूत की दीवार फडक रही थी .. फक फक फक ...जैसे दिल की धड़कन ...

मुझ से रहा नहीं गया ...

मैने फिर पूछा .."मेम साहेब ....आप की चूत की सुगंध इतनी मीठी है, उसका रस और भी मीठा होगा ..क्या मैं रस चूस लूँ..?"

उन्होने बिना कुछ बोले, फ़ौरन मेरे सर के पीछे हाथ रखते हुए मेरे मुँह को अपनी चूत पर दबा दिया ....और अपनी चूतड़ भी उपर कर दी .. बॅकरेस्ट को भी नीचे और नीचे कर दिया..अब वो करीब करीब सीधी लेटी थीं और चूतड़ उपर हो गया और चूत मेरे मुँह के सामने...

मैं उसके बगल से उसकी चूत पर टूट पड़ा ..अपने होंठों से जाकड़ लिया ..और बूरी तरह चूसने लगा ... उसके चूत का रस सीधा मेरे गले से नीचे उतर गया ..क्या स्वाद था ...नमकीन और कुछ खट्टा खट्टा सा...पूरा मुँह मेरा भर गया था ...मैने पूरे का पूरा अंदर ले लिया ...

में साहेब उछल पड़ी .उसका चूतड़ कार की सीट से उछलता और फिर धँस जाता ..जितनी बार मैं चूस्ता, उनका चूतड़ उछलता और धंसता ...

" जग्गू ठीक है ना होल ..जाएगा ना तेरा स्टिक वहाँ ..?? "

"" हां मेम साहेब ....दिखता तो है जाएगा ..पर एक बार स्टिक लगा कर ठीक से देखना होगा ना ..कहीं धोखा ना हो जाए ..."

' हां जग्गू ..फिर ऐसा कर ..चल घर चलते हैं वहाँ अच्छे से स्टिक डाल कर देख ले ..."

इस बात पर मैं तो झूम उठा ...

" हां मेम साहेब .. चलते हैं ...और आप की होल जाँचते हैं ..."

मैं फ़ौरन ड्राइविंग सीट पर वापस अच्छे से बैठ गया ..मेम साहेब बॅकरेस्ट पर अपना सर रखे आँखें बंद किए सिसकारियाँ ले रही थी..अपनी चूत की छूसा का मज़ा अभी भी उनके चेहरे पर था....

और मैं रिवर्स करता हुआ बंगले की ओर कार तेज़ी से दौड़ा दिया ....

कार मैने पोर्टिको के अंदर खड़ी की..एंजिन बंद किया और झट उतरते हुए मेम साहेब की तरफ गया ..उनका दरवाज़ा खोला ....उन्होने मेरे कंधों को थाम लिया और अपना वजन मेरे कंधों पर डालते हुए कार से बाहर आ गयी ...

बाहर आते ही उन्होने मेरी कमर के गिर्द अपना हाथ रख दिया, मुझे अपनी तरफ खिचते हुए अपने से चिपका लिया ...मैं थोड़ा झिझक रहा था..कहीं कोई देख ना ले...मैं पीछे मूड के देखा ...मेम साहेब समझ गयीं ... उन्होने मेरा हाथ पकड़ अपनी मोटी., सुडौल और मांसल कमर के गिर्द कर दिया और कहा

" डर मत जग्गू ..यहाँ कोई नहीं अभी..कोई नहीं देखेगा " और मुझे और भी करीब खिच लिया ....मैने भी उनकी कमर की गोश्त को मुट्ठी से दबाता हुआ उन से और चिपका गया ..और घर के अंदर दोनो एक दूसरे से चिपके बढ़नेलागे .उनकी कमर दबाने में मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे किसी बड़े मुलायम गद्दे में हाथ धंसा है ..मैं और दबाता रहा ...बड़ा मज़ा आ रहा था ...ऐसा महसूस मुझे आज तक नहीं हुआ था ...

हम दोनो कमरे के अंदर आ गये थे ...

मैं तो पागल हो रहा था..मेम साहेब का पूरा जिस्म भरा भरा ..जहाँ से दबाओ ..बस मुट्ठी भर जाती उनके मुलायम और गर्म गर्म गोश्त से..उफफफफ्फ़ ...मन तो कर रहा था उनको खा जाऊं...

अंदर जाते ही मैने उन्हें सोफे पर बिठा दिया और दरवाज़ा बंद कर दिया ..

वो सोफे पर टाँगें फैलाए, अपनी पीठ सोफे पर टीकाए बैठी थी..उनके जीन्स की ज़िप अभी भी खुली ही थी ...टाँगें फैलने से उनकी चूत सॉफ नज़र आ रही थी ...मैं उनके सामने खड़ा बस उन्हें निहार रहा था....मुझे समझ नहीं आ रहा था कहाँ से शुरू करूँ ...

उन्होने मुझे देखते हुए अपने हाथ फैला दिए मानो कह रही हों " आ जा मेरी बाहों में..चूस ले, खा ले, नोच ले, निचोड़ ले मुझे..."

मैं उनकी टाँगों के बीच आ गया और उनसे लिपट गया..मेरे पॅंट की ज़िप भी खुली थी, लौडा बाहर ही था पूरी तरह तन तनाया ..मैने उनकी चूत को अपने लौडे के नीचे महसूस किया ..अपनी कमर नीचे करता हुआ उनकी चूत पर लौडा दबा दिया ..और अपनी हथेली उनकी दोनो

चूचियों पर रख मसलना शुरू कर दिया, अपने होंठ उनके भरे भरे होंठों पर लगा उन्हें जोरों से चूसना शुरू कर दिया ...

मेम साहेब आँखें बंद किए मज़े के सागर में गोते लगा रही थी ..सिसकारियाँ ले रही थी ...उनके हाथ मेरे सर पर थे और उसे अपने होंठों से और भी चिपका रही थी ..उनका मुँह पूरा खुला था ..

मेरा लौडा उनकी चूत दबाता जा रहा था, मेरी हथेलिया उनकी भारी भारी चुचियाँ दबाए जा रही थी ..पूरे का पूरा मेरी चौड़ी हथेली में भरी भरी थी ..गोल गोल मोटी चुचियाँ ..

फिर एक दम से मुझे अलग करती हुई वो उठ पड़ी सोफे से ..और मेरा हाथ पकड़ते हुए मुझे घसीट ते हुए अंदर की ओर चल पड़ी ...और ड्रॉयिंग रूम से लगे अपने बेड रूम में पलंग पर बिठा दिया ...और एक झटके में अपने कपड़े उतार दिए ..फिर मेरी तरफ बढ़ी ..मेरे शर्ट और पॅंट भी उतार दिए ...अंडरवेर अपनी उंगलियों से खिचते हुए नीचे कर दिया .मैने भी बिना देर किए उसे अपने पैरों से बाहर कर दिया..

हम दोनो एक दम नंगे एक दूसरे के सामने खड़े थे..

मैं तो बस उन्हें देखता ही रह गया ...

मेम साहेब उपर से नीचे तक बस गोलैईयों से भारी थी ...लंबा कद उनकी गोलैईयों को भद्दा होने की बजे एक बहुत सेक्सी रूप दे रहा था..मुझे ऐसा लगा उन पर टूट पडू और गोलैईयों को दबा दबा कर पीचका दूं ....उनकी भारी भारी चुचियाँ..उनका भरा भरा पेट ...मोटी मांसल जंघें..फूली फूली चूत ...गोल भरा भरा चेहरा और गुदाज़ गाल.... रस से भरे भरे होंठ ....उफफफफफफ्फ़ ..मैं देखता रहा...दूधिया रंग ...और सब से बड़ी बात थी उनका एक एक अंग कसा कसा था ..कहीं भी उम्र की मार नहीं थी ..कहीं कुछ भी ढीला नहीं था ... लगता था कभी किसी मर्द ने उन्हें रौंदा नहीं था ..निचोड़ा नहीं था ..बिल्कुल अछूती सी...

" अरे सिर्फ़ देखता ही रहेगा.. " और फिर से उन्होने अपनी टाँगें फैलाते हुए अपनी बाहें खोल दीं और खुद ही आगे बढ़ते हुए मुझे अपने से चिपका लिया ...और अपनी जांघों के बीच मेरे तननाए लौडे को जोरों से दबा दिया ..

उन्होने मुझे धकेलते हुए पलंग पर गीरा दिया और मेरे उपर चढ़ बैठी ...और मेरे लौडे को अपनी हथेलियों से दबोच लिया ...जोरों से दबाने लगी ..मानो उसे उखाड़ लेंगी और अपनी चूत में घूसेड देंगी...उफफफफ्फ़ ..मेरे लौडे के लिए इतना पागलपन ..मुझे अपनी प्ययरी बहेना सिंधु की याद आ गयी ...अभी मेम साहेब एक कम्सीन लड़की की तरह चूदासी थीं ..लौडा अपने अंदर लेने को बेताब ...

मैने उन्हें कमर से थामते हुए अपने नीचे कर दिया ..मैं भी अब उन्हें अपना खेल दिखाने को पागल हो उठा ....और टूट पड़ा उन पर ...उनकी चुचियाँ अपनी हथेलियों मे भर लिया और मथने लगा ...उन्हें आटे की तरह गूँथने लगा ...इतना मुलायम और भरा भरा ...जितना दबाओ और दब्ता ही जाता था ...कोई हद नहीं थी ...

अपने लौडे को उनकी जांघों के बीच जोरों से दबाता रहा ...लौडा बार उनके रस से सराबोर चूत पर फिसल जाता ..मैं फिर से अपनी कमर उठा उठा कर दबाता ...अपने होंठ उनके होंठों से लगा चूस्ता जाता ..चूस्ता जाता ..उनके मुँह से थूक और लार टपक रहे थे ..मैं उन्हें भी चूस चूस अंदर लेता जाता..फिर अपनी जीभ अंदर डाल दी उनके मुँह में ..उनके मुँह के अंदर घुमाता रहा अपनी जीभ ...मेम साहेब अब "हाईईईई...उईईईईई...ऊवू ...हाआँ ..हां ..अया ..आ " किए जा रही थीं..मेरी पीठ पर अपने हाथ रखे मुझे अपने से चिपका लिया था .अपनी टाँगें मेरे चूतड़ पे रख दबाती जाती ..मेरा लौडा उनकी चूत पर रगड़ता जा रहा था ...

दोनो पागल हो उठे थे...

" जग्गू ..चूस ले रे ..चाट ले रे मुझे ..उफफफ्फ़ ...आज मुझे मार डाल ..ले ले अपने अंदर ..कितने दिनों बाद आज किसी ने मुझे हाथ लगाया है..अपनी बाहों में लिया है....हा ..रे ...निचोड़ ले मुझे ....उफफफफ्फ़ ..मैं मर जाऊंगी...दबा ..दबा खूब दबा मेरी चुचियाँ ...इन्हें चूस ना ..आज तक मुझे किसी ने नहीं चूसा रे..जग्गू ..चूस ले ...मेरी भूख मीटा दे रे ..मेरा सब कुछ ले ले.....उफफफ्फ़..मैं तो तेरी हूँ रे..कैसे भी कर कुछ भी कर ...चोद डाल मुझे ...." मेम साहेब की भूख उबल पड़ी थी ...इतने दिनों तक का रुका हुआ हवस का बाँध फूट पड़ा था

मैं उन्हें खाए जा रहा था ..दबाए जा रहा था..उनके हवस की पागलपन ने मुझे भी पागल कर दिया था ..मैने अब उनकी चूचियों को अपने हाथों से दबाता हुआ अपना लौडा चूचियों के बीच कर दिया ..और चूचियों के बीच चुदाई करना चालू कर दिया ...

उफफफफफ्फ़ ...मेरा लौडा चूचियों के बीच, उनकी मोटी, मुलायम और गोल गोल चूचियों के बीच खो गया था ...मेम साहेब कराह रही थी ....कभी कभी जोरदार धक्के से लौडा चूचियों से बाहर निकलता हुआ उनके होंठों से जा लगता ...मेम साहेब उसे जीभ से चाट लेती .....उफफफ्फ़ मैं सिहर उठा था ...


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 15 Dec 2014 03:38

मेम साहेब तड़प रही थी ...लौडा अपनी चूत के अंदर लेने को मचल रही थी ..चूतड़ उछल रही थी ...

" हाईईइ रे ..देख ना मेरी चूत का हाल जग्गू ..कितना पानी चोद रहा है...आह अब चोद डाल रे..फाड़ दे मेरी चूत ...कितनी खुजली है अंदर ..मीटा दे रे मेरी खूजली...उफफफफ्फ़ ...हां रे आ जा ....आ जा मेरे अंदर ...."

और अब मेरे लिए भी सहन करना मुश्किल हो रहा था ..मेरा लौडा चूचियों के दबाओ से एक दम कड़क हो चूका था ...और उनकी चूत बिल्कुल गीली ..

मैं उनकी टाँगों के बीच आ गया ...

उन्होने टाँगें फैला दीं ..उनकी चूत फैल गयी ...गुलाबी चूत..मखमली चूत ..गदराई चूत ...बिल्कुल चीकनी और गीली ...

मैने उनकी चूत पर उंगली रख उसके होंठों को और भी खोल दिया ...अंदर रस से चमक रही थी उनकी चूत ..

सुपादे को छेद पर रख अपने लौडे को जोरों से दबाता हुआ उनके मुलायम चूत पर घीसता हुआ दो चार बार उपर नीचे किया ....

मैं सिहर गया उनके मुलायम और गद्देदार चूत के महसूस से और मेम साहेब उछल पड़ीं ...उनका चूतड़ उछल पड़ा .." हाऐ रे...कितना तडपाएगा रे ...मैं मर जाऊंगी जग्गू ..उउईइ.....अयाया .डाल दे ना ...डाल ना रे ....."

और अब मैने उनकी चूत पर घीसना रोक दिया ..चूत के होल पर अपना लौडा रखा और एक धक्का लगाया ...लौडा फिसलता हुआ आधे से भी ज़्यादा अंदर घूस गया ...

मेम साहेब सिहर उठीं ...पर अंदर लौडा टाइट था .उनकी चूत मुलायम थी ...गर्म थी ..पर इतने दिनों तक अन्चूदि ...अंदर रास्ता टाइट था ...उन्होने अपने हाथों को नीचे ले जाते हुए चूत को और भी फैला दिया .." ले अब और मार ..पूरा अंदर डाल दे ना ..अपने जड़ तक .."

मैने अपने हाथ नीचे ले जाते हुए उनकी मोटी और गुदाज़ चुतडो को थाम लिया ..उसे उपर उठाया और फिर धक्का लगाया ..लौडा अंदर था ..पूरे का पूरा...

" हाईईईईईईईईईईईईईईईईईई रे ....अयाया ....." चीख पड़ीं में साहेब .उन्हें थोड़ा दर्द महसूस हुआ ..उनकी आँखों से पानी टपक पड़ा

मैं उनकी चूत के अंदर लौडा पेले रहा थोड़ी देर ..उन से बूरी तरह चिपका रहा ...

जाँघ से जाँघ ..उनके पेट से पेट और उनकी चूचियों से मेरा सीना चिपका था ....और चूत के अंदर लौडा ..मेरे बॉल्स उनकी चूत पर...

उन्होने अपने हाथों से मुझे जाकड़ रखा था ..और चूतड़ बार बार उपर किए जा रही थी ..और भी मेरे लौडे को अंदर लेने को ...

हम दोनो इसी तरह चिपके रहे थोड़ी देर .एक दूसरे में पूरी तरह समा जाने को तड़प रहे थे...

" जग्गू ....रुक मत रे ..चल अब चोद ना ...फाड़ दे ना रे मेरी चूत ....उफफफ्फ़ ....मेरी परवाह मत कर ..... " मेम साहेब बोलती जा रही थीं और मैं और भी मस्त होता जा रहा था

मैने लौडा बाहर निकाला और फिर जोरदार धक्के लगाने शुरू कर दिए ....

पूरा कमरा ठप ठप की आवाज़ से भर गया ...मेरा लौडा जड़ तक अंदर जा रहा था ...मेरी जंघें उनकी गूदाज़ और भरे भरे जांघों से टकरा रही थी ...

उनकी चूत के अंदर कितनी गर्मी थी, कितना मुलायम था ...

मैं धक्के पे धक्का लगाए जा रहा था और मेम साहेब पागलपन की हद पर थीं...चीख रही थी ..सिसकारियाँ ले रही थी..चूतड़ उछाल रही थी ..मुझे जाकड़ रही थी, मुझे चूम रही थी...चाट रही थी ..काट रही थी ...उफफफफ्फ़ ..इतनी भूख ...

उनकी पागलपन को देख मेरे रग रग में एक अजीब मस्ती, नशा और जोश बढ़ता जाता ..जिसका सीधा असर होता मेरे लंड पर....उनकी चूत के अंदर ही और भी कड़क होता जाता..ऐसा महसूस हो रहा था मानो उनकी चूत फाड़ता हुआ उनके अंदर और अंदर घूस जाएगा ..मेरा उनके गुदाज चुतडो पर नीचे से हथेली का दबाव भी बढ़ता जाता ..जैसे मैं उन्हें नोच लूँगा....और धक्के तेज़ और तेज़ होते जाते..ठप..ठप ...ठप ....

मेम साहेब उछल रही थी हर धक्के पर, हिचकोले ले रही थी..झूम रही थी ..उनका अपने पर अब कोई भी क़ाबू नहीं रह गया था....

इसी मस्ती के दौरान अचानक मेरे लौडे को उनकी चूत ने जोरों से जाकड़ लिया ...कस कर ..मानो मेरे लौडे को चूस लेंगी ...

" ओओओओह जग्गू ....अयाया रे ..ये क्या हो रहा है मेरे अंदर ..कुछ समझ में नहीं आ रहा रे ...आज तक मुझे ऐसा नहीं हुआ ...अफ मुझे क्या कर दिया रे ....अयाया ....मेरा सब कुछ अंदर कांप रहा है जग्गू ...आआआआआः

उईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई.....मुझे सहन नहीं हो रहा रे जग्गू, क्या किया रे तू ने ..ये कैसी चुदाई है रे ..आआआआआआआः ..क्या निकला रे मेरी चूत से ..मेरे अंदर से ....आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ...."

और उनकी चूत ने और भी जोरों से मेरे लौडे को जकड़ा और फिर एक दम से रस की धार छोड़ते हुए ढीली होती गयी ......

मेम साहेब को शायद जिंदगी में पहली बार झड़ने का मौका आज मिला ...

मेरा लौडा उनके चूत रस से सराबोर था, उनकी जंघें कांप रही थीं ... बदन थरथरा रहा था..चूत के होंठ भी फडक रहे थे ....

मेरा लौडा अभी भी तन्नाया था ..और उनके चूत के अंदर ही था ...

पर उनके रस की गर्मी से गन्गना उठा था, झुरजुरा उठा था ..मैं भी दो चार धक्कों के बाद अपनी पीचकारी उनकी चूत में लौडा अंदर किए छोड़ दी और झटके खाता झाड़ता गया ..

मेम साहेब मेरे वीर्य की धार और गर्मी से फिर से सिहर उठी, उनका पूरा बदन गन्गना गया ....

मैं उनके मुलायम और गर्म सीने से लगा उनकी चूचियों पर सर रखे पड़ा रहा..

दोनो हाँफ रहे थे.. और आँखें बंद किए एक दूसरे की बाहों में लेटे रहे ...

थोड़ी देर बाद मेम साहेब ने आँखें खोलीं, मेरे बाल सहलाते हुए मुझ से कहा

" जग्गू ... तू ने जो आहेसास मुझे कराया ..मैं जिंदगी भर नहीं भूला सकती ..एक औरत होने का आहेसस मुझे आज पहली बार मिला .."

और मुझे बार बार चूमती रही ..पुच्कार्ती रही ...

अपनी गर्म छाती से लगा लिया ..बार बार मेरे चेहरे को अपने सीने से लगाती और चूमती जातीं ..

और फिर हंसते हुए कहा " ह्म्‍म्म.अच्छा ये बता मेरा होल ठीक है ना तेरे गियर स्टिक के लिए ..??'"

मैने उनकी तरफ देखते हुए कहा " हां मेम साहेब बिल्कुल फिट है आप का होल ..." और फिर हम दोनो जोरों से हंस पड़े...

जब मेम साहेब हंस रही थी...उनकी चुचियाँ इस तरह हिल रही थी .उछल रही थी मानो..उनके साथ उनकी चुचियाँ भी हंस रहीं हों....बड़ा मस्त लग रहा था ....मैं उन्हें ही देखता रहा..एक टक...उनकी उछालती, हिलती सीने की उभार पर मेरी नज़रें टीकी थीं..

मेम साहेब की नज़र मेरी ओर हुई...उन्होने मुझे उनकी चूचियो को घूरते हुए देखा ...

" ऐसे क्या घूर घूर के देख रहा है...रे.? " ये कहते हुए उन्होने फ़ौरन अपनी चूचियों को अपनी हथेलियों से थामते हुए मेरी ओर किया और फिर कहा" अरे जग्गू...आ जा ..थाम ना इन्हें..दबा ले, चूस ले ..काट ले ....आ ले पकड़ " और उन्होने मेरा हाथ पकड़ अपनी चूचियों पर रख दिया...

मेरी हथेलियों ने उनकी भारी भारी गुदाज़ चूचियों को जाकड़ कर दबाने लगा ..गूँथने लगा ..जोरों से ...अया क्या चुचियाँ थीं उनकी....जितना दबाओ ..नीचे से उतना ही उछल पड़ता..बिल्कुल स्पंज की तरह .....

" हां रे ..हन दबा ..दबा ..मसल जितना चाहे मसल दे रे जग्गू..कितने दिनों तक बेचारी दोनो ऐसी ही पड़ी थीं...देख ना तेरे हथेली मैं कैसे उछल रही हैं .." फिर उन्होने अपने हथेली से उन्हें दबाते हुए मेरे मुँह की तरफ कर दिया...."ले ..ले ..इन्हें चूस ना ...चूस ले ..खा जा ..." और उन्होने मेरे मुँह में अपनी चूची घुसेड दी ..और मैं भी चपड चपड जीभ घूंडी पर लगाता हुआ उन्हें चूसने लगा ....होंठों से पूरी तरह जकड़ते हुए ......

क्रमशः…………………………………………..